यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

सांगला - एक करामाती घाटी

सांगला हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में स्थित एक सुरम्य पहाड़ी शहर है। बासपा की घाटी में स्थित यह जगह तिब्बती सीमा से निकट स्थित है। शहर का नाम पास के एक उसी नाम के गांव के नाम पर नामित किया गया है, जिसका तिब्बती भाषा में अर्थ है 'प्रकाश का रास्ता'। इस क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता अद्भुद है जैसे कि यह ग्रेटर हिमालय में बसा है और वन ढलानों और पहाड़ों से छाया हुआ है।

सांगला तस्वीरें,चिटकुल , इंडो तिब्बत सीमा पर स्थित जगह 
Image source: www.wikipedia.org
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

भारत-चीन सीमा पर अपनी स्थिति की वजह से 1989 तक इस स्थान के दौरे के लिये, यात्रियों को भारत सरकार से एक विशेष अनुमति लेनी पड़ती थी। हालांकि, बाद में इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये इस नियम को समाप्त कर दिया गया। यह जगह अपने पाइन नट के बगीचे और सेब और चेरी के सुंदर पेड़ के लिए प्रसिद्ध है।

चितकुल, करछम और बटसेरी जैसे गांव सांगला के लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण हैं। कामरू किला भी, जो अब एक हिंदू देवी कामाक्षी को समर्पित मंदिर में बदल गया है, यहाँ का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यह मंदिर बीते युग की कलात्मक उत्कृष्टता का प्रतिनिधित्व करता है। यात्री मंदिर की तीसरी मंजिल पर स्थित देवी की एक बड़ी छवि को देख सकते हैं।

एक हिंदू देवी चितकुल माथी, लोकप्रिय रूप में माता देवी के रूप में जाना जाता है, को समर्पित मंदिर सांगला का एक और लोकप्रिय धार्मिक स्थल है। प्रत्येक वर्ष एक बड़ी संख्या में श्रद्धालु देवता को अपनी प्रार्थना की पेशकश के लिये इस मंदिर की यात्रा करते हैं।

सांगला से बह रही बासपा नदी भी एक प्रमुख पर्यटन स्थल के रूप में माना जाता है क्योंकि यह मछली पकड़ने, ट्रैकिंग, और डेरा डालने जैसी गतिविधियों का आनंद उठाने की एक आदर्श जगह है। पूरा क्षेत्र सुंदर पाइन के पेड़ों और ओक जंगलों के बीच स्थित है और ग्लेशियर नदियाँ और जंगलों की उपस्थिति इस जगह की सुंदरता को और बढ़ाते हैं। खरीदारी में रुचि रखने वाले यात्री बटसेरी गांव से, जो सांगला से लगभग 8 किमी की दूरी पर स्थित है, हस्तनिर्मित शॉल और किन्नौरी टोपियाँ खरीद सकते हैं।

बटसेरी गांव काफी लोकप्रिय है क्योंकि यह एक ही जगह है जहां प्रसिद्ध फल, चिलगोजा  या पाइन नट उगता है। सांगला के पास स्थित कुछ अन्य लोकप्रिय स्थान सपनी, कांडा और ट्राउट फार्म हैं।  क्षेत्र की प्राचीन लकड़ी वास्तुकला, जो मध्यकालीन युग की कला को दर्शाती है, भी पर्यटकों की एक बड़ी संख्या को आकर्षित करती है।

सांगला का एक अन्य लोकप्रिय आकर्षण लकड़ी पर नक्काशी का तिब्बती केंद्र है जहां सुंदर हाथ के नक्काशीदार आइटम उपलब्ध हैं। ये इस क्षेत्र के मूल निवासी की कला का प्रतिनिधित्व करते हैं। सांगला के लिए निकटतम हवाई बेस शिमला में जुबरहट्टी हवाई अड्डा, जो लगभग 238 किमी की दूरी पर स्थित है।

सांगला तक पहुँचने के लिए यात्रियों को हवाई अड्डे के बाहर से एक उचित लागत पर किराये की टैक्सियाँ और कैब उपलब्ध हैं। ऐसे व्यक्ति, जो रेल से यात्रा करना चाहते, कालका रेलवे स्टेशन तक, शिमला से सीधे जुड़ा  छोटी लाइन का रेलवे स्टेशन है, अपने टिकट बुक कर सकते हैं।

सांगला के लिये शिमला का रेलवे स्टेशन निकटतम प्रमुख रेलवे स्टेशन है, जो प्रमुख भारतीय शहरों के साथ जुड़ा हुआ है। सांगला के लिए निजी एवं राज्य स्वामित्व की बसें चंडीगढ़ से आसानी से उपलब्ध हैं। सांगला की जलवायु सर्दियों को छोड़कर साल भर सुखद रहती है।

गर्मियों के दौरान तापमान 8 डिग्री सेल्सियस और 30 डिग्री सेल्सियस के बीच सुखद रहता है। मानसून में सांगला के क्षेत्र में कम वर्षा होती है। इस क्षेत्र में सर्दियाँ अत्यंत ठंडी होती हैं, इसलिए इस समय के दौरान इस जगह का दौरा नहीं करने की सिफारिश की जाती है। इस दौरान इस जगह का तापमान 10 डिग्री सेल्सियस और -10 डिग्री सेल्सियस  के बीच रहता है। मानसून और गर्मियों को इस खूबसूरत मंजिल पर आने के लिए आदर्श माना जाता है।

Please Wait while comments are loading...