यों का मजा..तो इन छुट्टियों यहां जरुर जायें
सर्च
 
सर्च
 

नजरुल ग्रंथागार, उदयपुर - त्रिपुरा

अनुशंसित

नजरुल ग्रंथागार, उदयपुर की एक प्रसिद्ध राष्ट्रीय पुस्तकालय है। यह प्रसिद्ध बंगाली कवि काज़ी नजरुल इस्लाम के नाम पर नामित है। यह राष्ट्रीय पुस्तकालय, काल्पनिक से लेकर कथेतर साहित्य की सभी प्रकार की किताबों का भंडारघर है।

उदयपुर-त्रिपुरा फ़ोटो, नजरुल ग्रंथागार  - नजरुल ग्रंथागार की संरचना
सोशल नेटवर्क पर इसे शेयर करें

नजरुल ग्रंथागार माणिक्य राजवंश की सांस्कृतिक समृद्धि के लंबे अनुस्मारक के रुप में खडा है और त्रिपुरा के लोगों को किताबों और साहित्य के महत्व को बताता है। हालांकि आज यह उदयपुर की गलियों में सिकुड सा गया है, जो राज्य की राजधानी से काफी दूर है, पर भारी संख्या में लोगा, ज्यादा तर छात्र और विद्वान नियमित रुप से इस पुस्तकालय में आते हैं।

जो सैलानी इस शहर की स्थानीय संस्कृति के बारे में पढ़ना पसंद करते हैं, उनके लिए नजरुल ग्रंथागार एक सही स्थान है। हजारों पुस्तकों से भरी, यह राष्ट्रीय पुस्तकालय अपनी तरह की एक है। क्योंकि यह प्रसिद्ध कवि के नाम पर नामित है, पुस्तकों का एक बडा वर्ग उन्हें समर्पित है।

Please Wait while comments are loading...