यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

सूर्य मंदिर, पुरी

अवश्य जाएँ

कोणार्क का सूर्य मंदिर निहारने योग्य है। कोणार्क के बीचोंबीच स्थित, यह मंदिर ओड़िशा के मंदिरों की वास्तुकला का शिखर है। यह पत्थर में की गई शिल्पकारिता के सबसे आश्चर्यजनक कृतियों में से एक है। यह सूर्य मंदिर अपनी उत्कृष्ट संरचनात्मक रचनाओं के कारण दुनिया भर के पर्यटकों को आकर्षित करता है। इस मंदिर को 13 वीं शताब्दी में राजा नरसिंहदेवा द्वारा बनाया गया था।

इस मंदिर में एक विशाल रथ की एक रचना है जो सात घोड़ों और चौबीस पहियों से यक्त है। यह रथ सूर्य देवता के वाहक के रूप में कार्य करता है जब वे आकाश के पार चलते हैं। संकल्पना और आकार में आलीशान, यह स्मारक सही मायनों में कोणार्क के अन्य सभी आकर्षणों से उच्च है।

सूर्य मंदिर को 1984 में एक विश्व विरासत स्थल का दर्जा प्राप्त हुआ। सूर्य मंदिर एक ऐसा स्थान है जो हर साल प्रसिद्ध कोणार्क नृत्य महोत्सव की मेजबानी करता है। भले ही मंदिर के कुछ भाग क्षतिग्रस्त हो गए हैं, लेकिन इसका आकर्षण पर्यटकों के बीच कम नहीं हुआ।

सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें
Please Wait while comments are loading...