यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

पंजाब पर्यटन - फन, फेस्टिवल और फूड की मजेदार जगह

पंजाब, भारत के उत्‍तर - पश्चिम में स्थित है और पश्चिम में हिमाचल प्रदेश, जम्‍मू और कश्‍मीर, हरियाणा, राजस्‍थान और पाकिस्‍तान से घिरा हुआ है। देश का सबसे छोटा राज्‍य होने के बाबजूद भी पंजाब समृद्धि में आगे है।

पंजाब
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

अंग्रेजों द्वारा 1947 में पंजाब का विभाजन कर दिया गया था, उसके बाद पंजाब को एक बार फिर से विभाजित कर दिया गया और उसे पंजाब, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा में 1966 में बांट दिया गया। यह राज्‍य, मध्‍य एशिया से और ग्रीक, अफगान और ईरान से आने वाले लोगों के लिए हमेशा से प्रवेश द्वार रहा है।

पंजाब का ऐतिहासिक महत्‍व भी है, इसका उल्‍लेख यूनानी और पारसियों के बीच पाया जाता है। वे पंजाब को पांच नदियों की भूमि के रूप में जानते है। इस प्रकार, कृषि यहां के लोगों का सबसे बड़ा व्‍यवसाय है। पंजाब ऐसा क्षेत्र है जहां सबसे ज्‍यादा सिक्‍ख पाएं जाते है। पंजाब में कई उद्योग जैसे मशीन टूल, टेक्‍सटाइल, सिलाई मशीन, खेल के सामान, स्‍टार्च, पर्यटन, उर्वरक, साइकिल, चीनी और वस्‍त्र आदि चलाएं जाते है। पंजाब में कृषि वस्‍तुओं, वैज्ञानिक उपकरणों और बिजली के सामान भी बनाएं जाते है।

पंजाब - जलवायु, भूगोल और वन्‍यजीव

पंजाब की मिट्टी, उपजाऊ जलोढ़ है और सिंचाई नहरों के द्वारा अच्‍छी तरह से समर्थित है। हालांकि, इस राज्‍य के पूर्वोत्‍तर भाग में, हिमालय की तलहटी और दक्षिण भाग में थार रेगिस्‍तान बना हुआ है। पंजाब में हर मौसम चर्म सीमा पर रहता है, यहां भयंकर गर्मियां होती है और कड़ाके की सर्दियां होती है। मानसून के दौरान यहां भारी वर्षा भी होती है।

पंजाब में प्राकृतिक वन का अभाव है। कुछ फल जैसे - संतरे, अनार, सेब, आडू, अंजीर, शहतूत, श्रीफल, खुबानी, बादाम और बेर यहां पैदा किए जाते है। यहां की जमीन, घास, झाडी और श्रब से भरी रहती है। पंजाब का इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, भारत में सबसे अच्‍छा माना जाता है। इसे भारत का अन्‍न भंडार भी कहा जाता है जहां चावल, गन्‍ना और अन्‍य सब्जियों की पैदावार बहुतायत में होती है।

यहां जल स्‍त्रोतों में मगरमच्‍छ काफी पाएं जाते है। रेशम के कीडों और मक्खियों को यहां पाला जाता है। घोड़े, ऊंट और भैंस यहां के पालतू जानवर है। पंजाब पर्यटन के दौरान स्‍तनधारियों की कई प्रजातियां यहां देखने को मिलती है।

पंजाब में पर्यटन

पंजाब की राजधानी, चंडीगढ़ है और यह भारत का सबसे योजनाबद्ध शहर है। इस स्‍थान की संस्‍कृति और सभ्‍यता को देखकर पर्यटकों को रूचि आ जाएगी। यहां के राजसी महल, मंदिर, धार्मिक स्‍थल, और ऐतिहासिक लडाईयों की गाथा, इस स्‍थान को पर्यटन के लायक बना देती है।  य‍हां के विभिन्‍न शहर जैसे - फरीदकोट, जालंधर, कपूरथला, लुधियाना, पठानकोट, पटियाला, मोहाली और अन्‍य शहर भी अपने में आकर्षण और गरिमा छुपाएं हुए है। हर स्‍थान में एक अनूठी विशेषता छुपी हुई है।

