रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

कांगड़ा - एक पवित्र शहर

कांगड़ा हिमाचल प्रदेश में मांझी और बेनेर धाराओं मिलन स्थान पर स्थित एक पर्यटक स्‍थल है। धौलाधार रेंज और शिवालिक रेंज के बीच कांगड़ा घाटी में बसे इस शहर से बाणगंगा धारा दिखाई देती है। यह सामान्यतः देव भूमि के रूप में भी जाना जाता है, जिसका मतलब है देवताओं का निवास। वेदों के अनुसार, विभिन्न गैर आर्यन जनजातीय समुदाय आर्यों के आगमन से पहले यहाँ रहते थे। महान भारतीय महाकाव्य महाभारत में, कांगड़ा को त्रिगार्त राज्य के रूप में संदर्भित किया गया है।

कांगड़ा तस्वीरें, मसरूर मंदिर - इंडो - आर्यन शैली से बना मंदिर जो चट्टानों को काटकर बनाया गया है
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

कांगड़ा शहर 10 वीं शताब्दी में मोहम्मद गजनी द्वारा हमले के बाद मुसलमानों के शासन के अधीन आ गया था। इसके बाद यह, कटोच राजवंश, सबसे पुराने जीवित राजवंश के शासन, के अधीन आया। प्रथम आंग्ल-सिख युद्ध के समापन के बाद, कांगड़ा पर अंग्रेजों का कब्जा हो गया था। 1846 में, यह औपनिवेशिक भारत का एक जिला बन गया। 1947 में देश के विभाजन के बाद 1947 में यह पंजाब का एक हिस्सा बन गया, लेकिन 1966 में हिमाचल प्रदेश को हस्तांतरित किया गया।

यात्री कांगड़ा में करेरी झील, बगलमुखी मंदिर और कालेश्वर महादेव मंदिर जैसे विभिन्न सुन्दर पर्यटन स्थलों की यात्रा कर सकते हैं। राजसी करेरी झील, समुद्र स्तर 2934 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, एक ट्रैकिंग मार्ग से पहुँचा जा सकता है। झील को पानी धौलाधार रेंज के पिघलते बर्फ से मिलता है। कालेश्वर महादेव मंदिर और जमीन के स्तर से नीचे स्थापित शिवलिंग जैसे आकर्षण इस गंतव्य तक कई लोगों को आकर्षित करता है।

हरिपुर-गुलेर, जो गुलेर रियासत की विरासत को प्रदर्शित करता है और बृजेश्वरी मंदिर भी कांगड़ा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में हैं। बृजेश्वरी मंदिर एक तीर्थ केंद्र है जहाँ हर रोज भक्तों की विशाल संख्या दौरा करती है। रामसर कन्वेंशन के तहत वेटलैंड, महाराणा प्रताप सागर, चिड़ियों को देखने वाले कई पर्यटकों को आकर्षित करता है, क्योंकि यहाँ प्रवासी पक्षियों की विभिन्न प्रजातियों को देखा जा सकता है। कोटला किला, कांगड़ा में शाहपुर और नूरपुर के बीच राजमार्ग पर स्थित, पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है।

किले से यात्री शानदार दृश्य देख सकते हैं क्योंकि यह एक अकेली चोटी के ऊपर स्थित है और यह गहरी घाटियों की आसपास के उत्कृष्ट दृश्यों को प्रदान करता है। यह किला गुलेर के राजाओं के संरक्षण के तहत बनाया गया था। बगलमुखी मंदिर, किले के मुख्य द्वार पर स्थित, कांगड़ा के लिए पर्यटकों को आकर्षित करता है। दक्षिण कांगड़ा से 15 किमी की दूरी पर स्थित, मसरूर मंदिर परिसर कांगड़ा का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। 10 वीं शताब्दी में निर्मित और भारतीय-आर्यन स्थापत्य शैली में एक चट्टान के एक टुकड़े से बना, यह अजंता-एलोरा मंदिर के समान दिखता है। परिसर में 15 मंदिर हैं, जिसमें मुख्य मंदिर हिंदू देवता राम, लक्ष्मण (उनके भाई), सीता (उनकी पत्नी) और शिव (विनाश की हिंदू भगवान) को समर्पित है।

कांगड़ा के अन्य पर्यटक आकर्षण धौलाधार रेंज, बृजेश्वरी मंदिर, नादौन, काथगढ़, जावली जी मंदिर, कांगड़ा आर्ट गैलरी, सुजानपुर फोर्ट, न्यायाधीश न्यायालय, और शिव मंदिर हैं। इन के साथ, धर्मशाला, बेहना महादेव, पोंग झील अभयारण्य, सिद्धान्त मंदिर, मक्लॉयड गंज, तारागढ़ पैलेस, और नागरकोट फोर्ट क्षेत्र के अन्य प्रमुख आकर्षण हैं। इंटरनेशनल हिमालयन फेस्टिवल, दिसंबर के महीने में प्रतिवर्ष आयोजित, इस क्षेत्र का एक लोकप्रिय त्योहार है। यह त्‍योहार दलाई लामा को उनके शांति प्रयासों के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किये जाने की याद में मनाया जाता है।

इस त्योहार का मुख्य उद्देश्य तिब्बतियों के बीच सामंजस्य बढ़ाना है। दर्शनीय स्थलों के अलावा, आगंतुक ट्रैकिंग कर सकते हैं, जहाँ कांगड़ा से गुजरने के क्रम में यहाँ के शानदार परिदृश्य की खोज कर सकते हैं। कई साहसिक ट्रेकिंग मार्ग करेरी झील और मसरूर मंदिर जैसी जगहों तक ले जाते हैं।

यात्री कांगड़ा से सुंदर चम्बा घाटी की एक यात्रा भी प्रारंभ कर सकते हैं। ट्रैकिंग मार्गों में लाका पास, सामान्यतः इन्द्रहारा पास के रूप में जाना जाता है, और मिनकैनी पास इस क्षेत्र की सबसे लोकप्रिय ट्रैकिंग मार्ग हैं। कांगड़ा घाटी में पांच अन्य महत्वपूर्ण ट्रेकिंग मार्गों धर्मशाला-लाका पास, मक्लिओडगंज–मिनीकैनी पास–चंबा, धर्मशाला-तलाँग पास, बैजनाथ–पराई जोत और भीम-गस्तौरी पास हैं।

कांगड़ा आसानी से हवाई, सड़क और रेल के माध्यम से पहुँचा जा सकता है। इस जगह पर जाने का सबसे अच्छा समय गर्मी के मौसम के दौरान है जो मार्च के महीने में शुरू होता है और जून तक जारी है। यात्री मानसून के दौरान भी जगह की यात्रा कर सकते हैं क्योंकि जलवायु आउटडोर गतिविधियों के लिए अनुकूल रहता है।

Please Wait while comments are loading...