यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

रतनपुर, बिलासपुर

अवश्य जाएँ

रतनपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 200 पर बिलासपुर शहर से 25 किमी की दूरी पर स्थित है। रतनपुर विभिन्न राजवंशों के विभिन्न शासकों द्वारा लाया विशाल ऐतिहासिक बदलाव का साक्षी रहा है। रतनपुर में प्रवेश करते ही हायहाय राजवंश के बाबा भैरवनाथ क्षेत्रपाल सिंह की एक नौ फुट लंबी मूर्ति देखने को मिलती है।

बिलासपुर तस्वीरें, रतनपुर - दीवार
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

इसका महत्व इसलिये भी है क्‍योंकि यह कलचुरी राजवंश द्वारा छत्तीसगढ़ की पुरानी राजधानी के रूप में शुरु की गई थी। इसकी स्‍थापना रतनराज ने किया था, जिनके पूर्वजानें ने 11वीं शताब्‍दी ई. में रतनपुर को अपनी राजधानी बनाया था, बाद में यह हइहइयावंशी साम्राज्‍य और भोंसले की भी राजधानी रही। अंत में, अंग्रेजों ने यहां पर आजादी तक राज किया।

रतनपुर में महामाया मंदिर बहुत प्रसिद्ध है और राज्य भर से पर्यटकों को आकर्षित करता है। कलचुरियां के राजा रतनसेन ने मंदिर का निर्माण किया। वहां पर तालाब व उसके तट पर स्थित कुछ प्राचीन मंदिर भी हैं। भक्त श्रद्धालु मंदिर में प्रार्थना करने एवं आशीर्वाद की मांगने यहां आते हैं।

बुद्ध महादेव, रत्‍नेश्‍वर महादेव मंदिर और लक्ष्मी मंदिर रतनपुर के अन्य मंदिरों हैं। बसें रायपुर से आसानी से उपलब्ध हैं। रतनपुर पाली और कोरबा के निरधी से 15 से 30 किलोमीटर की दूरी पर हैं।

मराठा राजा बिंबाजी भोंसले ने पहाड़ की चोटी पर एक और प्रसिद्ध मंदिर रामटेक का निर्माण कराया। रतनपुर में यह प्राचीन किला एक महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है। किला एक बर्बाद हालत में नहीं है और इस तरह के पर्यटक यहां पर आकर इतिहास के बारे में जानकारियां बटोर सकते हैं। गणेश गेट काफी लुभावना है।

गंगा जमुना नदियों की मूर्तियों के अलावा, गेट पर एक प्राचीन पत्थर की मूर्ति किले के सबसे आकर्षक हिस्से के रूप में बनी हुई है। किले में प्रवेश करते ही ब्रह्मा, विष्णु, शिचोराय,जगरनाथ मंदिर और भगवान शिवजी के तांडव नृत्य की मूर्तियां एक किले में प्रवेश करती हैं और एक लगती हैं। खूटाघाट और खुडिया बांध रतनपुर में स्थित बांध हैं।

Please Wait while comments are loading...