यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

राजसी गढ़, राजस्थान में ऐतिहासिक किलों की सैर!

Written by:
Updated: Monday, September 26, 2016, 18:36 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

ब्रिटिशकाल में 'राजपूताना' नाम से जाना जाने वाला राजस्थान, भारत के सबसे प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है। शानदार महल, राजसी किले, हाथियों व ऊँटों की शाही सवारी और दूर-दूर तक रेगिस्तान का विस्तार, ये सारी चीजें पुरे भारत में सिर्फ एक ही जगह है, राजस्थान! जहाँ इन सब अद्भुत आकर्षणों के साथ आप शाही राजसी जीवन का लुत्फ़ उठा सकते हैं।

यहाँ बने लगभग सारे किले व महल कई सदियों पहले स्थापित किये गए थे। पर आज भी ये राजसी शान से अपनी ऊंचाई के साथ, अपने आकर्षण के साथ शान से खड़े ,पर्यटकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते हैं। प्राचीन वास्तुकला के ये नमूने एक चमत्कार के तौर पर राजस्थान को और भी अधिक राजसी बनाते हैं, जो राजस्थान राजसी घराने की समृद्धि के जीवंत उदाहरण हैं।

चलिए आज इसी "राजाओं की भूमि" की एक राजसी सैर पर चलते हैं और सदियों पहले बने राजसी किलों के दृश्यों को देख उनकी वास्तुकलाओं को सराहते हैं।

अचलगढ़ किला

अचलगढ़ किला, राजस्थान के हिल स्टेशन माउंट आबु से लगभग 11 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। असल में इस किले का निर्माण परमार वंशों द्वारा करवाया गया था और बाद में इसके मरम्मत का काम व इसे नए तरीके से मेवाड़ के राजा राणा कुंभ ने बनाया और नाम रखा अचलगढ़ किला। अब यह किला जर्जर अवस्था में पड़ा है।

Image Courtesy: melpats_2000

अलवर किला

अलवर किला जिसे बाला किला के नाम से भी जाना जाता है, अलवर शहर में एक पहाड़ी पर स्थित है। इस किले का निर्माण सन 1550 ईसवीं में, हसन खान मेवाती ने करवाया था। यह स्मारक अपने चिनाई के मार्क और भव्य संरचनात्मक डिज़ाइन के लिए प्रसिद्द है।

Image Courtesy: Zeeyanketu

आमेर का किला

यह जयपुर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है, पहाड़ी पर स्थित आमेर का किला जयपुर शहर से 11 किलोमीटर दूर आमेर में स्थित है। इस किले का निर्माण राजा मान सिंह-प्रथम ने करवाया था। यह किला हिन्दू तत्वों की अपनी कलात्मक शैली के लिए जाना जाता है।

Image Courtesy: K.vishnupranay

भैंसरोरगढ़ किला

चम्बल नदी के ऊपर द्वीप समान भूमि में स्थापित भैंसरोरगढ़ किला राजस्थान के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है। यह ऐतिहासिक किला जो एक खूबसरूत महल हुआ करता था, आज प्राचीन विरासत के रूप में होटल की तरह उपयोग में लाया जा रहा है।

Image Courtesy: Official Website

भानगढ़ किला

भानगढ़ किला वास्तव में 17वीं शताब्दी में निर्मित एक नगर था जो अब ऐतिहासिक किले के रूप में प्रसिद्द है। इसका निर्माण राजा माधो सिंह ने की थी। यह किला अपनी रहस्यमयी कहानियों के लिए प्रसिद्ध है और 'भूतहा किले' के रूप में जाना जाता है।

Image Courtesy: Shahnawaz Sid

भाटनेर किला

लगभग 1700 साल पुराण भाटनेर का किला राजस्थान के सबसे पुराने किलों में से एक है। कहा जाता है कि ये ईंटों से बना किला राजा भूपत द्वारा बनवाया गया था जिसने गजिनी से युद्ध हरने के बाद जंगल में शरण ली थी।

