रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

जालंधर - इतिहास और संस्कृति के साथ एक साक्षात्कार

पंजाब के राज्य में स्थित जालंधर, समृद्ध इतिहास वाला एक प्राचीन शहर है। यह एक दानव राजा, जालंधर के नाम पर है जिनका पुराणों और महाभारत में उल्लेख किया गया है। हिन्दी में जालंधर का मतलब है 'पानी के अंदर निहित एक क्षेत्र', और लोककथाओं के अनुसार, शहर की भौगोलिक स्थिति से इसका नाम उत्पन्न हुआ है - (ब्यास और सतलुज) दो नदियों के बीच। स्वतंत्रता के बाद 1953 तक, जब चंडीगढ़ ने यह दर्जा हासिल कर लिया, तब तक यह पंजाब की राजधानी हुआ करता था। पर्यटकों के आकर्षण की संख्या के साथ साथ शहर की समृद्ध संस्कृति और परंपरा यात्रियों के बीच जालंधर पर्यटन को लोकप्रिय बनाता है।

जालंधर तस्वीरें, शहीद - ए - आज़म सरदार भगत सिंह म्यूजियम -  फ्रंट व्यू
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

जालंधर में और आसपास के पर्यटक स्थल

जालंधर शहर में किलों, मंदिरों और संग्रहालयों सहित पर्यटकों के कई आकर्षण हैं। जालंधर पर्यटन की पथप्रदर्शक पुस्तिका में शिव मंदिर, तुलसी मंदिर, देवी तालाब मंदिर, सेंट मैरी कैथेड्रल, पुष्पा गुजराल साइंस सिटी, भगत सिंह संग्रहालय और वंडरलैंड थीम पार्क प्रमुख आकर्षण हैं।

कई गुरुद्वारे अपनी कला और परंपरा को दर्शाते हुए, शहर के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित हैं। शहर में कई मॉल और शॉपिंग सेंटर हैं, और इसलिए यह खरीदारों के लिए एक स्वर्ग है।

जालंधर तक कैसे पहुंचे

जालंधर देश के प्रमुख शहरों से रेलगाड़ियों द्वारा अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। बसों का एक व्यापक नेटवर्क भी इसे उत्तरी राज्यों में ज्यादातर शहरों से जोड़ता है। जालंधर के निकटतम हवाई अड्डे, अमृतसर का राजा सांसी हवाई अड्डे (90 किमी) में, विभिन्न भारतीय शहरों से उड़ानों की सेवा है।

जालंधर की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय

जालंधर नम उप उष्णकटिबंधीय जलवायु का अनुभव करता है, जिसमें सर्दियां ठिठुराने वाली और गर्मियां गरम होती हैं। अक्टूबर, नवंबर, फरवरी और मार्च के महीने जालंधर पर्यटन के लिए आदर्श माने जाते हैं।

 

Please Wait while comments are loading...