रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

भावनगर - एक पुरस्कृत शहर

भावनगर मुख्य रूप से कपास उत्पादों से सम्बन्धित गुजरात के महत्वपूर्ण व्यापार केन्द्रों में से एक रहा है। शहर समुद्र के व्यापार, जवाहरात और चांदी के आभूषणों के कारोबार में भी प्रसिद्ध रहा है।

भावनगर तस्वीरें, घोघा  समुद्रतट  -  समुन्द्र से आती लहरें
gujarattourism.com
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

इतिहास

भावनगर 1723 में भावसिंहजी गोहिल द्वारा स्थापित किया गया था। गोहिल वास्तव में मारवाड़ से चले गए और वाडवा नामक एक गांव में अपने केंद्र की स्थापना की थी, जो वर्तमान में भावनगर शहर के रूप में जाना जाता है। भावनगर शहर एक किले से संरक्षित हैं, और इसने लगभग दो सदियों से अफ्रीका, मोजाम्बिक, जंजीबार, सिंगापुर और भारत के साथ फारस की खाड़ी जैसे स्थानों को जोड़ते हुए एक प्रमुख बंदरगाह के रूप में कार्य किया था।

भावनगर राज्य भावसिंहजी के विभिन्न व्यापार के प्रयत्नों के कारण, भावनगर की स्थिति एक छोटे से राज्य से बदल कर गुरुत्व के एक महत्वपूर्ण जगह में हो गई है। उन्हीं की तरह भावसिंहजी के उत्तराधिकारियों ने भी समान तरीके से उत्साहजनक रूप से व्यापार जारी रखा।

ब्रिटिश राज के दौरान

19 वीं शताब्दी के दौरान भावनगर राज्य रेलवे बनाने के द्वारा भावनगर अपने रेलवे का निर्माण करने वाला पहला भारतीय राज्य बन गया था। प्रशासन द्वारा उठाए गए आधुनिकीकरण के प्रयासों के कारण, भावनगर धीरे - धीरे काठियावाड़ की सबसे उन्नत देशी राज्य में बदल गया। भावनगर के महाराजा अंग्रेजों को बहुत करीब बने रहे थे और उन्हें उनके द्वारा मानद खिताब से नवाजा गया। शाही परिवार सबसे सम्मानित और प्रतिष्ठित परिवारों में से एक बन गया।

सांस्कृतिक शहर

भावनगर हमेशा शिक्षा और संस्कृति का केंद्र रहा है, जिसके लिए यह गुजरात के "संस्कारी केन्द्र ' कहा जाता है। नरसी मेहता, गंगा सती, झावरचन्द मेघानी, कवि कांत, गोवर्धन त्रिपाठी और कई अन्य प्रख्यात कलाकारों, लेखकों और कवियों ने इस सांस्कृतिक विरासत के लिए योगदान दिया।

भूगोल

भावनगर काठियावाड़, गुजरात के दक्षिणी भाग में और खंभात की खाड़ी के पश्चिम में स्थित एक तटीय शहर है। यहां खाड़ी के प्रवेश द्वार पर एक महत्वपूर्ण बंदरगाह गोघा है।

भावनगर का मौसम

यहां जलवायु सूखे, गर्म गर्मी और बरसाती मानसून के साथ अर्द्ध शुष्क है। सर्दियों के दौरान तापमान अपेक्षाकृत कम होता है, और यह जगह आम तौर पर समुद्र की निकटता के कारण नम रहती है।

भावनगर में और आसपास के स्थान

इस जगह में ब्रह्मा कुंड जैसी ऐतिहासिक स्मारकें मौजूद हैं, जो वास्तव में कुआं है, जो सिद्धराज जयसिंहजी के समय के दौरान सजाया गया था। निर्माण में देवताओं के रूपांकन और मूर्तियां और अद्भुत पत्थर के काम और नक्काशियां शामिल हैं। एक अन्य उल्लेखनीय इमारत है नीलमबाग महल, जो महाराजा का वर्तमान घर है। अपने संरक्षक तख्तसिंहजी के नाम पर रखा गया तख्तेश्वर मंदिर, पालिताना जैन मंदिर, गोपीनाथ महादेव मंदिर, खोदियर मंदिर और गंगा देवी मंदिर शहर में घूमने वाले कुछ धार्मिक स्थान हैं।

धरोहर स्थान

वेलावडर ब्लैक बक नेशनल पार्क उष्णकटिबंधीय चरागाह वाला भारत में अकेला राष्ट्रीय पार्क है। दुर्लभ कृष्णमृग, हिरन, लकड़बग्घा, लोमड़ी, भेड़िया, ब्लू बैल, जंगली बिल्ली, सियार, जंगली सुअरों की तरह पशु यहां पाया जाते हैं। यह कई खतरनाक पंक्षियों का भी घर है, जैसे सफेद हवासील, मार्श हूबरा बस्‍टर्ड, पिलिड हैरियर, सौरस व्‍हाइट स्‍टॉर्क, मोनटेग, लेसर फ्लॉरिकन और अन्‍य पंक्षी छोटे पांचव वाली सर्पचील, बोनली ईगल, बहुत ज्‍यादा देखी जाने वाली चील, लंबे पैरों वाले गिद्ध और छोटी इंपीरियल चील शामिल हैं।

पीरम बेट गोघा के करीब एक द्वीप है। इस द्वीप में एक टूटा हुआ किला है और आप यहाँ पर कई लुप्तप्राय प्रजातियों को देख सकते हैं। यह प्रकृति की जैव विविधता का अनुभव करने के लिए सबसे अच्छी जगह है। भावनगर, गोहिलवाड के रूप में भी जाना जाता है, गोहिलों की भूमि हमेशा गोहिलों के गौरव का प्रतीक रही है और अभी भी ऐसी ही है। गोहिलों की विरासत का अनुभव करने के लिए भावनगर आना सबसे सही होगा।

भावनगर तक कैसे पहुंचे

भावनगर की यात्रा की योजना बनाने वाले यात्री हवाई, रेल और सड़क मार्ग के जरिए गंतव्य तक पहुँच सकते हैं।

 

Please Wait while comments are loading...