Image Courtesy: Nishantsrivastava

चित्तौरगढ़ किला

चित्तौरगढ़ का किला भारत का सबसे विशाल किला है। चित्तौरगढ़ में स्थित यह राजसी किला लगभग 691.9 एकड़ की ज़मीन पर फैला हुआ है। इस किले में कई महल, मंदिर व द्वार हैं जो इस किले को भव्य व आकर्षक बनाते हैं।

Image Courtesy: Gahendra123

दीग महल किला

भरतपुर से लगभग 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दीग महल का किला पर्यटकों के बीच एक आकर्षण का केंद्र है। इतिहास गवाह है कि महल के आसपास किले का निर्माण बाद में कराया गया था, क्यूंकि महल को आगरा से नज़दीकी के कारण कई आक्रमणों का सामना करना पड़ा था। किले का निर्माण हमलावारों को महल से दूर रखने के लिए किया गया था।

Image Courtesy: LRBurdak

केसरोली का पहाड़ी किला

केसरोली का पहाड़ी किला अलवर में स्थापित एक राजसी किला है जो अब नीमराना होटल ग्रुप के अब एक पौराणिक विरासत वाला होटल है। यह किला अपने बुर्ज, प्राचीर और धनुषाकार बरामदे के साथ भारत के सबसे अच्छे विरासत होटलों में से एक के रूप में जाना जाता है।

Image Courtesy: Rahul Chakraborti

जयगढ़ किला

जयगढ़ का किला एक राजसी गढ़ है, जिसे सावन जय सिंह द्वितीय द्वारा जयपुर के अम्बर के पास ही अरावली पर्वत पर चील के टीले पर बनवाया गया था। विजय किले के नाम से भी जाना जाने वाला यह किला लगभग अम्बर किले की तरह डिज़ाइन किया गया था और इसे बाद में भूमिगत मार्ग द्वारा उत्तरार्द्ध से जोड़ा गया।

Image Courtesy: Vinat

जैसलमेर का किला

जैसलमेर किले को जैसलमेर की शान के रूप में माना जाता है और यह शहर के केन्द्र में स्थित है। यह 'सोनार किला' या 'स्वर्ण किले' के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि यह पीले बलुआ पत्थर का किला सूर्यास्त के समय सोने की तरह चमकता है।

Image Courtesy: Adrian Sulc

जालोर का किला

परमार वंश के अधीन मारू के 9 गढ़ों में से एक, जालोर का किला राजस्थान के जालोर में स्थित प्रमुख आकर्षण का केंद्र है।इसे इतिहास में "सोनागिर" व "गोल्डन माउंट" के नाम से भी जाना जाता था।

Image Courtesy: Surdhan

जूनागढ़ किला

जूनागढ़ किला राजस्थान के बीकानेर में स्थित प्रमुख पर्यटक स्थल है। बीकानेर के हर शासक का जूनागढ़ के इस किले में अपना एक अलग प्रभाव पड़ा है। किले के अंदर बने कई महल, मंदिर, बगीचे इस विविध वास्तुकला के शानदार नमूने हैं।

Image Courtesy: Schwiki

 

 

कंकवाड़ी किला

कंकवाड़ी किला राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है। इस किले की स्थापना सवाई राजा जय सिंह प्रथम ने की थी। राज्य में अकाल पड़ने पर जय सिंह जी ने इस किले का निर्माण कार्य शुरु करवाया, जिससे कि इलाके के लोगों को काम तथा मेहनताना मिलता रहे।

Image Courtesy: Swapnilnarendra

खंदर किला

सवाई माधोपुर के खंदर तहसील में स्थित खंदर का किला,सवाई माधोपुर में पर्यटकों का मुख्य पर्यटन आकर्षण केन्द्र है। यह प्राचीन किला शहर के केन्द्र से लगभग 40 किमी की दूरी पर स्थित है। यह वन्यजीव अभयारण्य, रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान, के पास ही स्थित है।

Image Courtesy: kamlesh kumar mali

कुम्भलगढ़ किला

कुम्भलगढ़ किले का निर्माण पंद्रहवी सदी में राजा राणा कुम्भा ने करवाया था। यह मेवाड़ किला बनास नदी के तट पर स्थित है। पर्यटक बड़ी संख्या में इस किले को देखने आते हैं क्योंकि यह किला राजस्थान राज्य का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण किला है।

