यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

काबिनी- हाथियों की राजधानी  

काबिनी वन्यजीव रिजर्व के कारण काबिनी का क्षेत्र अपने वन्य जीवन के लिए बहुत अच्छी तरह से जाना जाता है, जो नागरहोल प्रकृति रिजर्व का एक हिस्सा है। यह कर्नाटक की यात्रा के लिए आये पर्यटकों के बीच एक बहुत लोकप्रिय गंतव्य है और जो बैंगलोर से 163  किमी दूरी पर स्थित है।   कर्नाटक में काबिनी वन रिजर्व काबिनी नदी के नाम पर है जो इसके माध्य से बहती है। यह नागरहोल प्रकृति रिजर्व का दक्षिण पूर्वी हिस्सा है। काबिनी वन रिजर्व 55 एकड़ जमीन पर फैला है और घने जंगलों, पहाड़ी क्षेत्रों और झीलों और नदियों को शामिल करता हैं। काबिनी बांध मस्तिगुदी नाम का एक विशाल झील एक गाँव के नाम के बाद रखा गया था जो इस बांध से जलमग्न किया गया था। यह बांध नागरहोल नेचर रिजर्व और बांदीपुर आरक्षित स्थान अलग करता है।  

Kabini Photos
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

संपन्न जीवन की आश्चर्यजनक किस्मे इस क्षेत्र को वर्षा की अलग मात्रा प्राप्त होती है और वनस्पति उसके अनुसार बदलता रहता है। यहाँ कम वर्षा वाले क्षेत्रों में शुष्क पर्णपाती और हर साल 1000 मिमी से अधिक बारिश प्राप्त करने वाले क्षेत्रों में नम पर्णपाती वनस्पति दीखते है। बीच में, वहाँ घास और झड़ी और दलदली क्षेत्र हैं। काबिनी वन आरक्षित स्थल और एक व्यापक दृष्टि में - नागरहोल आरक्षित स्थल, शाकाहारी प्राणियों की एक बड़ी संख्या का समर्थन करती है, विशेष रूप से हाथियों को। इस क्षेत्र में एशियाई हाथियों की सबसे बड़ा संख्या है।   यहाँ शाकाहारी प्राणियों की एक विशाल विविधता है - चीतल, चार सींग वाला हिरण, सांभर, जंगली सूअर, गौर, लंगूर, मुन्ज्तक, मकाक और स्वभावतः, हाथी। शाकाहारी की बहुतायत बदले में बाघ, तेंदुए, और धोले (भारतीय जंगली कुत्तों) सहित शिकारियों की एक बड़ी संख्या का समर्थन करते है।   जंगल के माध्यम से एक सफारी पर जाओ और आपको वन्य जीवन को करीब से देखने का मौका मिलेगा। आपको हाथियों के विशाल झुंड को देकने का मौका मिलेगा, चीतलों और सम्भारों और भौंकते हिरण, लंगूर और मकाक, स्लोथ भालू, गौर, पैंथर्स, मगरमच्छ, बाघ और जंगली कुत्तों को देख सकते है। काबिनी में 300 से अधिक पक्षियों की प्रजाति है, और एक पक्षी विज्ञानी के लिए स्वर्ग है। यह ओस्प्रेय्स, ग्रे रंग के सर वाली मछली, ईगल, हार्नबिल, बड़ा कोर्मोरंट्स, लार्क्स, मालाबार त्रोगों और कई अनेक पक्षी।

बहुत कुछ करने का मौका  - काबिनी के आस पास के पर्यटक स्थल काबिनी का मुख्य आकर्षण अवश ही जंगल सफारी और हाथी सफारी है। झील पर एक नाव की सवारी से आप पानी के किनारे पर सम्भारों और चीतलों को देख सकते है, और तट पर मगरमच्छ को धुप स्नान करते देख सकते है। प्रकृति के बीच चलन, जंगल की लम्बी पैदल यात्रा, नाव की सवारी, साइकिल चलाना, पक्षी देखना, अलाव रातों, और स्थानीय गांवों के दौरे अन्य गतिविधियां हैं जिसका आप यहाँ आनंद ले सकते हैं।   काबिनी देश में सबसे अद्भुत प्राकृतिक छुट्टी स्थलों में से एक है और यह समृद्ध वन्य जीवन और अद्भुत प्राकृतिक सौंदर्य के साथ मन और आत्मा के लिए एक दावत प्रदान करता है। यह निश्चित रूप से कर्नाटक में देखना लायक स्थानों में एक है, जिसको निश्चित रूप से भूलना नहीं चाहिए।

काबिनी जाने का सबसे अच्छा समय   नवंबर से जून काबिनी जाने का सबसे अच्छा समय है।

कैसे जाएं काबिनी   सड़क, रेल और वायु मार्ग द्वारा आसानी से काबिनी जाया जा सकता है।

Please Wait while comments are loading...