पंजाब पर्यटन के मुख्‍य पहलू संस्‍कृति और सभ्‍यता है। कई किले जैसे - गोविंदगढ़ किला, किला मुबारक, शीश महल, जगतजीत महल आदि इस राज्‍य की खूबसूरती को बढ़ा देते है और पुराने शासकों की शाही कद-काठी को बयां करते है। अटारी बॉर्डर, आम खास बाग, बारादारी गार्डन, तख्‍त - ए - अकबरी, जालियावाला बाग और राउजा शरीफ यहां के प्रमुख स्‍मारकों में से एक है।

राजकीय संग्रहालय और आर्ट गैलरी , शहीद ए आजम सरदार भगत सिंह संग्रहालय , पुष्पा गुजराल साइंस सिटी और महाराजा रणजीत सिंह संग्रहालय इस राज्‍य द्वारा संरक्षित खूबसूरत यादें है जहां जाकर पर्यटक सैर कर सकते है।

पंजाब पर्यटन में डेरा संतग्रह, गुरूद्वारा घरना साहिब, गुरूद्वारा श्री दरबार साहिब, गुरूद्वारा शाहिदगंज तलवंडी जट्टन और कई अन्‍य गुरूद्वारे यहां के धार्मिक स्‍थलों में गिने जाते है। श्री राम तीर्थ मंदिर, दुर्गीयाना मंदिर, शिव मंदिर काठगढ़, कामाही देवी मंदिर,देवी तलब मंदिर, यहां स्थित हिंदू धर्म के प्रमुख तीर्थ स्‍थल है। मुरिश मस्जिद, पंजाब में रहने वाले मुसलमानों के लिए पवित्र स्‍थान है।

संघोल , पुरातत्व संग्रहालय , रूपनगर पंजाब पर्यटन का अलग हिस्‍सा दिखाते है, यह पुरातात्विक स्‍थलों में से एक है। छत्‍तबीर चिडियाघर, तख्‍नी - रेहमापुर वन्‍यजीव अभयारण्‍य, कांजली वैटलैंड, हरिके वैंटलैंड, टाइगर सफारी और डियर पार्क, इस राज्‍य की खूबसूरती को बढ़ा देते है। यह सभी पंजाब के प्रमुख वन्‍यजीव अभयारण्‍यों में से एक है।

पंजाब - लोग और संस्‍कृति

पंजाब पर्यटन, पंजाबी संस्कृति और परंपरा को नजदीक से देखने का अवसर प्रदान करता है। यहां रहने वाले ज्‍यादातर लोग सिक्‍ख है। यहां के अमृतसर में स्‍वर्ण मंदिर स्थित है जो सिक्‍खों का प्रमुख धार्मिक स्‍थल है। पंजाब के हर गांव में गुरूद्वारा होता है। यहां का दूसरा सबसे प्रमुख धर्म हिंदू है। पंजाबी यहां की आधिकारिक भाषा है।

यहां के लोग बहुत खुश रहते है, वह मस्‍त रहने में विश्‍वास रखते है और विभिन्‍न सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेकर जीवन का आनंद उठाते है। कई प्रकार के भोजन के साथ नाच गाने का शौक पंजाबियों को अलग बना देता है। पंजाब के मुख्‍य त्‍यौहार, लोहड़ी, बंसत, वैसाखी, और तीज है।

पंजाब का मुख्‍य नृत्‍य भांगडा है। पहले इसे फसल कटने के दौरान ही किया जाता था लेकिन इसके विशेष ढंग के कारण इसे वैश्विक स्‍तर पर पहचान मिल गई। पंजाब का एक और पहलू है जहां का इतिहास लोकगीतों में सुनाई देता है।