यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

अगर आप अपनी ऑफिस की भागम भाग जिन्दगी से परेशान हो चुके है। तो मन को तरोताजा करने के लिए आप पहुंच जाइए चैल...यकीन मानिये यह जगह इतनी खूबसूरत है की आपको इससे प्यार हो जायेगा

Written by: Goldi
Published: Friday, February 17, 2017, 15:57 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

हिमाचल प्रदेश खूबसूरत वादियों का प्रदेश है। यह पूरा राज्य बर्फ की चादर ओढ़े पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता रहता है। हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी का मजा लेने के लिए हमेशा ही पर्यटकों का जमावड़ा लगा रहता है। यूं तो हिमाचल प्रदेश में घूमने के लिए हिल स्टेशन की कमी नहीं है। लेकिन आज अहम आपको बताने जा रहें है हिमाचल प्रदेश के छोटे से हिलस्टेशन चैल के बारे में। चैल करीबन 2250 फीट समुद्री ऊंचाई पर स्थित है।

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

चैल में एक छोटा सा गांव बसा हुआ है। यह गांव देवदार के पेड़ों से घिरा है या आप कह सकते हैं कि गांव के इर्द-गिर्द देवदार का जंगल है। जिस पहाड़ के बीच में चैल बसा है वह पहाड़ करीब 2,226 मीटर ऊंचा है। महाराज का पैलेस भी आम लोगों के लिए होटल के तौर पर खोल दिया गया है। आप इस पैलेस में रहने का आनंद उठा सकते हैं।

अगर आप अपनी ऑफिस की भागम भाग जिन्दगी से परेशान हो चुके है। तो मन को तरोताजा करने के लिए आप पहुंच जाइए चैल...यकीन मानिये यह जगह इतनी खूबसूरत है की आपको इससे प्यार हो जायेगा

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

 ट्रिप 
कहां से कहां जाना है-
दिल्ली से चैल
रूट- दिल्ली, शिमला, कुफरी-चैल
दूरी- 405 किमी
दिल्ली से शिमला की दूरी- 360 किमी
शिमला से कुफरी-20 किमी
चैल-25 किमी

रोड- दिल्ली से चैल जाने में अमूमन 8 से 9 घंटे लगते है, लेकिन अगर ट्रैफिक ज्यादा हो टप्प आपको ज्यादा समय भी लग सकता है।

एयरपोर्ट- चैल का सबसे नजदीकी एयरपोर्ट शिमला है जोकि चैल से 72 किमी दूरी पर है, और दूसरा एयरपोर्ट चंडीगढ़ है जोकि 113 किमी की दूरी पर स्थित है। पर्यटक एयरपोर्ट से बस या टैक्सी द्वारा चैल पहुंच सकते हैं।

रेलवे स्टेशन- चैल का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन कालका है, जोकि 81 किमी की दूरी पर है। पर्यटक कालका रेलवे स्टेशन से टैक्सी या बीएस बस चैल पहुंच सकते हैं। आने का उचित समय- चैल आने का उचित समय गर्मियों में है मलतब-अप्रैल से लेकर मध्य जून और नवंबर से फरवरी तक।

चैल के घूमने के मुख्य आकर्षण

चैल पैलेस  
75 एकड़ में फैला हुआ चैल पैलेस चैल का मुख्य आकर्षण है। इसका निर्माण 1891 में पटियाला के राजा अधिराज भूपिंदर सिंह ने किया था। राजगढ़ पहाड़ी पर स्थित इस महल के इर्ध - गिर्ध छाई हरियाली और देवदार के पेड़ इसकी शोभा बढ़ाते है। हालांकि अब इस महल को हेरिटेज होटल में परवर्तित कर दिया गया है।

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

सिद्धि बाबा का मंदिर
सिद्ध बाबा का मंदिर चैल का प्रमुख तीर्थ स्थान है, जो कि राजगढ़ और पांडव पहाड़ियों के बीच स्थित है। कहा जाता है कि पट्याला के राजा भूपिंदर सिंह पहले यहाँ महल बनाना चाहते थे, पर फिर एक दिन उनके सपने में ऋषि आये जिन्होंने उन्हें यहाँ मंदिर बनाने का आदेश दिया।तब महाराजा भूपिंदर सिंह ने यहाँ मंदिर बनाया जो आज सिद्ध बाबा का मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है। इसके आस पास की सुंदरता इसे पिकनिक स्पॉट बनाती है।

