रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

गुवाहाटी पर्यटन - संस्कृति के संगम का शहर

पूर्वोत्तर भारत का प्रवेश द्वार गुवाहाटी असम का सबसे बड़ा शहर है। ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे पर स्थित यह शहर प्राकृतिक सुंदरता से ओत-प्रोत है। यहां न सिर्फ राज्य, बल्कि पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र की विविधता साफ तौर पर देखी जा सकती है। संस्कृति, व्यवसाय और धार्मिक गतिविधियों का केन्द्र होने के कारण गुवाहाटी बेहद रंगीन हो उठता है। यहां दशकों से विभिन्न नस्ल, धर्म और क्षेत्र के लोग रहते आए हैं, जिससे यह जगह विविधताओं से भरा पड़ा है।

गुवाहाटी तस्वीरें, उमानंदा मंदिर -  पी-कॉक आइलैंड
Image source: wikimedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

गुवाहाटी- समृद्ध इतिहास

इतिहास से पता चलता है कि गुवाहाटी को पहले प्रागज्योतिषपुर के नाम से जाना जाता था, जिसका अर्थ है- पूर्व का प्रकाश। महाभारत में इस बात का उल्लेख मिलता है कि प्रागज्योतिषपुर एक असुर राजा नरकासुर की राजधानी हुआ करता था। मुगलों ने कई बार असम पर आक्रमण किया पर गुवाहाटी में प्रवेश के दौरान उन्हें हर बार शिकस्त ङोलनी पड़ी।

गुवाहाटी के पर्यटन स्थल

गुवाहाटी पर्यटन स्थलों से भरा पड़ा है। यहां के कामाख्या मंदिर को घूमे बिना गुवाहाटी की यात्रा अधूरी मानी जाएगी। ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे से आप सरियाघाट पुल का विहंगम नजारा देख सकते हैं। अगर आप यहां जा रहे हैं असम स्टेट म्यूजियम, गुवाहाटी तारामंडल और शहर के ढेर सारे मंदिरों को देखना न भूलें।

गुवाहाटी पर्यटन- प्राकृतिक सौंदर्य वाले इस शहर की एक झलक

पूर्वोत्तर का केन्द्र होने के कारण गुवाहाटी व्यवसायिक रूप से काफी गहमागहमी वाला शहर है। यहां इस क्षेत्र का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन के साथ-साथ एकमात्र अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट भी यहीं है। साथ ही गुवाहाटी मेघालय सहित अन्य राज्यों को जोड़ने का काम भी करता है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी (आईआईटी) के कारण यह शहर शिक्षा के मामले में भी पीछे नहीं है।

हाल ही में टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की एक शाखा गुवाहाटी में खोला गया है। साथ ही यहां के अंतरराष्ट्रीय स्कूल और कॉलेज राज्य के शैक्षणिक परिदृश्य को और भी सशक्त बना देते हैं। सांस्कृतिक दृष्टि से भी ये शहर काफी समृद्ध है। यहां का श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र सांस्कृतिक गतिविधों का केन्द्र है और यहां बीहू व दूसरे उत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाए जाते हैं।

कैसे पहुंचें

गुवाहाटी देश के बाकी हिस्सों से अच्छे से जुड़ा हुआ है। यहां पूर्वोत्तर भारत का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन है। साथ ही शहर में लोकप्रिय गोपीनाथ बोरडोलोई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट भी है। वहीं सड़क मार्ग के जरिए भी गुवाहाटी देश के अन्य हिस्सों से जुड़ा हुआ है।

गुवाहाटी का मौसम

पूरे साल गुवाहाटी का मौसम सामान्य बना रहता है। औसत तापमान 30 डिसे से 19 डिसे के बीच रहता है। यहां गर्मी, बरसात और ठंड के अलग-अलग मौसम होते हैं।

 

Please Wait while comments are loading...