यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

गुजरात का हृदय अहमदाबाद

Written by: Khushnuma
Updated: Thursday, April 16, 2015, 16:28 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

अपने ऐतिहासिक और औधोगिक पहचान के रूप में जाना जाने वाला गुजरात का बेहद आकर्षक शहर अहमदाबाद को 'गुजरात का हृदय' भी कहा जाता है। यह शहर दुनिया में मास्टर बिजनेसमैन के नाम से भी मशहूर है। इतना ही नहीं इसी शहर में गांधी जी ने सत्याग्रह और अहिंसा का पाठ पढ़ाया था। इस तरह यह शहर भौतिकवादी और आत्‍म - त्‍याग की आध्‍यात्मिकता वाला शहर है। पर्यटन की दृष्टि से अहमदाबाद दर्शनीय स्थलों से भरपूर है। यहाँ देश-विदेश के पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है।

अहमदाबाद, गुजरात की आर्थिक राजधानी है। इस शहर का नाम सुल्तान अहमद शाह ने अपने नाम पर रखा था। गांधी जी ने अहमदाबाद में साबरमती आश्रम से दांडी मार्च शुरू करके नमक सत्‍याग्रह आंदोलन की शुरूआत की थी। अहमदाबाद शहर एक ऐसा स्‍थान है जहां कई ऐतिहासिक स्‍मारक है, आधुनिक आकर्षण की कोई कमी नहीं है, बड़े - बड़े मॉल और मूवी हॉल है, हटथीसिंग जैन मंदिर, सिदी सैय्यद मस्जिद, स्‍वामी नारायण मंदिर, जामा मस्जिद, महुदी जैन मंदिर, अक्षरधाम मंदिर, सिटी वॉल्‍स और द गेट्स, रानी नो हाजीरो, झूलता मीनारा, सरखेज रोजा, दादा हरी वाव, अदलाज सीढ़ीदार कुंआ आदि यहां के प्रमुख आकर्षण है।
पढ़ें: जूनागढ़ - किसी युग में डेरा डालना

अहमदाबाद

कई विविधताओं के साथ अहमदाबाद, भारतीय संस्‍कृति का अच्‍छी तरह प्रतिनिधित्‍व करता है और यह भारत का सातवां सबसे बड़ा महानगर है। अहमदाबाद को भारत में सबसे तेजी से आगे बढ़ने वाले शहरों में से एक माना जाता है।

Image Courtesy:SilkTork

जुमा मस्जिद

जुमा मस्जिद भारत की ही नहीं बल्कि विश्व की सबसे खूबसूरत एवं कलात्मक मस्जिदों में से एक है। यह संरचना पीले बलुआ पत्‍थर से निर्मित है। और इसका आंगन, संगमरमर से बना हुआ है। यह एक कॉलम पैसेज से घिरा हुआ है और इन कॉलमों पर अरेबिक कैलिग्राफी बनी हुई है।

Image courtesy: Saad Akhtar

रानी रूपमती की मस्जिद

रानी रूपमती की मस्जिद कलात्मक शैली का जीता जागता उदाहरण है। इस मस्जिद की विशेषता यह है कि बिना सीधे सूर्य प्रकाश के बावजूद भी इसके मध्य भाग में हमेशा रौशनी रहती है।

Image Courtesy:Bgag

झूलती मीनारें

अहमदाबाद के मुख्य आकर्षणों में से एक हैं झूलती मीनारें। इस जोड़ी वाली मीनारों की खास बात यह है कि जब एक मीनार हिलती है तो थोड़ी देर बाद दूसरी मीनार भी हिलती है। सिदी बशीर मस्जिद की मीनार, तीन मंजिला है जिसमें बालकनी में काफी नक्‍काशी बनी हुई है और यह पत्‍थर की नक्‍काशी से डिजाइन की गई है। माना जाता है कि इसे सिदी बशीर के द्वारा बनवाया गया था, जो सुल्‍तान अहमद शाह का नौकर था।

Image Courtesy:Nirmal4320

हट्टी सिंह का जैन मंदिर

हट्टी सिंह के जैन मंदिरों का निर्माण 1848 ई. र्पू. हुआ था। यह मंदिर 15 वें जैन तीर्थंकर धर्मनाथ को समर्पित है और इसे अहमदाबाद के एक व्‍यवसायी शेठ हथिसिंग के द्वारा दान 10 लाख रूपयों की लागत से बनाया गया है।

Image Courtesy:Kalyan Shah

शाही बाग पैलेस

इस खूबसूरत बाग़ को शाहजहाँ ने बनवाया था। कहा जाता है कि शाहजहाँ अपनी शादी के बाद अपनी बेगम के साथ इस जगह कुछ दिनों तक रहा था।

कांकरिया झील

यह एक सुन्दर झील है। इस झील के मध्य में एक खूबसूरत बाग है। कनकरिया झील को सुल्‍तान कुतुबद्दीन ने बनवाया था। इस झील के किनारे एक द्वीप है और एक महल है। यहां टॉय ट्रेन है जो झील के एक ओर चलती है, बाल वाटिका है जो विशेष तौर पर बच्‍चों के लिए बनाई गई है। यहां एक बोट क्‍लब भी है जहां आकर पर्यटक, बोटिंग का लुत्‍फ भी उठा सकते है।

Image Courtesy:Mahargh

भद्र का किला

भद्र का किला अहमदशाह ने बनवाया था। यह किला वास्तुशिल्प का एक जीता जागता उदाहरण है। इस किले के एक भाग में भद्रकाली का मंदिर है।

Image Courtesy:Aviralm

सीदी सैयद की जाली

सीदी सैयद की जाली एक बे मिसाल खूबसूरत मस्जिद है। जिसे सुलतान अहमदशाह के गुलाम सैयद ने बनवाई थी। यह मस्जिद कलात्मक शैली का बेजोड़ नमूना है।

Image Courtesy:Vrajesh jani

गांधी आश्रम

गांधी आश्रम को महात्मा गांधी ने बनवाया था जिसमे उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम की बागडोर संभाली थी। इस आश्रम में एक संग्राहलय बनाया गया है। जिसमे महात्मा गांधी से जुडी बहुत सी निशानियों को एकत्रित किया गया है।

Image Courtesy:Hardik jadeja

लोथल

लोथल अहमदाबाद से 87 किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ है। जहाँ अब से 20 साल पहले दूसरी सदी की हड़प्पा संस्कृति के अवशेष मिले थे।

Image Courtesy:Vu2sga

अदलज की बाव

अदलज अहमदाबाद का एक गांव है जो कि अहमदाबाद से तक़रीबन 17 किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ है। अदलज की बाव एक कुंआं है जिसके हर एक स्तंभ पर व दीवारों पर महीन आकर्षक नक्काशी की गई है। इस कुएं को राजा वीरसिंह की रानी रूपबाई ने बनवाया था।

Image Courtesy:SahilGupta

मोढेरा का सूर्य मंदिर

अहमदाबाद के दर्शनीय स्थलों में से एक है मोढेरा का सूर्य मंदिर जो स्थापत्य कला का बेजोड़ नमूना है।

कैसे जाएँ

अहमदाबाद जाने के लिए फ्लाइट, ट्रेन, बस व टैक्सी की अधिक जानकारी के लिए बस एक क्लिक करें-

image courtesy:Bill Wilson

English summary

Places to Visit in Ahmedabad

The Industrial city of Ahmedabad is often referred to as the 'Heart of Gujarat'. Boasting various Indonesian architecture around this was also called the 'Manchester of India'. Today it is a major tourist hub and sees tourists coming here from all over the world to admire its beauty.
Please Wait while comments are loading...