चैल वाइल्ड लाइफ सेंचुरी
चैल वाइल्ड लाइफ सेंचुरी 110 वर्ग कि. मी में बनी हुई है। इस अभयारण्य में कई तरह के पेड़ पौधे देवदार और बलूत के पेड़ पाए जाते हैं।यह अभयारण्य कई वन्य जीवी जैसे गोरल, लघुपुंच वानर, इंडियन मुन्टैक, तेंदुआ, कलगीदार साही  को आश्रय प्रदान करता है। इसके अलावा चीता, जंगली सूअर, साम्भर, यूरोपीय लाल हिरण, हिमालय का काला भालू, लंगूर और ब्लैक नेप्पड जैसे जानवर पाए जाते हैं। विभिन्न प्रकार के पक्षी जैसे चियर पेसेंट और किल्ज पेसेंट भी यहाँ' वास करते हैं। इस अभयारण्य की सैर दौरान आपको कई प्रकार के पक्षी दिखेगे।

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

चैल क्रिकेट ग्राउंड
चैल क्रिकेट ग्राउंड समु्द्र तट से 2444 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। बता दें, यह विश्व के सब से ऊँचे स्थित मैदानों में से एक है। यह क्रिकेट मैदान के साथ साथ पोलो मैदान भी है इस स्टेडियम के आस पास कई देवदार के पेड़ है और आज  यह चैल सैन्य पाठशाला के अंतर्गत है जो इसका उपयोग खेल मैदान के रूप में करते हैं।

गुरुद्वारा साहिब
पांडव पहाड़ी पर स्थित गुरुद्वारा साहिब का निर्माण 1907 में पटियाला के राजा ने कराया था। यह गुरुद्वारा चैल बाज़ार से थोड़ी दूर पर स्थित है। भले ही यह सिख मंदिर है पर इसकी निर्माण शैली थोड़ी सी गोवा की चर्च की तरह है।पीले रंग के गुरूद्वारे में बिछी हरी लॉन इसे अद्भुत बनाते हैं। गुरूद्वारे के प्रमुख द्वारा पर सिद्ध दो टावर इसे आश्रय प्रदान करते हैं। यहाँ पर हर दिन हजारों श्रद्धालू आते हैं।

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

सधुपल झील
हिमाचल के कंडघाट और चैल के बीच सिद्ध सधुपल प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है। पर्यटक यहां पानी मै पैरों को डालकर य्म्मी य्म्मी खाने का लुत्फ उठा सकते हैं।वाकई यहां आपको खाने का मजा आ जायेगा।

एक सैर प्रकृति की गोद चैल में....

कहां ठहरे
चैल में ठहरने के लिए आपको वाजिब दामों में होटल मिल जायेंगे। चैल में सस्ते होटल्स से लेकर थ्री स्टार होटल तक है, जहां आपको बेहतरीन खाने की सुविधा भी मिलेगी।पर्यटकों के बीच में चैल पैलेस खासा लोकप्रिय है,इस पैलेस में बेहतरीन रेस्तरां के साथ साथ बार की सुविधा भी है। होटल मोनाल शिमला हिल्स के पास स्थित है इस होटल से चैल का अद्भुत नजारा नजर आता है।इसके साथ ही एक और होटल हैहोटल सनसेट जोकि चैल और क्रिकेट स्टेडियम से और पैलेस से काफी नजदीक है। इन सभी होटल्स में पर्यटकों की सुविधा का खास ख्याल रखा जाता है।

शॉपिंग
चैल में पर्यटक ऊनी ग्राम कपड़ो कि खरीददारी के साथ साथ, घर की सज सज्जा, हैंडीक्राफ्ट्स का सामान खरीद सकते हैं। साथ ही यहां पश्मीना शाल भी खरीदी जा जा सकती है।

English summary

road trip from delhi to chail weekend getaway

Chail is one of the best travel destinations in North India.
Please Wait while comments are loading...