रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

महाराष्ट्र पर्यटन – एक झलक

भारत में दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला राज्य, महाराष्ट्र अपने विविध पहाड़ों, मनोरम समुद्र तटों, लुभावने दृश्यों द्वारा परिभाषित और कई प्रकार के संग्रहालय, स्मारक और किले, जो भारत के समृद्ध इतिहास के गवाह हैं, के लिये प्रसिद्ध राज्य है। कई लोगों का मानना है कि महाराष्ट्र संस्कृत शब्द 'महा' जिसका अर्थ है महान और 'राष्ट्र' जो कि मूल रूप से राष्ट्रकूट राजवंश से आया है, से मिलकर बना है। जबकि कई लोगों का कहना है कि संस्कृत में 'राष्ट्र'  का मतलब देश से है।

महाराष्ट्र
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

एक शानदार इतिहास

महाराष्ट्र दूसरी सदी ईसा पूर्व के आसपास इतिहास के अध्याय में प्रवेश करता है, जब अपनी तरह की प्रथम बौद्ध गुफाओं का निर्माण किया गया था। 7 वीं सदी में प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्यूनसांग ने अपने कार्यों में महाराष्ट्र का सर्वप्रथम उल्लेख किया था। इतिहास के अनुसार राज्य में 6वीं सदी के दौरान पहले हिंदू राजा ने शासन किया।अन्य सभी नेताओं के बीच, महाराष्ट्र ने छत्रपति शिवाजी महाराज को सबसे प्रमुख व्यक्तित्व के रूप में देखा है। महान मराठा साम्राज्य के संस्थापक, शिवाजी ने मुगलों से मशहूर लड़ाई लड़ी और राज्य भर में कई किलों का निर्माण किया। उनकी मृत्यु के उपरान्त, उनके बेटे, संभाजी ने महाराष्ट्र पर शासन किया और बाद में यह पेशवाओं को मिला।जल्द ही, 1804 में, ईस्ट इंडिया कंपनी के जनरल वेलेस्ली ने महाराष्ट्र और डेक्कन क्षेत्र में एक सैन्य शासन की स्थापना की और पेशवा क्षेत्र के नाममात्र शासक बने रहे। जिस राज्य को आज हम महाराष्ट्र के रूप में जानते हैं इसका गठन 1960 में और बंबई (अब मुंबई) को इसकी राजधानी बनाया गया।

महाराष्ट्र - ऐतिहासिक किले, खूबसूरत हिल स्टेशन, और बहुत कुछ समाया है इस भूमि में

महाराष्ट्र की एक मादक विविधता है- धुन्ध वाले पहाड़, जो दूर तक फैले हैं, हरे-भरे चमकदार जंगल, ऐतिहासिक विशाल किले और पवित्र धार्मिक स्थल शामिल हैं। राज्य में लगभग 350 किले शामिल हैं। वे महाराष्ट्र में मराठा शासकों के गौरवशाली इतिहास को परिभाषित करते हैं। इन किलों की पहचान अधिकांश रूप से छत्रपति शिवाजी के साथ की जाती है, जिन्हें लगभग तेरह किलों के लिए जाना जाता है। दो किलों, विजयदुर्ग और सिंधुदुर्ग को राज्य के सबसे अच्छे समुद्र के किलों के रूप में माना जाता है।

पुणे से 120 किमी की दूरी पर, शिवनेरी किला एक और प्रतिष्ठित किला है जो शिवाजी का जन्मस्थान होने के नाते प्रसिद्ध है। प्रतापगढ़ किला शिवाजी और अफज़ल खान के बीच महान लड़ाई की याद ताजा करता है। अन्य किले, जैसे अजिंक्यत्र किला, मुरुद-जंजीरा किला, हरिश्चन्द किला और लोहागढ़ और वीसापुर के किले उत्कृष्ट ट्रैकिंग स्थान बनाते हैं।

सहयाद्री के बहुत सारे राजसी जगहों के साथ महाराष्ट्र के पहाड़ी स्टेशनों को छोड़ना मुश्किल है। राज्य हरियाली में लिपटे और मनोरम परिवेश के लुभावने दृश्य प्रदान करने वाले कुछ सुंदर पहाड़ी स्टेशनों का घर है। उनमें से ज्यादातर अंग्रेजों द्वारा अपने ग्रीष्मकालीन निवास के रूप में स्थापित किये गये थे।लोनावाला, खंडाला, माथेरान, पंचगनी, महाबलेश्वर, सावंतवाडी, जवाहर और तोरनमल, जैसे कई प्रमुख हिल स्टेशन यहाँ हैं।

