यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

बटेश्वर के सैकड़ों शिव मंदिर जिन्हें है पत्थर माफियाओं से खतरा!

सैकड़ों शिव मंदिर एक ही परिसर में,बटेश्वर मंदिर!

Written by:
Updated: Friday, December 9, 2016, 16:00 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

हमेशा ज़रूरी नहीं की सबसे ज़्यादा प्रसिद्द जगह ही या स्मारक ही सिर्फ देखने लायक हों। लोगों को हमेशा से ही लगता है कि अंजान शहर या जगह जिनके बारे में लोगों को पता नहीं है वहां घूमने का कोई फायदा नहीं है। पर माफ़ करियेगा, ऐसा बिलकुल भी नहीं है। एक बार आप निकल कर तो देखिये ऐसी अंजान जगहों, चिन्हों की सैर पर जहाँ खुलेंगे नए राज़ों की कुछ रहस्यमय कहानियां जिन्हें जान आप उत्साह और शिक्षा दोनों से ही भर जायेंगे।

चलिए आज ही ऐसे अंजान जगहों की सैर की शुरुआत करते हैं और निकल पड़ते हैं मध्य प्रदेश के शहर मुरैना में स्थित प्राचीन धरोहर की ओर।
एक नहीं, दो नहीं, लगभग आधे सैकड़े शिव मंदिर वो भी एक ही जगह पर, एक ही परिसर में, ऐसा है मुरैना का बटेश्वर मंदिर का परिसर। ऐसे ही इसे आठवीं शताब्दी की कारीगरी का उत्कृष्ट नमूना नहीं कहते है। एक-एक दीवारों पत्थरों को बारीकी से तराश कर बनाई गई यह बेशकीमती धरोहर भले ही पर्यटकों से अंजान है पर अपनी उत्कृष्ट वास्तुकला से नहीं।

तो चलिए कराते हैं आज हम आपको मुरैना की इस प्राचीन और अद्वितीय धरोहर के दर्शन जिसके खंडहर आज भी जीवंत रचना का वर्णन करते हैं।

बटेश्वर मंदिर

बटेश्वर के मंदिरों का समूह कई ज़माने पहले, खजुराहो के बनने से भी पहले बन कर तैयार हो चुका था।

Image Courtesy: Vikramjit.rooprai

बटेश्वर मंदिर

पर दुर्भाग्य की बात है कि समय की सीमा में यह विरासत कहीं खो कर रह गई है।

Image Courtesy: Vikramjit.rooprai

बटेश्वर मंदिर

आप निराश मत होइए, वो तो शुक्र हो पुरातत्वविद् के.के. मुहम्मद का जिन्होंने इस मंदिर की समकालीन दुनिया में फिर से शुरुआत की।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

बटेश्वर मंदिर

यहाँ तक कि के.के. मुहम्मद ने पुरज़ोर कोशिश और कड़ी मेहनत की मदद से इस पौराणिक धरोहर के 200 मंदिरों में से 100 मंदिरों को फिर से संजोया गया, उनको बहाल किया गया।

Image Courtesy: Bateshwar Temples

मंदिर का इतिहास

बटेश्वर मंदिर का निर्माण 8वीं शताब्दी से 11वीं शताब्दी में गुर्जर और प्रतिहार राजाओं के वंश के दौरान किया गया।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर का इतिहास

यह पौराणिक धरोहर वास्तव में 200 मंदिरों के समूह के रूप में निर्मित की गई थी, जो मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के इतिहास को बयां करती है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

इसमें तो कोई शक है ही नहीं कि बटेश्वर मंदिर का परिसर फोटोग्राफी के लिए एक आदर्श स्थल है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

आप यहाँ पर अपनी फोटोग्राफी की योग्यता के साथ कई सारे प्रयोग कर सकते हैं क्योंकि यहाँ आपके में कैमरे कैद होने के लिए कई सारी ऐसी जगह हैं, जो आपके तस्वीरों में ही आपको वहां की सैर पर ले जाएँगी।

Image Courtesy: Soumya Mukherji

मंदिर के आकर्षण

यहाँ के ज़्यादातर मंदिर भगवान शिव जी को ही समर्पित हैं और जो बचे हुए मंदिर हैं, वे भगवान विष्णु जी को।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

अब यहाँ कोई जीवंत मंदिर नहीं बचे हैं इसलिए आप यहाँ बिना किसी रोक-टोक, इसकी एक-एक कारीगरी के दर्शन आराम से कर सकते हैं।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

मंदिर समूह में कलात्मक, साधारण और ग्राम्य भाव का मिश्रण हमें दोबारा से उसी दौर में ले जाता है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

