रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

मंडी - हिल्‍स की वाराणसी

मंडी को हिल्‍स की वाराणसी के नाम से जाना जाता है। यह जगह हिमाचल प्रदेश में व्‍यास नदी के तट पर स्थित है। इस ऐतिहासिक शहर को पहले मांडव नगर के नाम से जाना जाता था जो महान साधु मांडव के नाम पर आधारित था।

मंडी तस्वीरें, पराशर झील, उम्दा तस्वीर 
Image source: commons.wikimedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

यह जगह पत्‍थरों के मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यहां 300 से ज्‍यादा हिंदू धर्म के मंदिर स्थित है जो भगवान शिव और मां काली को समर्पित है। यहां के प्राचीन मंदिरों में पंचवक्रता मंदिर, अर्द्धनारीश्‍वेर मंदिर और त्रिलोकनाथ मंदिर शामिल है।

यहां का भूतनाथ मंदिर इलाके का सबसे प्राचीन मंदिर है जिसका निर्माण 1520 ई. में किया गया था। यहां का गुरू गोविन्‍द सिंह गुरूद्वारा भी पर्यटकों को काफी आकर्षित करता है। 

मंडी की शिकारी पीक एक विख्‍यात पर्यटन स्‍थल है जो  समुद्र स्तर से 11500 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। यह चोटी माता शिकारी देवी को समर्पित है। यहां के अन्‍य मुख्‍य आकर्षण कोटरगत गार्डन, जिला पुस्तकालय भवन, विजय केसरी ब्रिज, पंडोह झील, सुन्दरनगर, प्रसार झील, रानी अमृत कौर पार्क, बीर मठ, और परगु वन्‍यजीव पार्क है। यहां की सेंचुरी में पर्यटकों को आना खासा पसंद है जहां कस्तूरी मृग, हिमालयी काला भालू, बिल्ली, तेंदुआ, और हिमालय की हथेली सीविट जैसे कई जानवर पाएं जाते है।

मंडी आने के लिए यातायात के सभी साधन उपलब्‍ध है। यात्रियों को मार्च और अक्‍टूबर के महीने में यहां आने की सलाह दी जाती है।

Please Wait while comments are loading...