Image Courtesy: Amitdighe

लक्ष्मणगढ़ किला

राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ शहर में स्थापित है ऐतिहासिक लक्ष्मणगढ़ किला। सीकर के राव राजा लक्ष्मण सिंह ने 1805 ई. में लक्ष्मणगढ़ किले का निर्माण करवाया था और उसने 1864 ई. में इसके चारों ओर वर्तमान लक्ष्मणगढ़ शहर की स्थापना की थी।

Image Courtesy: Khusboo

माधोगढ़ किला

तुंगा-आगरा मार्ग से 16 किलोमीटर दूर जयपुर व मराठा सेना के बीच यह एतिहासिक युग गवाह है। यहाँ की खूबसूरती को मापा जाना बहुत कठिन है। सुंदर आम के बागों के बीच यह किला बसा है। यह किला ठाकुर भवानी सिंह का है। आज यह किला पर्यटन स्थल बन गया है यह यहाँ दूर-दूर से विदेशी पर्यटक घूमने के लिये आते है। अब इस किले ने 5 स्टार होटल का रूप ले लिया है।

Image Courtesy: Official Website

लौहगढ़ किला

राजस्थान के भरतपुर जिले में स्तिथ ‘लौहगढ़ के किले' को भारत का एक मात्र अजेय दुर्ग कहा जाता है क्योंकि मिट्टी से बने इस किले को कभी कोई नहीं जीत पाया यहाँ तक की अंग्रेज भी नहीं जिन्होंने इस किले पर 13 बार अपनी तोपों के साथ आक्रमण किया था।

Image Courtesy: David Brossard

नाहरगढ़ किला

नाहरगढ़ किले को जयपुर के राजा सवाई जय सिंह द्वारा बनाया गया था। इस किले का निर्माण कार्य 1734 में पूरा किया गया, हालांकि बाद में 1880 में महाराजा सवाई सिंह माधो द्वारा किले की विशाल दीवारों और बुर्जो का पुननिर्माण भी करवाया गया था। 

Image Courtesy: Surjasen

नीमराना किला

नीमराना भारत के राजस्थान प्रदेश के अलवर जिले का एक प्राचीन ऐतिहासिक शहर है, जो बहरोड़ तहसील में दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर दिल्ली से 122 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह 1947 तक चौहानों द्वारा शासित 14 वीं सदी के पहाड़ी किले का स्थल है। यह किला दुर्लभ, काले हार्नस्टोन ब्रेकिया पत्थरों पर स्थित है और इसके प्राचीर से हरे-भरे खेतों के आकर्षक दृश्य दिखते हैं, जो 50-65 मीटर ऊंचा है।

Image Courtesy: Abhinav Swara

रणथंभौर किला

रणथंभौर किला, जो की एक शक्तिशाली किला है, सन् 944 ई. में बनाया गया था। यह पहाड़ी की चोटी पर स्थित है जो आसपास के मैदानों के ऊपर 700 फुट की ऊंचाई पर है। किला विंध्य पठार और अरावली पहाड़ियों के बीच स्थित है, जो 7 किमी भौगोलिक क्षेत्र में फैला हुआ है।

Image Courtesy: KDhar

रूपनगढ़ किला

रूपनगढ़ किले को 1648 में महाराजा रूप सिंह द्वारा बनवाया गया था । आज ये किला एक हेरिटेज होटल में तबदील हो चुका है ।कहा जाता है की ये होटल उनके लिए है, जिन्हें इतिहास की अच्छी समझ है।

Image Courtesy: SimonP

तारागढ़ किला

तारागढ़ किला "स्टार फोर्ट" के नाम से प्रसिद्ध है। इसे 1354 ई. में बनवाया गया था और यह शहर के मुख्य आकर्षणों में से एक है। यह एक तेज ढलान पर स्थित है और यहाँ से शहर का सुंदर दृश्य दिखाई देता है। इस किले में पानी के तीन तालाब शामिल हैं जो कभी नहीं सूखते।

Image Courtesy: Daniel Villafruela.