मुंबई, पुणे और कई प्रमुख शहरों से इन जगहों की निकटता उन्हें न केवल पर्यटकों के लिए एक प्रमुख केन्द्र बिन्दु बनाती है, बल्कि स्थानीय लोगों के लिए भी यह एक प्रमुख आकर्षण और शहर से दूर रहने का विकल्प देता है।महाराष्ट्र में इतिहास प्रेमियों के लिए कई संग्रहालय हैं। राज्य भर में फैले लगभग तेरह संग्रहालयों में पुणे का जनजातीय संग्रहालय, मुंबई का प्रिंस ऑफ वेल्स म्यूजियम और जहांगीर आर्ट गैलरी कुछ प्रमुख हैं। नासिक का सिक्का संग्रहालय, अपनी तरह का अनोखा संग्रहालय है, जो भारत में सिक्के के इतिहास को दर्शाता है और देखने लायक दिलचस्प जगहों में से एक है। राष्ट्रीय समुद्री संग्रहालय, छत्रपति शाहजी संग्रहालय और मणि भवन महात्मा गांधी संग्रहालय अन्य संग्रहालय हैं जो यहाँ स्थित हैं।

अरब सागर के पास स्थित होने के कारण महाराष्ट्र में लंबे उमस भरे कई प्राचीन समुद्र तट हैं। आप मुंबई के मरीन ड्राइव चौपाटी की तरह आलीशान समुद्र तटों को देखने के लिए जा सकते हैं या फिर मटमैले बेसिन समुद्र तट के लिये। वेलनेश्वर और श्रीवर्धन हरिहरेश्वर समुद्र तट उन रोमांच प्रेमियों के लिए है जो पानी के खेलों में लिप्त रहना चाहते हैं।

दहानू बोर्डी समुद्र तट और विजय- सिंधुदुर्ग समुद्र तट दोनों मनमोहक हैं और आराम स्थल के रूप में उपयुक्त हैं।महाराष्ट्र एक प्रमुख धार्मिक केंद्र भी है। वहाँ कई तीर्थ स्थान हैं। प्रसिद्ध कुंभ मेला नासिक में हर तीन साल में आयोजित किया जाता है, जबकि मुम्बादेवी मंदिर, प्रसिद्ध मंदिरों में से एक, मुंबई शहर में स्थित है।

औरंगाबाद का कैलाश मंदिर और शिरडी, पंढरपुर और बाहुबली के पवित्र स्थल समान रूप से प्रसिद्ध और श्रद्धेय हैं।हाजी अली का मकबरा आठ सदियों से अधिक पुराना है, जबकि तखत सचखंड श्री हजुर अबचलनगर साहिब, नांदेड़ राज्य में सबसे महत्वपूर्ण गुरुद्वारों में से एक है।

पुणे का ओशो आश्रम एक और आध्यात्मिक जगह है, जहाँ ध्यान और योग के कोर्स उपलब्ध हैं। मुंबई का माउंट मैरी चर्च एक अत्यंत प्रसिद्ध चर्च है, जहाँ बांद्रा मेला प्रतिवर्ष होता है, और भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ती है।अजंता और एलोरा गुफाएं, एलिफेंटा की गुफाएं, महालक्ष्मी मंदिर और गेटवे ऑफ इंडिया महाराष्ट्र के खास स्थल हैं, जिन्हें अवश्य देखना चाहिये।भारत में महाराष्ट्र एक खास राज्य है। इसकी सांस्कृतिक विविधता इसकी स्थापत्य और प्राकृतिक विविधता के जैसी ही है।

कुछ अन्य राज्यों की तरह महाराष्ट्र भी विविध भाषाओं, संस्कृतियों और व्यंजनों का एक सही मिश्रण है, जहाँ भारतीयता का अहसास होता है। इस शानदार जगह की यात्रा अवश्य करनी चाहिए। आप यहाँ की ट्रिप जीवन भर याद रखेंगें।