यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

ट्रेवल गाइड- हैदराबाद का महल चौमहल्ला

हमारे आज के लेख से जाने हैदराबाद के 200 वर्ष पुराने महल चौमहल्ला के बार में

Written by: Goldi
Published: Monday, March 13, 2017, 10:46 [IST]
Share this on your social network:
   Facebook Twitter Google+ Pin it  Comments

अगर लखनऊ नवाबो का शहर है तो हैदराबाद निजामो का शहर। यूं तो हैदराबाद में घूमने को काफी कुछ है जिसमे सबसे पहला नाम आता है चारमीनार का...लेकिन आज हम आपको अपने लेख के जरिये बताने जा रहें है हैदराबाद के
चौमहल्ला पैलेस के बारे में। बता दें, चौमहल्ला पैलेस चारमीनार के पास ही स्थित है।

/the-magnificent-chowmahalla-palace-in-hyderabad

इस महल का निर्माण आज से करीबन 200 वर्ष पूर्व हुआ था, इस महल की सृजनशील पारसी निर्माण कला को देख आप चकित रह जाएंगे। महल का मुख्य आकर्षण ग्रांड खिलवत या दरबार हॉल है। इस जगह की भव्यता बेहद लुभावनी है।

इस महल के नाम का शाब्दिक अर्थ 'चौरालों' है यानी 'चो' अर्थ चार और 'महलट' है जो महल का बहुवचन है, जिसका अर्थ है महलों। माना जाता है कि चौमहल्ला महल ईरान में तेहरान के शाह पैलेस के लिए समानताएं हैं।

/the-magnificent-chowmahalla-palace-in-hyderabad

चौमहल्ला पैलेस का निर्माण वर्ष 1857 और 1895 के बीच पांचवें निजाम, अफजड़-उद-दौला, असफ जाव वी के शासनकाल के दौरान हुआ था। हालांकि, इमारत को ज्यादातर निजाम सलाबत जंग को श्रेय दिया जाता है जो 1790 में शुरू हुआ था। यह महल मूलत 45 एकड़ पर बनाया गया है जो अब उत्तर में लाडा बाज़ार से बढ़ाकर दक्षिण में आसन चौक रोड तक बढ़ा दिया गया है। जिस कारण अब यह महल 12 एकड़ के करीब के क्षेत्र में ही रह गया है।

/the-magnificent-chowmahalla-palace-in-hyderabad

इस महल को दो भागों में विभाजित कर दिया गया उत्तरी किनारे और दक्षिणी आंगन। दक्षिणी भाग में चार महल हैं जो अफजल महल, ताहनीयत महल, महताब महल और आफताब महल के नाम से जाने जातें हैं। आफताब महल एक दो
मंजिला ढांचा है और यह चारों में सबसे बड़ा है। उत्तरी आंगन जो जनता के घरों के लिए खुले हैं, ये बारमा इमाम, जो पूर्वी भाग के कई कमरों के साथ एक लंबी कॉरिडोर है और एक बार प्रशासनिक शाखा के रूप में कार्य करता है। इस
आंगन की एक सुंदर विशेषता है शिस आलट जिसका उपयोग मेहमानों और महत्वपूर्ण लोगों को प्राप्त करने के लिए किया गया था।

 इस महल में एक टॉवर है, एक काउंसिल का हॉल और एक बंगला है। रोशन बंगला का नाम रोशन बेगम के नाम पर रखा गया है जो छठे निजाम की मां थी। टावर के पास ही एक ख्वाट क्लॉक मौजूद है,जो घड़ी के निर्माण के बाद से अभी अभी तक सही सलामत मौजूद है। काउंसिल हॉल में विभिन्न मैनस्क्रिप्प्स और दुर्लभ किताबें मौजूद हैं जो निजाम के निजी संग्रह थे और यहां आने वाले पर्यटकों के लिए रखी गयीं है। ऐसा कहा जाता है कि किसी दिन इस महल में करीब 7000 कर्मचारी कार्यरत थे। इसकी अद्भुत सुन्दरता और भव्यता आकर्षण पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करते हैं।

ये सब देखना ना भूले
महल के पीछे बेहद ही खूबसूरत लॉन मौजूद है, जो पर्यटकों को अपनी और ओर आकर्षित करता है। महल के मोर्चे पर विशाल पानी का फव्वारा मौजूद है, जो कलात्मक रूप से खंभने वाले खंभे हैं, जो महल के वास्तुशिल्प के चमत्कार में
झलक देता है। महल की दीवारों और छत पर नाजुक नक्काशीयाँ और प्रत्येक महला में अलग-अलग डिजाइनों के साथ कांच के झूमर देखा जा सकता है। इस महल में निजामो का इतिहास बखूबी देखा जा सकता है।

/the-magnificent-chowmahalla-palace-in-hyderabad

इस महल का एक खंड कुरानों को समर्पित है जो विभिन्न प्रकार के होते हैं और जिन्हें बहाल किया गया है। इसमें हाथ-लिखा कुरान और लघु कुरान को धातु, सोना और अन्य कई में उत्कीर्ण कर सकता है। साथ ही यहां पर्यटक विंटेज कार औरआदि को भी देख सकते हैं।

कैसे पहुंचे
चौमहल्ला पैलेस हैदराबाद शहर में स्थित है, जो प्रसिद्ध चारमीनार के करीब है। महल पूरे देश से पर्यटकों को आकर्षित करती है।हैदराबाद सड़क, रेल, और हवाई जहाज द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है।

कब जाएँ
पर्यटक चौमहल्ला पैलेस की कभी सैर कर सकते हैं। बता दें, यह महल शुक्रवार और नेशनल हॉलिडे पर बंद रहता है।

टिकट
युवायों की एंट्री टिकट 80 रुपये, 12 से नीचे के बच्चों के लिए 20 रुपये और विदेशी नागरिकों के लिए 200 रुपये हैं। पैलेस शनिवार से गुरुवार को सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक खुला रहता है।

(Read In English)

English summary

the-magnificent-chowmahalla-palace-in-hyderabad

Chowmahalla Palace or Chowmahallatuu, is a palace of the Nizams of Hyderabad state. It was the seat of the Asaf Jahi dynasty and was the official residence of the Nizams of Hyderabad while they ruled their state.
Please Wait while comments are loading...