तिमनगढ़ किला

तिमनगढ़ किला, मसलपुर उप तहसील के अन्दर आने वाले करौली के पास ही स्थित है। इतिहासकारों का मानना है की यहाँ निर्मित ये किला 1100 ई में बनवाया गया था जो जल्द ही नष्ट कर दिया गया। इस किले को 1244ई में यदुवंशी राजा तिमनपाल जो राजा विजय पाल के वंशज थे द्वारा दोबारा बनवाया गया था।

Image Courtesy: Advocate A A Khan

भाद्राजुन किला

इस किले का निर्माण रावचन्द्र सेन के शासनकाल में अकबर द्वारा हराये जाने पर करवाया गया।

Image Courtesy: tommy

गागरोन किला

राजस्थान के झालावाड़ जिले में स्थित गागरोन किला चारों ओर से पानी से घिरा हुआ है। यही नहीं यह भारत का एकमात्र ऐसा किला है जिसकी नींव नहीं है। गागरोन का किला अपने गौरवमयी इतिहास के कारण भी जाना जाता है। इस शानदार धरोहर को यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरिटेज की सूची में भी शामिल किया है।

Image Courtesy: Siddharth 36

कोटा का किला

राजस्थान में चम्बल नदी के किनारे स्थित है, कोटा का यह प्रसिद्द किला जिसे राजा जैतसिंह द्वारा बनवाया गया था। आगरा के किले को छोड़कर किसी भी किले का परकोटा इतना बड़ा नहीं जितना कोटा के किले का है।

Image Courtesy: Kinoko kokonotsu

कुचामन किला

स्थापत्य की दृष्टी से यह किला ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। यह नागौर जिले का महत्वपुर्ण गिरी किला है। इसमें लगभग 18 बुर्ज हैं। इसमे रनिवास, आर्कषक महल, शस्त्रागार, अन्न भंडार, पानी के विशाल टांके, देव मंदिर आदि हैं।

Image Courtesy: Jaisingh rathore

खिमसर किला

खिमसर किला राजस्थान का सबसे प्रमुख पर्यटक आकर्षण है, जो थार मरुस्थल के किनारे स्थित है । इस किले का निर्माण ठाकुर करम सिंह जी ने सोलहवीं शताब्दी में करवाया था, जो जोधपुर के संस्थापक जोधाजी के 8 वें पुत्र थे । इस पीले रंग के किले का निर्माण 16 वीं शताब्दी में पूरी तरह से राजपूताना वास्तुकला शैली को ध्यान में रखकर किया गया था।

Image Courtesy: Ankur2436

मेहरानगढ़ किला

मेहरानगढ़ किला एक बुलंद पहाड़ी पर 150 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह शानदार किला राव जोधा द्वारा 1459 ई0 में बनाया गया था। यह किला जोधपुर शहर से सड़क मार्ग द्वारा पहुंचा जा सकता है। इस किले के सात गेट हैं जहां आगंतुक दूसरे गेट पर युद्ध के दौरान तोप के गोलों के द्वारा बनाये गये निशानों को देख सकते हैं।

Image Courtesy: Jmacleantaylor

मुंदरू किला

मुंदरू किला, राजस्थान के सीकर जिले में मुंदरू गांव का ऐतिहासिक किला है।

Image Courtesy: Fragrantleo

सिवाना का किला

सिवाना का किला जोधपुर से 54 मील पश्चिम की ओर है। इसके पूर्व में नागौर, पश्चिम में मालानी, उत्तर में पचपद्रा और दक्षिण में जालौर है। वैसे तो यह किला चारों ओर से रेतीले भाग से घिरा हुआ है परंतु इसके साथ-साथ यहां छप्पन के पहाड़ों का सिलसिला पुर्व-पश्चिम की सीध में 48 मील तक फैला हुआ है।

Image Courtesy: Anuprathod

Read more about: india, travel, rajasthan, udaipur, jaisalmer, forts, kota
English summary

Must-Visit Forts in Rajasthan! राजसी गढ़, राजस्थान में ऐतिहासिक किलों की सैर!

Alwar Fort is one of the major attractions of Alwar, and among the top palaces and forts in Rajasthan. Spread across 5km of land, this stunning fort is located around 305m above the main city.
Please Wait while comments are loading...