यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

दुनिया की सबसे ऊँची शिव प्रतिमा गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड्स में शामिल

कोयंबटूर स्थित आदियोगी शिव की प्रतिमा को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड्स में शामिल कर लिया गया है।आप भी जाने इस प्रतिमा के बारे में दिलचस्प बातें

Written by: Goldi
Updated: Tuesday, May 16, 2017, 11:14 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

यूं तो देश में शिव भगवान के मंदिर है..जिसके दर्शन करने हेतु हर साल लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। इसी क्रम में बीते फरवरी यानी महा शिवरात्रि के दिन भगवान शिव की 112 फुट ऊंची मूर्ति का अनावरण किया गया था।

                भारत का ऐसा मंदिर..जिसमे प्रसाद में मिलता है "सोना-चांदी"

बता दें हाल ही में इस मूर्ति "आदियोगी"को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड्स में शामिल कर दिया गया है। गौरतलब है कि इस प्र‍तिमा को इशा योगा फाउंडेशन ने स्थापित किया है। अब गिनीज बुक ने अपनी इसमें कहा गया है कि इशा योगा फाउंडेशन की ओर से तमिलनाडु के कोयंबटूर में स्थापित प्रतिमा ने विशाल वक्ष के कारण रिकॉर्ड में नाम दर्ज किया है। बता दें कि इस प्रतिमा का अनवारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 फरवरी को किया था।

कहां है स्थित?

भगवान शिव की यह मूर्ति तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित वेल्लिंगिरी की पहाड़ियों की तलहटी में स्थित है। PC: wikimedia.org

 

 

दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति

इस मूर्ति का निर्माण ईशा योग फाउंडेशन द्वारा किया। यह दुनिया की सबसे बड़ी शिव की मूर्ति है।

ऊंचाई

इसकी ऊंचाई 112 फुट है।

500 टन स्टील

इसे बनाने में 500 टन वजन के स्टील का प्रयोग किया गया है।

ढाई साल में बना डिजाइन

इस विशाल कृति का डिजाइन तैयार करने में ढाई साल का समय लगा जबकि इसे बनाने में 8 महीने की कड़ी मेहनत।

ऊंचाई को लेकर खास वजह

शिव की इस प्रतीमा का जहां धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है वहीं इसका ज्यामितीय महत्व भी है। इसकी ऊंचाई 112 फुट रखने के पीछे भी एक खास वजह है। दरअसल, शिव ने आदियोगी रूप में मुक्ति के 112 मार्ग बताए हैं।

नंदी की मूर्ति है खास

इसी आधार पर इसकी ऊंचाई रखी गई है।इसे एक खास तरीके से बनाया गया है। शिव के वाहन नंदी को बनाने के लिए महज 6 से 9 इंच के धातु टुकड़ों का प्रयोग किया गया है। इस प्रतिमा को तिल के बीज, हल्दी, भस्म और रेत-मिट्टी भरकर इसे बनाया गया है।

कैसे पहुंचे

हवाईजहाज द्वारा
पर्यटक कोयंबटूर हवाईजहाज द्वारा पहुंच सकते हैं..यहां से आदियोगी मंदिर के लिए टैक्सी मिल जायेगी।

ट्रेन द्वारा
कोयंबटूरका रेलवे स्टेशन कोयंबटूर रेलवे स्टेशन जंक्शन है...स्टेशन से पर्यटक टैक्सी द्वारा आदियोगी के दर्शन कर सकते हैं।

सड़क द्वारा
कोयंबटूर देश के सभी राजमार्गो से जुड़ा हुआ है...

English summary

112-Feet-Tall Adiyogi Shiva Statue coimbatore declared largest bust by Guinness World Records

112-Feet-Tall Adiyogi Shiva Statue coimbatore declared largest bust by Guinness World Records

Related Articles

Please Wait while comments are loading...