रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

कुचिपुड़ी पर्यटन - संस्कृति और परंपराओं का गांव

कुचिपुड़ी आंध्र प्रदेश के दक्षिण भारतीय राज्य में कृष्णा जिले के मोवा मंडल के अंतर्गत आने वाला एक छोटा सा गांव है। गांव बंगाल की खाड़ी के काफी करीब है और कृष्णा नदी के पास स्थित है। यह सर्वविदित तथ्य है कि, कुचिपुड़ी की शास्त्रीय नृत्य शैली के नृत्य का नाम इस जगह से आया है और इसलिए इस जगह का नाम यह है।

कुचिपुड़ी तस्वीरें, कुचिपुड़ी शास्त्रीय नृत्य
Image source: commons.wikimedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

कुचिपुड़ी गांव मोवा मंडल से करीब 6.4 किमी दूर है और नजदीकी महत्वपूर्ण शहर मक़्छलीपट्टनम से करीब 25.6 किमी दूर है। आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद, कुचिपुड़ी गांव से 325 किलोमीटर की दूरी पर है।

कुचिपुड़ी में और आसपास के पर्यटक स्थल

कुचिपुड़ी गांव के निकट मुख्य पर्यटन स्थलों में से कुछ हैं विजयवाड़ा, कोनासीमा, गुंटूर और अमरावती शहर। इन शहरों का दौरा करने वाले पर्यटक, कुचिपुड़ी गांव के साथ जुड़े शास्त्रीय नृत्य शैली के कारण यहां की यात्रा करने का उद्देश्य बनाते हैं।

वास्तव में, कुचिपुड़ी का पूरा क्षेत्र उन पर्यटकों के बीच बहुत ही प्रसिद्ध है, जो खोई हुई कला और परंपराओं की खोज में यहां भीड़ जमाते हैं। कुचिपुड़ी गांव के पास उंदावल्‍ली गुफाएं, राजीव गांधी नेशनल पार्क, श्री वेणुगोपाल स्वामी मंदिर, मोंगलराजपुरम गुफाएं और कनक दुर्गा मंदिर हैं।

कैसे पहुंचे

दुर्भाग्‍यवश इस गांव के पास अपना खुद का रेलवे स्‍टेशन नहीं है। निकटतम रेलवे स्‍टेशन विजयवाड़ा है और यही निकटतम हवाई अड्डा भी। यहां से गांव तक सड़क मार्ग द्वारा आसानी से जाया जा सकता है। कोई भी कुचीपुड़ी तक हैदराबाद या विजयवाड़ा होते हुए आ सकता है।

मौसम

कुचीपुड़ी का मौसम उष्णकटिबन्धी होता है। गर्मियां बहुत गर्म होती हैं, जबकि सर्दियां हलकी ठंडी। मॉनसून के मौसम में इस जगह पर मध्‍यम दर्जे की बारिश होती है।

 

Please Wait while comments are loading...