रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

कोच्चि - जहाँ प्राचीन और नवीन एक साथ हैं

कोच्चि एक अनूठा पर्यटन स्थल है और अपने जीवनकाल में इसे एक बार अवश्य देखना चाहिए। यह शानदार शहर भारत का प्रमुख बंदरगाह शहर है और यह अपने शक्तिशाली अरब सागर के पानी पर इठलाता है। कोच्चि, जो पहले कोचीन के नाम से जाना जाता था केरल के एर्नाकुलम जिले के अंतर्गत आता है। कोच्चि का नाम मलयालम के शब्द ‘ कोचु अजहि’ के नाम पर पड़ा है जिसका अर्थ है ‘छोटी खाड़ी’, जो इस बंदरगाह शहर के लिए उपयुक्त है। इस शहर का वर्णन कई प्राचीन यात्रियों के लेखन में किया गया है क्योंकि यह हमेशा से ही विश्व के लोगों का पसंदीदा गंतव्य रहा है।

कोच्चि तस्वीरें, कोच्चि जहाज यार्ड
Basavaraj Hombli
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

वास्तव में कई पुर्तगाली अब कोच्चि में अच्छी तरह से बस चुके हैं और इसे अपना घर कहते हैं। आज भी यह शहर विश्व भर से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। कोच्चि में प्राचीन और नवीन का समृद्ध मिश्रण है जो विभिन्न लोगों की पसंद और आवश्यकता के अनुकूल है। पश्चिम के सामंजस्यपूर्ण एकीकरण का प्रभाव और भारतीय संस्कृति कोच्चि को एक अलग पहचान प्रदान करते हैं।

समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास

कोच्चि में सबके लिए कुछ न कुछ है। हालांकि यह अपने समृद्ध प्राचीन इतिहास के कारण इतिहास प्रेमियों के लिए स्वर्ग है। यह शहर 14 वीं शताब्दी में उभर कर आया और तब से अनेक यात्रियों ने अपनी ऐतिहासिक किताबों में इसका उल्लेख किया है। यह खाद्य पदार्थों के व्यापार के लिए महत्वपूर्ण था विशेष रूप से मसालों और जड़ी बूटियों के लिए। यहूदी, चीनी, पुर्तगाली, यूनानी, अरब और रोमन व्यापारी यहाँ मसाले खरीदने के लिए आते थे और उनकी वस्तुएँ यहाँ बेचते थे। इसके परिणामस्वरूप यहाँ के स्थानीय लोगों के जीवन पर विभिन्न संस्कृतियों की प्रथाओं का पूर्ण प्रभाव पड़ा। विश्व भर की संस्कृतियों के इस मिश्रण को देखना वास्तव में एक दावत के समान है।

खाने के शौकीनों का स्वर्ग

एक चीज़ जो यात्रियों को आश्चर्यचकित कर देगी वह है यहाँ के आहार- गृहों की संख्या। यहाँ के रेस्टारेंट और होटल सभी के पसंद के खाने पीने का प्रबंध करते हैं। आप दुनिया के किसी भी हिस्से से आए हों, आप कोच्चि में अपने देश के स्थानीय खाने का आनंद उठा सकते हैं। यद्यपि, यह शर्मनाक होगा यदि आप केरल के स्थानीय खाने का आनंद नहीं उठाते हैं। यहाँ के रसोईयों द्वारा बनाया गया शाकाहारी तथा माँसाहारी दोनों प्रकार का खाना मुँह में पानी लाने वाला होता है। जब आप कोच्चि में है तो पौष्टिक मछली का नमूना चखना न भूलें जिसे केले के पत्ते में लपेटकर बनाया जाता है।

हर एक के लिए कुछ न कुछ

कोच्चि से कोई निराश नहीं होता क्योंकि क्योंकि यहाँ पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए बहुत कुछ है जिसमें ऐतिहासिक स्थान, धार्मिक गतिविधियों के केंद्र, संग्रहालय, बच्चों के पार्क और शॉपिंग के लिए मॉल आदि शामिल हैं। प्रकृति प्रेमियों को निराश होने की आवश्यकता नहीं है। यहाँ कई अभ्यारण्य और वन्य जीवन उद्यान हैं जहाँ आप स्थानीय जीव जंतु और वनस्पतियाँ देख सकते हैं। अथिरापल्ली झरने में आप प्रकृति को अपनी पूर्ण महिमा के साथ देखेंगे।

कोच्चि के शांत बैकवॉटर्स (अप्रवाही जल) जो अरब सागर के समानांतर हैं, अपने प्रियजनों के साथ एक आलस भारी दोपहर बिताने के लिए उपयुक्त स्थल हैं। कोच्चि के बैकवॉटर्स वेम्बनाद झील का विस्तार हैं जो केरल की सबसे बड़ी झील है। मरीन ड्राइव युगलों के लिए टहलने की जगह है जो अरब सागर के किनारे टहलते हुए अपनी शाम बिताना चाहते हैं। यह युगलों और परिवारों के बीच बहुत लोकप्रिय स्थान है। समुद्र से आने वाली हवा और आपके प्रियजनों का साथ आपके मन को आनंद से बाहर देगा और यदि आपको भूख लगती है तो आप बाजू में स्थित बे प्राइड मॉल में जा सकते हैं।

इस मॉल में कोच्चि का एकमात्र फिश स्पा भी है जहाँ आप पैडीक्योर भी करवा सकते हैं। यदि आप शहर के इतिहास को खोजना चाहते हैं तो आपको कोच्चि किले की ओर जाना चाहिए। यह केरल के मतंचेर्री प्रायद्वीप पर स्थित है और आपको एक शानदार दृश्य भ्रमण का अनुभव प्रदान करता है।

कोच्चि के किले का प्रमुख आकर्षण प्रसिद्द मतंचेर्री महल और सांता क्रूज़ बेसीलिका है। मछली पकड़ने के उत्सुक लोग इस क्षेत्र में मछली पकड़ने के बाहुधारक चीनी जाल देख सकते हैं। किले के चारों ओर भ्रमण करने के बाद आप कोच्चि की सास्कृतिक विरासत से परिचित हो जाते हैं। और कोच्चि किले में जाने पर आयुर्वेदिक मसाज करवाना न भूलें।

कैसे पहुंचें कोच्चि

कोच्चि देश के अन्य भागों और दुनिया से हवाई मार्ग, रेल और रास्ते द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आपको अपनी टिकिट अग्रिम में ही आरक्षित करवानी होगी क्योंकि कोच्चि पूरे वर्ष पर्यटकों के लिए एक आकर्षण का केंद्र रहता है।

कोच्चि का मौसम

कोच्चि का मौसम पूरे वर्ष आनंददायक रहता है जिसके कारण यहाँ की यात्रा कभी भी की जा सकती है। हालांकि मई में यहाँ बहुत ज़्यादा गर्मी होती है और अगस्त और सितंबर के महीनों में भारी वर्षा आपके उत्साह को ठंडा कर सकते हैं।

कोच्चि जाने का सबसे अच्छा समय

अत: केरल की यात्रा के लिए उत्तम समय जनवरी से अप्रैल के बीच और अक्टूबर से दिसंबर के बीच का होता है। कोच्चि में आवास कोई समस्या नहीं है और पर्यटक अपने बजट के अनुसार होटल चुन सकते हैं। रहते हुए घरों में रुकना भी कोच्चि में बहुत लोकप्रिय है और इसके द्वारा आप यहाँ के स्थानीय लोगों के जीवन को गहराई से समझ सकते हैं। 

Please Wait while comments are loading...