रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

पंचकूला  - प्रकृति और उद्योग का मिश्रण

पंचकूला भारत के योजनाबद्ध शहरों में से एक और चंडीगढ़ का सैटेलाइट शहर है। पंचकूला जि़ले के पाँच जनगणना शहरों में से एक पंचकूला की सीमा पंजाब में मोहाली शहर से मिलती है। भारतीय सेना का सम्मानित मुख्यालय, चंडीमंदिर छावनी पंचकूला में ही स्थित है।

पंचकूला तस्वीरें, यदाविन्द्र गार्डन पिंजौर -  पिंजौर गार्डन
Image source: commons.wikimedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

पंचकूला का नाम पाँच सिंचाई नहरों से निकला है जिन्हें स्थानीय रूप से कुल कहा जाता है। ये नहरें घग्गर नदी से पानी लेती हैं जो आसपास के क्षेत्रों जैसे नाडा साहिब और मनसा देवी में बाँटा जाता है। ये नहरें स्थानीय लोगों के लिए बहुत अधिक उपयोगी हैं और ग्रामीण लोग इनकी देखरेख करते हैं।

इसके पूर्व और उत्तर में हिमाचल प्रदेश है जबकि पश्चिम में पंजाब और दक्षिण में चंडीगढ़ है। पंचकूला में बहने वाली घग्गर नदी बारहमासी है, हालांकि, मानसून में इसमें पानी का अभाव रहता है। यहाँ उपलब्ध भूमिगत पानी सिंचाई और घरेलू कार्यों के लिए उपयोगी है।

अर्बन एस्टेट पंचकूला चंडीगढ़ के पश्चिम में स्थित है। यह नवनिर्मित नगर आवासीय और औद्योगिक सेक्टरों, पार्क और अन्य मनोरंजन स्थलों, विभिन्न सरकारी और अर्ध सरकारी संस्थानों में वर्गीकृत है। पंचकूला घग्गर नदी के पश्चिम में स्थित है जो शिवालिक पहाडि़यों के साथ इस जगह पर एक मंत्रमुग्ध कर देने वाला नज़ारा प्रस्तुत करती है।

ताऊ देवीलाल खेल परिसर और एक गोल्फ कार्स मनारंजन के लिए विकसित किया गया है। यह खेल परिसर आईसीएल टूर्नामेंट के लिए प्रसिद्ध है। पिंजौर एक औद्योगिक क्षेत्र है जिसमें एचएमटी फैक्टरी है। भारत इलेक्ट्रोनिक्स लिमिटेड इस क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण उद्योग है और स्थानीय निवासी एक बड़ी संख्या में यहाँ कार्यरत हैं।

स्थानीय लोग अधिकतर पंजाबी और हिंदी में बोलते हैं। यहाँ की राज्य भाषा हरियाणवी है। लोगों की बेहतर सुविधा के लिए मेट्रो मार्ग की योजना बनाई जा रही है।

पंचकूला में और आसपास पर्यटन स्थल

प्राचीन स्थल में स्थित मोरनी हिल पंचकूला का एकमात्र हिल स्टेशन है। यह हरियाणा का उच्चतम बिंदु है। यह शिवालिक हिल्स का एक हिस्सा है। पिंजौर गार्डन अद्भुत मुग़ल गार्डन के लिए प्रसिद्ध है। यह यादवेंद्र गार्डन के रूप में भी जाना जाता है। हिमाचल प्रदेश में कसौली पंचकूला से केवल 30 मिनट की दूरी पर है।

चाकी मोड़ पर प्राकृतिक वसंत उपस्थित है। टिम्बर ट्रेल द्वारा केबल कार की सवारी पंचकूला और चंडीगढ़ के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करती है। यह पर्यटकों को पहाड़ी के शीर्ष तक ले जाती है जहाँ एक रिसार्ट स्थित है। यहाँ अनेक मनोरंजक गतिविधियाँ होती हैं।

गुरुद्वारा नाडा साहिब घग्गर नदी के किनारे स्थित है। इसका नाम नाडा शाह के नाम पर रखा गया है जिन्होंने भंगनी के युद्ध से लौटने के बाद गुरु गोविंद सिंह की सेवा की थी। चंडीगढ़ से 8कि.मी. दूर स्थित मनसा देवी मंदिर एक हिंदू तीर्थ स्थल है जो 1815 ई. में बनाया गया था। ऐसा विश्वास है कि यह देवी अवश्य वरदान देती है।

यहाँ स्थित कैक्टस गार्डन एशिया में सबसे बड़ा है। यहाँ लुप्तप्राय प्रजातियों की विविधता पाई जाती है। 360 साल पहले निर्मित रामगढ़ किले पर चंदेल शासकों का शासन था। शिवालिक हिल्स की तलहटी में कई मंदिर स्थित हैं।

चंडी मंदिर मनसा देवी से 10कि.मी. दूर है। चंडीगढ़ का नाम इसी मंदिर के नाम पर रखा गया है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग 22 पर स्थित है। भीमा देवी मंदिर के खंडहर पिंजौर में पाए गए है। इसके पीछे शिवालिक हिल्स होने के कारण यह स्थान बहुत मनोरम लगती है। इस मंदिर के पुरातत्व 11वीं सदी के कार्य को दर्शाते हैं और पंचायतन शैली जैसे दिखते हैं।

पंचकूला आने का सबसे अच्छा समय

पंचकूला में उप उष्णकटिबंधीय महाद्वीपीय जलवायु होती है। गर्मियाँ गर्म, सर्दियाँ ठंडी होती हैं तथा मानसून में भारी बारिश होती है। पंचकूला आने के लिए सबसे अच्छा समय अक्तूबर और नवंबर होता है।

कैसे पहुँचे पंचकूला

पंचकूला का रोड नेटवर्क बहुत अच्छा है। रेलवे और रोडवेज़ के लिए चंडीगढ़ निकटतम विकल्प है।

Please Wait while comments are loading...