कटक : एक ऐतिहासिक शहर

होम » स्थल » कटक » अवलोकन

कटक, उड़ीसा की वर्तमान राजधानी भुवनेश्‍वर से 28 किमी. की दूरी पर स्थित है, जो पहले उड़ीसा की मूल राजधानी हुआ करती थी। इसे उड़ीसा की सांस्‍कृतिक और वाणिज्यिक राजधानी के रूप में जाना जाता है। कटक राज्‍य के सबसे पुराने और बड़े शहरों में से एक है। इसे मध्‍यकालीन युग से अभिनाबा बारानासी कटक के रूप में जाना जाता है।

यह शहर एक सुंदर स्‍थान पर स्थित है और यह महानदी और कठजोरी नदियों के मिलने से बने एक उपजाऊ डेल्‍टा पर स्थित है। इस शहर में हर साल हजारों की संख्‍या में पर्यटक और सैलानी सैर करने आते है। यह एक ऐसा स्‍थान है जहां पर्यटक स्‍मारकों में इतिहास का सार देख सकते है और वर्तमान में भी सांस्‍कृतिक जीवन की जीवंतता को महसूस कर सकते है।

कटक और उसके आसपास स्थित पर्यटन स्‍थल

कटक पर्यटन में कई स्‍थलों का अनूठा मिश्रण है, यहां तीर्थ स्‍थल, मंदिर, किले, पहाड़ आदि देखने को मिलते है। कटक पर्यटन के दौरान अनशुपा, एक ताजे पानी की झील की मनोरम सुंदरता को भी निहारा जा सकता है। यहां धनबलेश्‍वर तट और धनबलेश्‍वर मंदिर स्थित है जहां पर्यटकों की निगाह ठहर जाती है।

यहां की पहाडि़यों रत्‍नागिरि, ललितगिरि और उदयगिरि की सुंदरता, पर्यटकों का मन मोह लेती है। यह बानकी पर स्थित चारविका मंदिर, हिंदूओं का प्रमुख तीर्थ स्‍थल है। यहां स्थित, भट्टरिका मंदिर, मां भट्टरिका को समर्पित है जहां पर्यटक नियमित रूप से दर्शन करने आते है।

यहां स्थित चौदार, भगवान शिव के आठ पीठों में से एक है। यहां स्थित, नाराज को बौद्ध धर्म के अध्‍ययन के लिए एक पुराने केंद्र के रूप में जाना जाता है। पर्यटक यहां आकर, कटक चंडी मंदिर में भी दर्शन कर सकते है जो देवी चंडी को समर्पित है।

यहां स्थित, सतकोसिया वन्‍यजीव अभयारण्‍य में कई पशुओं को देखा जा सकता है। यहां बाराबाती स्‍टेडियम भी स्थित है जहां खेलों में रूचि रखने वाले पर्यटक, भ्रमण के लिए जा सकते है। हमारे देश में स्‍वतंत्रता की झलक पाने के लिए स्‍वतंत्रता सेनानी मेमोरी और नेता जी संग्रहालय की यात्रा भी की जा सकती है।

कटक : एक रंगारंग स्‍थल

कटक शहर में जीवन के रंग और आकर्षण सदैव झलकते है। इस शहर में सभी धर्मो के सभी त्‍यौहार धूमधाम से मनाएं जाते है। इस शहर में दशहरा, गणेश चतुर्थी, वंसत पंचमी, कार्तिकेश्‍वर पूजा, क्रिसमिस, ईद, गुड फ्राइडे, होली, दीपावली, रथ यात्रा आदि को साल भर मनाया जाता है।  एशिया में मनाया जाने वाला दूसरा बड़ा त्‍यौहार बाली यात्रा, कटक में हर साल मनाया जाता है।

इसे नवंबर के महीने में मनाया जाता है। यहां पतंग उड़ाने का उत्‍सव भी मनाया जाता है, जो कटक की पंरपरा को दर्शाता है। कटक एक शॉपिंग डेस्‍टीनेशन भी है। पर्यटक यहां आकर सुंदर सिल्‍क की खरीददारी भी कर सकते है। इसके अलावा, यहां कॉटन फ्रैब्रिक भी काफी अच्‍छा मिलता है। यह शहर एक वाणिज्यिक हब है।

कटक का मौसम

कटक में ऊष्‍णकटिबंधीय जलवायु रहती है, यहां की गर्मियां गर्म और आर्द्र व सर्दियां ठंडक वाली होती है।

कटक कैसे पहुंचे

कटक  जाने के लिए देश के प्रमुख शहरों से परिवहन की अच्छी सुविधा है।  यह शहर राष्ट्रीय राजमार्ग के माध्यम से कोलकाता और चेन्नई जैसे प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। 

Please Wait while comments are loading...