आपको यहाँ पहुँच ऐसा लगेगा कि शायद यहाँ पत्थरों को तराशने के दैरान कारीगरों में कोई प्रतियोगिता भी हुई होगी।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

कई मंदिरों के कोण आकार में उनके शिखर बने हुए हैं तो कई समय की मार की वजह से खंडहर में तब्दील हो गए हैं।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर के आकर्षण

कई भागों पर आप सिर्फ समतल छत वाले मंदिरों को ही देख पाएंगे।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

बटेश्वर मंदिर के परिसर में अब तक 100 मंदिरों का पता लगाया गया है और 100 मंदिरों का पता लगाना अभी भी बाकि है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

आप को जान कर हैरानी होगी, पर यह सच है कि बटेश्वर मंदिरों का यह समूह लगभग 1000 साल पुराना है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

बटेश्वर मंदिर का समूह पहले डकैतों के कब्ज़े में था, जब तक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण संस्थान ने इस विरासत में दखल दे इसकी जाँच करनी शुरू नहीं की थी।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि उनमें से एक मुख्य डकैत, गुर्जर-प्रतिहार समुदाय का वंशज था।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

के.के. मुहम्मद और उनकी टोली ने उन डकैतों से बात करना शुरू किया और उन्हें मंदिर परिसर को फिर से बहाल करने के लिए राज़ी करवाया।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

अंत में, डकैत इस प्रक्रिया के लिए राज़ी हो गए और यहाँ तक कि उन्होंने मंदिर की बहाली के इस काम में मज़दूरों की मदद भी की।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

अब बटेश्वर मंदिर का यह परिसर बिल्कुल ही खाली है और अब यह सारा भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण संस्थान के अधीन ही आता है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर से जुड़ी दिलचस्प बातें

मंदिर परिसर की मरम्मत कर इसे पुनः स्थापित किया गया है और आज यह मध्य प्रदेश के सबसे खूबसूरत मंदिर परिसरों में से एक है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर परिसर को खतरा

मंदिर परिसर के आसपास होने वाली खुदाई जो गैर क़ानूनी है, इस मंदिर पौराणिक धरोहर के लिए सबसे बड़ा खतरा है।

Image Courtesy: Akrati123

मंदिर परिसर को खतरा

कई तरह के विस्फोटकों का इस्तेमाल जिन्हें पत्थरों को तोड़ने के लिए उपयोग किया जाता है, ज़मीन पर एक बहुत ही भारी कपंन पैदा करते हैं, जिसकी वजह से मंदिर के आधार प्रभावित हो रहे हैं।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर परिसर को खतरा

इसे यात्रियों से भी खतरा पहुँच रहा है क्योंकि कुछ लोग परिसर में कचरों को इधर-उधर फैला कर इसे गन्दा कर रहे हैं और कुछ लोग तो इन खूबसूरत वास्तुकलाओं में खोद कर नाम वगैरह लिख कर इसकी खूबसूरती को बिगाड़ रहे हैं।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मुरैना पहुँचें कैसे?

मुरैना ग्वालियर से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ मध्यप्रदेश के अलावा उत्तरप्रदेश, राजस्थान आदि राज्यों के भी प्रमुख शहरों से आराम से पहुँचा जा सकता है।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

मंदिर का आकर्षण

बटेश्वर मंदिर अपने में ही एक आश्चर्य है। पत्थर की वास्तुकला, नक्काशीदार मूर्तियां और इसकी पूरी शैली उस समय कला के प्रति जूनून को बखूबी दर्शाते हैं।

Image Courtesy: Soumya Mukherji

मंदिर का आकर्षण

ऐसी जगह आपको कभी निराश नहीं करेगी, हालांकि यहाँ आप आश्चर्य में पड़ जायेंगे कि किस तरह से एक ही परिसर में सैकड़ों मंदिरों को बनाया गया।

Image Courtesy: PankajSaksena

मंदिर का आकर्षण

आप बस अपना थोड़ा सा कीमती समय निकाल कर इस अंजान खूबसूरती की सैर पर हो आइये, तब पता चलेगा कि क्या है भारत की विरासतों का मानदंड।

Image Courtesy: Varun Shiv Kapur

English summary

Experiencing the Magic of Bateshwar Temples in Moren!बटेश्वर के सैकड़ों शिव मंदिर जिन्हें है पत्थर माफियाओं से खतरा!

Bateshwar Temples were constructed during 8th to 11th century by the Kings of Gurjara-Pratihara Dynasty. It is a group of 200 temples located in Morena of Madhya Pradesh.
Please Wait while comments are loading...