रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

गोरखपुर पर्यटन - दुनिया को भगवद् गीता का पाठ सिखाया

गोरखपुर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से 250 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गोरखपुर शहर मौर्य, कुषाण,शुंगा और गुप्ता साम्राज्य का एक खास हिस्सा रहा है। इस शहर का नाम ऋषि गोरखनाथ के नाम पर रखा गया था। गोरखपुर में उत्तर पूर्व रेलवे का हेड क्वार्टर भी है। जहाँ से कुछ खास शहरों से लिए ट्रेने मिलती है, जैसे कुशीनगर, कपिलवस्तु, और नेपाल।

गोरखपुर तस्वीरें, गीता वाटिका - गीता वाटिका के अन्दर उज्ज्वल पीला मंदिर
Image source: www.wikipedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

गोरखपुर और उसके आसपास के पर्यटक स्थल

रेती चौक से चार किलोमीटर की दूरी पर गीता प्रेस स्थित है। इस जगह पर श्री महाभागवत गीता के अठारह भाग संगमरमर की दीवारों पर लिखे हुए देखे जा सकते हैं। भारत के अन्य शहरों और कस्बों की तरह यहाँ पर भी बहुत सारे मंदिर है जैसे आरोग्य मंदिर जहाँ स्वस्थ जीवन के लिए प्रकृति चिकित्सा मिलती है। गोरखनाथ मंदिर इस क्षेत्र के सबसे प्रमुख और भव्य मंदिरों में से एक है। प्राकृतिक आकर्षणों के संदर्भ में, गोरखपुर रामगढ़ ताल, या झील जो की 700 हेक्टेयर में फैली हुई है। और कुश्मी वन, मुख्य रूप से साल और सेकोई के पेड़ों को अपने में समेटे हुए है। गोरखपुर बहादुर सिंह तारामंडल और इमामबाड़ा (दरगाह) जो 17 वीं सदी के सूफी संतो का घर भी था।

गोरखपुर की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय

गोरखपुर जाने के लिए अच्छा समय नवंबर और मार्च के बीच है।

गोरखपुर कैसे पहुंचे

गोरखपुर हवाई, रेल और सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है।

Please Wait while comments are loading...