यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

हिमालय की गोद में स्थित-केदारकंठ ट्रेकिंग

केदारकंठ ट्रेक एडवेंचर से भरपूर ट्रेकिंग डेस्टिनेशन है। केदारकंठ ट्रेक उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में 3800 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

Written by: Goldi
Updated: Monday, March 20, 2017, 15:22 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

केदारकंठ ट्रेक एडवेंचर से भरपूर ट्रेकिंग डेस्टिनेशन है। केदारकंठ ट्रेक उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में गोविंद वन्यजीव अभयारण्य और राष्ट्रीय उद्यान में स्थित है। केदारकथा ट्रेक आपको विशाल पहाड़ों की ओर ले जाता है। ट्रेकिंग के  यात्रा देहरादून से शुरू होती है, जहां से आप छोटे, लेकिन बहुत ही संकर्री गांव को देख सकते हैं। इस घाटी में सर्दियों में बर्फ गिरती है,इस दौरान बर्फ से घिरे पहाड़ देखने में बेहद ही खूबसूरत नजर आते हैं। केदारकंठ ट्रेक3800 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यह अद्भुत ट्रेक ट्रेकर्स को एक शानदार अनुभव प्रदान करता है।

केदारकंठ ट्रेक तक पहुँचने के लिए ट्रेकर्स को वन्यजीव अभयारण्य से होकर जाना होता है। वन्यजीव अभयारण्य पार करने के बाद ट्रेकर्स जूदा पहुंचते हैं। जूदाजूदा का तालाब एक आकर्षक तालाब है, जोकि मैपल, ओक और मोरिंडा सप्रा हरियाली चराई से घिरा हुआ है। ट्रेकर्स चाहे तो यहां आराम आकर सकते हैं।

क्षेत्र- गढ़वाल हिमालय
कितने दिन- 7 दिन
ट्रेकिंग ग्रेड- आसन
ऊंचाई- 3800 मीटर
रूट- दिल्ली-मसूरी-संकरी -जूदा का तालाब-केदारनाथ बेस-केदारनाथ चोटी-मसूरी-दिल्ली

 

पहला दिन (दिल्ली-देहरादून-मसूरी )

ट्रेकर्स दिल्ली से देहरादून ट्रेन या फ्लाइट से आसानी तक पहुंच सकते हैं। देहरादून में थोड़ी देर आराम करने के बाद वहां से मसूरी की यात्रा।
 

दूसरा दिन- 166 किमी 6 घंटे (मसूरी-संकरी)

मसूरी में नाश्ते के बाद के नाश्ते के बाद हम संकरी की और पहुंचेगे,संकरी मोटर रोड से जुड़ा अंतिम गांव है। ह खूबसूरत गांव गोविंद वन्य जीव अभयारण्य के भीतर लगभग 13 किमी दूर है। ट्रेकर्स यहां रात में आराम कर सकते हैं। 

तीसरा दिन (संकरी-जूदा का तालब 4 किमी, समय साढ़े चार घंटे )

तीसरे दिन सुबह नाश्ता करने के बाद शुरू होती है संकरी से जूदा के तालाब की ट्रेकिंग। यह केदारकथा के रास्ते में एक छोटे से तालाब के पास स्थित है। कोई भी हिमालय के बर्फ से ढकी चोटियों को देख सकता है। तीसरे दिन ट्रेकर्स अपनी यात्रा यहां समाप्त कर आराम कर सकते हैं ।
 

चौथा दिन- जूदा का तालाब - केदार कंठा बेस (ट्रेक 4 किमी / 4 बजे)

अगले सिन एक बार फिर सुबह नाश्ता करने के बाद बारी है केदारकंठ बेस तक की ट्रेकिंग की। यह ट्रेकिंग कुल 4 किमी की है जिसे चार घंटे में पूरा किया जा सकता है।  

पांचवां दिन: केदारकंठ बेस - केदारकंठ पीक (12,500 फीट)। (ट्रेक 6 किमी / 6-7 बजे)

केदारकंठ बेस में पहाड़ो के उगते हुए सूरज को देखना बेहद ही दिलचस्प है। सुबह सूर्योदय देखने के बाद बाद नाश्ता करने के बाद बारी आती अगले पढ़ाव पर पहुँचने की। केदारकंठ बेस से केदारकंठ पीक की ट्रेकिंग करीबन 6 किमी है जिसे 7 घंटे में पूरा किया जा सकता है ।
 

छठा दिन: केदारकंठ चोटी- संकरी (ट्रेक 11 किलोमीटर)

चोटी पर पूरी रात बिताने की बाद अब नीचे वापस आने की बारी..पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण आसानी से नीचे उतरा जा सकता है। केदारकंठ से संकरी की दूरी 11 किमी है जिसे 8 घंटे में पूरा किया जा सकता है। और नीचे आकर ट्रेकर्स संकरी में आराम कर सकते हैं। 
 

सातवाँ दिन

अगले दिन सुबह संकरी में नाश्ता करने के बाद संकरी से मसूरी या देहरादून रवाना हो सकते हैं। 

 

 

ट्रेकिंग के दौरान जरूरी चीजे

कॉटन मोज़े
ऊनी मोज़े
दो जोड़ी जूते
बैग पैक
ट्रैक पेंट
टोर्च लाइट
जैकेट
सनग्लास
कैप
सन्सक्रीम
ऊनी दस्ताने
वाल्किंग स्टिक

English summary

kedarkantha trek travel guide

Kedarkantha trek is a perfect picturesque trek in the lap of the Himalayas of Garhwal. The overall return trek is around 24 kilometers from Sankri, which is covered in a span of over7 days. The trek takes you up to the summit of the Kedarkantha peak at 3800 meters.
Please Wait while comments are loading...