यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

नांदेड़ -  एक पवित्र शहर

नांदेड़ महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र के केन्द्र में स्थित शहर है और, आज कल भूमि को विक्सित करने वाले और धार्मिक संगठनों से बहुत निवेश आकर्षित कर रही है जिससे यह शहर बेहतर सेवाओं और पर्यटन अनुभव प्रस्तुत कर सकें। यह सबसे अच्छे तरह से एक बहुत प्रसिद्ध सिख तीर्थ हजुर साहिब के लिए जाना जाता है जो सचखंड गुरुद्वारा के नाम से भी जाना जाता है, जो आखरी गुरु गोबिंद सिंह के निधन के बाद बनाया गया था। जब से मुगलों ने भारतीय उप - महाद्वीप पर शासन किया, नांदेड़ का सामरिक महत्व प्रकट किया गया है जो नांदेड़ को अंततः एक पवित्र शहर के रूप में माना जाना गया है।

तख़्त श्री हज़ूर साहिब गुरुद्वारा
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

आज नांदेड़ कई सिख मंदिरों और मस्जिदों के लिए प्रसिद्ध है और शहर की धार्मिक ऊर्जा और रंग हर दिन कई सौ तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करती है। बस इतना ही नहीं, नांदेड़ अपने कई प्रख्यात हिंदू मंदिरों के लिए अच्छी तरह से जाना जाता है। यह कहा जाता है कि सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह, अपने अंतिम निवास के रूप में नांदेड़ में बस गएँ और खुद को सिखों के अंतिम गुरु होने की घोषणा की।

उसके बाद, उन्होंने सभी सिखों के लिए जीवन का एकमात्र नियमावली के रूप में पवित्र पुस्तक, गुरु ग्रंथ साहिब, की स्थापना की। नांदेड़ में कुछ अन्य प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में कंधार दरगाह और गोविंद पार्क के साथ बिहोली की मस्जिद हैं और ईसापुर बांध है जो शहर से 100 किलोमीटर के आसपास है। नांदेड़ एक बहुत विपुल नवरात्रि उत्सव भी देखता है जो एक प्रमुख हिंदू त्योहार है।

 नांदेड़ - सड़क संस्कृति ...

नांदेड़ के सड़कों पर फेरी वाले और सड़क के किनारे पर तिरपाल से ढके दुकानें जो कई प्रकार के धार्मिक उत्पादों, कपड़े, गहने और शहर के सिख प्रभाव को देखते हुए कुछ बहुत ही आश्चर्यजनक नकली खंजर और तलवार से हलचल रहती है। थोड़ा गहरा खोदें और आप एक असली को देख सकते हैं, जो एक कहानी के साथ जुड़ा हुआ है, यद्यपि एक अधिमूल्य पर।

नांदेड़ के सड़कों पर सौदेबाजी उतना ही प्रसिद्ध है जितना की खरीदारी है। जाहिर है, अनेक धर्मों के लोगों और त्यौहारों के मिश्रण के वजह से नांदेड़ कुछ मुंह में पानी लाने वाले व्यंजनों से अजनबी नहीं है। गोधूलि होते ही सड़क के किनारे होने वाले भोजन और नाश्ते के दूकान के कार्यकलाप और भीड़ एकदम ज्यादा विकसित हो जाते है।

नांदेड़ - किलों और खुली हवा में

नांदेड़ भी कई तरह के प्राचीन किलों लिए घर है जैसे कंधार, धरुर और कुंथलिगिरी। यह सभी मराठा किले एक फोटोग्राफर के लिए स्वर्ग है और देश और दुनिया भर के यात्री पैर पर इन किलों की खोज करने में आनंद लेतें हैं। नांदेड़ कई लम्बे पैदल यात्रा के अनुभव भी प्रदान करता है, और शहर के भीतर कई सेवाओं के उपयोग से पर्यटन के योजना बनाई जा सकती है।

पहली बार यात्रा पर आये यात्रियों को, सबसे अच्छा तरीका एक गाइड किराये पर लेना है जिससे समय की बचत और देखने के लिए जितना संभव हो सकें यह सुनिश्चित होता है। सभी आकर्षणों को देखते हुए, अधिक से अधिक चार से पांच दिन आराम से नांदेड़ के हद को खोजने के लिए पर्याप्त है। लम्बी पैदल यात्रा और फोटोग्राफी उत्साहीयो के लिए एक या दो दिन ज्यादा ड़ाल दे।

नांदेड़ की यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय सर्दियों के महीने के आगमन के आसपास है जो सितंबर से दिसम्बर के महीने हैं। नांदेड़ में एक अंतर्देशीय जलवायु का आनंद मिलता है, गर्मी का मौसम गर्म शुष्क, कम से मध्यम वर्षा और ठिठुरती सर्दियों।

नांदेड़ परिवहन के सभी साधनों जैसे सड़क, रेल और वायु के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हाल ही में, नांदेड़ घरेलू हवाई अड्डे को एक नया रूप दिया गया है और मुंबई और नई दिल्ली जैसे बड़े महानगरी शहरों के लिए उड़ने वाले विमानो को संचालित करता है। परिवहन के पसंदीदा साधन हमेशा रेल रहा है हालांकि नांदेड़ अच्छी तरह से लगभग सभी अन्य शहरों से जुड़ा है।

सीधे शब्दों में कहें तो नांदेड़ भारत के उन दुर्लभ स्थानों में से एक है जहां विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों से लोग न सिर्फ मिलजुलकर रहते हैं। वे एक साथ जीवन का जश्न मनाते हैं, एक दूसरे के त्योहारों में हिस्सा लेते हैं और बिना मुश्किल के समय लाने वाले सांस्कृतिक लहर की सवारी करते हैं।

Please Wait while comments are loading...