रोमांच से भरपूर है लेह लद्दाख की मारखा घाटी ट्रेकिंग
सर्च
 
सर्च
 

संबलपुर - भिन्‍न-भिन्‍न विचारों से युक्‍त अनुभव

संबलपुर इतिहास और आधुनिकता का एकीकरण है। आज संबलपुर के रूप में जानी जाने वाली जगह ने अनेक शासकों और सरकारों के तत्वावधान में कई डिवीजनों और विलय को देखा है। विभिन्न शासी निकाय को पीछे छोड़ दिया है कि सांस्कृतिक निशान वर्तमान दिन संबलपुर के आकार का है कि ऐतिहासिक अनुभवों का एक शुष्क अतर के लिए प्रेरित किया।

संबलपुर तस्वीरें, चिपिलिमा जलविद्युत परियोजना - एक जल विद्युत परियोजना
Image source: en.wikipedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

चूंकि आज भी यह भारत के पश्चिमी गोलार्द्ध में खड़ा है, जिला गर्मजोशी से स्वागत करने वाले लोगों के साथ-साथ एक सांस्कृतिक रूप से समृद्ध, बहुतायत हराभरा परिदृश्य है।

संबलपुर - हीरों के व्यापार की भूमि और ताज-ई-माह

संबलपुर में पर्यटन कोई नई बात नहीं है। सदियों पहले संबलपुर अपने हीरों के लिए प्रसिद्ध था, यह हीरों के व्यापार का एक केंद्र था। आज महानदी में और चारों ओर से प्राप्त हीरों की मांग कई संग्रह करने वालों और इसके चाहने वालों को है क्योंकि ये दुनिया में सबसे अच्छे हीरों (स्पष्टता के संदर्भ में) में से माने जाते हैं।

संबलपुर में पाया जाने वाला "ताज-ई-माह" (' चांद का ताज 'में शाब्दिक अनुवाद) एक बेरंग 146 कैरेट हीरा, क्षेत्र में पाए जाने वले हीरों की शुद्धता के प्रमाण के रूप में खड़ा है।

संबलपुर - हथकरघा का शहर

संबलपुरी साड़ी, महिलाओं के लिए एक पारंपरिक पोशाक क्षेत्र के लिए एक अद्वितीय सुंदर रचना है। कपड़े में बुना जटिल पैटर्न यार्न एक साथ बुना जा रहा से पहले के माध्यम से जाना कि टाई और डाई प्रक्रिया में जन्म लेता है। जटिल पैटर्न और प्रामाणिक संबलपुरी साड़ियों के नमूनों की क़ीमती सही मायने में योग्य है।

तो यह है इक्कत और बांधकला साड़ियों की सच्चाई, जो कला और इतिहास के एक टुकड़े के रूप में लोकप्रिय हैं। साड़ियों के अलावा, बांधकला के कपड़े साज़ सामान के जैसी सामग्री में उपलब्ध हैं, जिनकी सलवारें, कपड़े और यहां तक कि तौलिए भी बनते हैं। हालांकि, जब खरीदारी करें, तो नकली उत्पादों के बारे में पता कर लें।

संबलपुर में और आसपास के पर्यटक स्थल

संबलपुर में पर्यटन विभिन्न कारणों के लिए अनवरत है। हीराकुंड बांध, सामलेश्वरी मंदिर, हुमा का झुका हुआ मंदिर, चिपलिमा जल विद्युत परियोजना, घंटेश्वरी मंदिर और, सबसे महत्वपूर्ण महानदी संबलपुर में पर्यटन हैं। देवीगढ़ वन्यजीव अभयारण्य इस जगह का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह विविध वनस्पति और जीवों के साथ-साथ शुष्क पर्णपाती वन के लिए प्रसिद्ध है। संबलपुर में पर्यटकों के आकर्षण के अन्य लोकप्रिय स्थानों मवेशी द्वीप, ऊषा कोठी, कंधरा, हाती बाड़ी और विक्रम खोल हैं।

संबलपुर का मौसम

संबलपुर की जलवायु को मोटे तौर पर गर्मी, बरसात और सर्दियों में बांटा गया है, जहां गर्मियां उमस भरी और सर्दियों ठंडी होती हैं।

संबलपुर तक कैसे पहुंचे

एक अनोखे दृश्‍य, ध्‍वनि, स्‍वाद और अनुभव के साथ संबलपुर जो आपको देता है, वह देखकर अगर आप यह कहते हैं कि यह वाकई में पर्यटन स्‍थल है, तो कोई आश्‍चर्य नहीं होगा। संबलपुर रेल, सड़क और हवाई नेटवर्क से अच्छी तरह से जुड़ा गंतव्य है।

 

Please Wait while comments are loading...