वीकेंड पर सिकंदराबाद से बनाएं इन स्थलों का प्लान


तेलंगाना राज्य स्थित सिकंदराबाद, दक्षिण भारत के ऐतिहासिक शहरों में से एक है, जिसे अकसर हैदराबाद के साथ जुड़वा शहरों के नाम से संबोधित किया जाता है। इस शहर का नाम आसफ जहां साम्राज्य के तीसरे निजाम सिकंदर जहां के नाम पर रखा गया था। सिकंदराबाद की स्थापना 1806 में एक ब्रिटिश छावनी के रूप में की गई थी। यह शहर सीधे तौर से अंग्रेजो से जुड़ा हुआ था और 1948 तक ब्रिटिश के अंतर्गत की विकसित हुआ। इन दो जुड़वा शहरों का अपना अलग इतिहास और संस्कृति है।

इन दो ऐतिहासिक शहरों को तेलंगाना की प्रसिद्ध कुत्रिम झील हुसैन सागर अलग करती है, जो चार मीनार से भी 28 साल पुरानी है। पर्यटन के लिहाज से सिकंदराबाद काफी खास माना जाता है, यहां घूमने-फिरने और देखने के लिए कई खूसबूरत जगहे मौजूद हैं, लेकिन आज हम आपको इस शहर के निकटवर्ती कुछ चुनिंदा स्थलों के बारे में बताएंगे, जहां का प्लान आप वीकेंड पर बना सकते हैं। जानिए ये स्थल आपको किस प्रकार आनंदित कर सकते हैं।

वारंगल

PC- Rajib Kumar Ghosh

दूरी- 144 कि.मी

सिकंदराबाद से वीकेड पर 144 कि.मी का सफर तय कर वारंगल की सैर का प्लान बना सकते हैं। वारंगल, तेलंगाना के अतर्गत एक ऐतिहासिक स्थल है, जहां कभी काकतीय राजवंश का शासन चला करता था। इस दौरान यहां कई प्राचीन सरंचनाओं का निर्माण करवाया गया था , जो अब राज्य सरकार के संरक्षण में हैं।

आप यहां प्राचीन किले, पत्थर के बने प्रवेशद्वार, स्वयंभू शिव मंदिर, रामप्पा मंदिर मंदिर और रामप्पा झील देख सकते हैं। इसके अलावा भद्रकाली मंदिर, वारंगल का किला, स्वयंभूदेवी अलयम मंदिर एक शानदार वीकेंड के लिए आप यहां आ सकते हैं।

महबूबनगर

दूरी- 113 कि.मी

वारांगल के अलावा आप सिकंदराबाद से 113 कि.मी की दूरी का सफर तय कर महबूबनगर का प्लान बना सकते हैं। यह राज्य का एक ऐतिहासिक नगर है, जिसका कभी नाम पालामूर था, बाद में इसका नाम हैदराबाद के निजाम के नाम पर महबूबनगर कर दिया गया। यह जगह गोलकुंडा के हीरों के लिए काफी ज्यादा प्रसिद्ध था, जिसमें कोहिनूर भी शामिल था। पर्यटन के लिहाज से यह नगर काफी ज्यादा समृद्ध है, आप यहां ऐतिहासिक स्थलों के अलावा की धार्मिक स्थलों की सैर का प्लान भी बना सकते हैं। आप यहां खूबसूरत जलप्रपात मल्लेला तीर्थम को देख सकते हैं, जो नल्लामाला जंगल के मध्य स्थित है।

इसके अलावा आप यहां जुराला और कोइलसागर जलाशय की सैर का प्लान बना सकते हैं। आप यहां 700 साल पुराने एक विशाल बरगद के पेड़ को भी देख सकते हैं, जो यहां के चुनिंदा मुख्य पर्यटन केंद्रों में शामिल है। एक शानदार वीकेंड के लिए आप सिकंदराबाद से यहां तक का प्लान बना सकते हैं।

करीमनगर

PC- Naveen Gujje

दूरी- 156 कि.मी

सिकंदराबाद से आप 156 कि.मी का सफर तय कर करीमनगर की सैर का प्लान बना सकते हैं। यह राज्य के प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों में गिना जाता है, जहां आप कई अद्भुत प्राचीन मंदिर देख सकते हैं। इतिहास बताता है कि यह नगर कभी वैदिक शिक्षा का बड़ा केंद्र हुआ करता था। यहां की यात्रा आपको भारत के पूर्व इतिहास की ओर ले जाएगी।

आप यहां दक्षिण भारत के अतीत के कई अहम पहलुओं को समझ पाएंगे। यहां की यात्रा के दौरान आप एलगंडल किले को देखना न भूलें। इसके अलावा आप यहां राज राजेश्वरी स्वामी मंदिर, मुक्तेश्वर स्वामी मंदिर आदि धार्मिक स्थलों के दर्शन करना न भूलें। एक शानदार वीकेंड के लिए आप यहां का प्लान जरुर बनाएं।

श्रीशैलम

PC- Kashyap joshi

दूरी- 234 कि.मी

अपने वीकेंड को यादगार बनाने के लिए आप सिकंदराबाद से 234 कि.मी का सफर तय कर श्रीशैलम का प्लान बना सकते हैं। यह एक ऐतिहासिक नगर है जो अपनी प्रााचीन संरचनाओं और मंदिरों के लिए जाना जाता है। यहां भगवान शिव को समर्पित 12 ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक मौजूद है, जिसके दर्शन के लिए देशभर से श्रद्धालुओं का आगमन होता है।

आप यहां की यात्रा के दौरान नल्लामाला हिल्स के शीर्ष पर स्थित श्री ब्रह्मराम्बा मल्लिकार्जुन मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं। इसके अलावा आप यहां पाताल गंगा में पवित्र स्नान का सौभाग्य भी प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप चाहें तो यहां की गुफाओं की सैर का प्लान भी बना सकते हैं। धार्मिकता के साथ-साथ थोड़ा रोमांच का अनुभव करने के लिए आप यहां आ सकते हैं।

गुलबर्गा

PC- Dayal, Deen

दूरी - 238 कि.मी

उपरोक्त स्थलों के अलावा आप सिकंदराबाद से 238 कि.मी की दूरी पर स्थित गुलबर्गा की सैर का प्लान बना सकते हैं। यह एक ऐतिहासिक नगर है, जो कभी हैदराबाद के निजाम के साम्राज्य का हिस्सा हुआ करता था। आप यहां कई प्राचीन सरंचनाओं को देख सकते हैं, जिनमें से अधिकांश को इस्लामिक शैली में बनवाया गया है। यहां का पर्यटन आकर्षणों में आप गुरबर्गा का किला, जो अब खंडहर रूप में मौजूद है, जामा मस्जिद आदि को देख सकते हैं।

इसके अलावा आप यहां बहमनी राजाओं के मकबरे भी देख सकते हैं। यहां के प्राकृतिक स्थलों में आप चंद्रमपल्ली डैम को देख सकते हैं। यहां से कुछ ही दूरी पर एक द्वीप भी मौजूद है, जहां आप कैंपिंग, ट्रेकिंग जैसी रोमांचक गतिविधियों का आनंद भी उठा सकते हैं।

Read More About: travel tourism telangana caves
Have a great day!
Read more...

English Summary

From Secunderabad, you can make a plan for the journey of Karimnagar by traveling a distance of 156 km. It is counted among the famous pilgrimage sites of the state, where you can see many wonderful ancient temples. History tells that this town was once a big center of Vedic education. The journey here will take you towards the history of India. Here you will understand many important aspects of South India's past.