Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» ईटानगर

ईटानगर  – ऑर्किड राजधानी में आदिवासी चटकीले रंगों का एहसास

51

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर हिमालय की तलहटी में स्थित है। यह पापुमपरे जिले के प्रशासनिक अधिकार क्षेत्र में आता है और 20 अप्रैल 1974 से राजधानी के रूप में रहा है। यह भारत के सबसे बड़े पूर्वोत्तर राज्य की राजधानी है और राज्य का सबसे बड़ा शहर भी है। ईटानगर को लघु भारत भी कहा जाता है क्योंकि देश के हर कोने के लोग यहाँ रहते हैं। इसे रामचन्द्र की राजधानी मायापुर के साथ पहचाना गया है। वे 14वीं-15वीं शताब्दी के जितारी वंश के राजा थे।

ईटानगर और इसके आसपास के पर्यटक स्थल

ईटानगर में पुरातत्वीय महत्व के कई स्थान हैं। यहाँ के सामाजिक – सांस्कृतिक संस्थान इसके ऐतिहासिक महत्व को और भी बढ़ा देते हैं। पर्यटक ईटा किले पर अवश्य जाते हैं जो आकर्षण का मुख्य केन्द्र है। इस शहर का नाम इसे किले के नाम पर पड़ा है।

बोमडीला परशुराम कुण्ड, मलिनीथन और भीष्मक नगर जैसे आकर्षणों तक बस या टैक्सी द्वारा आसानी से पहुँचा जा सकता है। ईटानगर में स्थित राज्यपाल का राजकीय निवास राजभवन भी पर्यटकों को आकर्षित करता है।

अन्य पर्यटक स्थलों में गंगा झील, जवाहर लाल नेहरू संग्रहालय और शिल्पकला केन्द्र और हाट शामिल हैं। संग्रहालय में आदिवासियों से सम्बन्धित कई वस्तुयें अरुणाचल प्रदेश की संस्कृति और परम्परा पर प्रकाश डालती हैं।

प्रसिद्ध गंगा झील के आसपास पत्थरों और हरियाली युक्त मनमोहक वातावरण रहता है। शिल्प केन्द्र में भित्तिचित्र, बाँस और बेंत के सामान के साथ पारम्परिक परिधान की प्रदर्शनी सम्मोहक होती है।

प्राणि उद्यान, इन्दिरा गाँधी उद्यान तथा पोलो उद्यान कुछ ऐसे उद्यान हैं जहाँ पर पर्यटकों के साथ-साथ स्थानीय लोग भी आराम कर सकते हैं। बुद्ध विहार नवनिर्मित बुद्ध मन्दिर है जिसकी सिद्धि दलाई लामा ने की थी। गोम्पा बुद्ध मन्दिर को भी दलाई लामा ही समर्पित किया था।

यहाँ के पीले रंग की छत वाले पूजाघर तिब्बती स्थापत्य कला पर आधारित हैं जो ईटानगर की मनमोहक सुन्दरता को और भी बढ़ा देती है। ट्रेकिंग करने वाले लोग भी ईटानगर को तरजीह देते हैं क्योंकि इस जगह से कई रास्ते राज्य के विभिन्न कोनों के लिये जाते हैं। अरुणाचल प्रदेश के अलावा पर्यटन सम्बन्धी जानकारियाँ पश्चिम बंगाल, असम और मेघालय से भी प्राप्त की जा सकती हैं।

लोग और संस्कृति

शहर की अधिकतर जनसंख्या विभिन्न प्रकार के आदिवासियों की है जिसमें न्यिशी जनजाति सबसे अधिक है। इन्हें निशी या निसिंग्स के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ के लोग भगवान बुद्ध के प्रति श्रृद्धावान हैं। ईटानगर के निवासी साल भर जीवन्त रहने के साथ-साथ हमेशा त्यौहारी मूड में रहते हैं। न्योकुम न्यिशी जनजाति समूह के महत्वपूर्ण पर्वों में से एक है।

लोसार एक अन्य जातीय समूह मोनपास द्वारा मनाया जाता है। यह नववर्ष पर मनाया जाता है। लोग प्रार्थना करते हैं, धार्मिक झण्डे फहराते हैं और बौद्ध धर्मग्रन्थ पढ़ते हैं। यह पाँच दिन तक चलता है। रेह एक और निर्णायक त्यौहार है जो इदु मिशीमिस द्वारा मनाया जाता है जिसमें पुजारियों का नृत्य एक प्रमुख भाग है। तमलाडू को डिगरू मिशिमिस मनाते हैं। अन्य त्यौहारों में खान, संगकेन और मोपिन शामिल हैं।

ईटानगर में राज्य के कई प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थान हैं।

ईटानगर आने का सर्वश्रेष्ठ समय

साल के किसी भी समय ईटानगर आया जा सकता है। राजधानी शहर का मौसम हमेशा जीवन्त और आनन्द लेने योग्य रहता है। पर्यटक यहाँ वर्ष के किसी भी समय आ सकते हैं।

ईटानगर कैसे पहुँचें

राज्य की राजधानी होने के कारण ईटानगर सड़क तथा वायुमार्गों से सुलभ है। असम का हरमूती निकटतम रेलवे स्टेशन है।

ईटानगर इसलिए है प्रसिद्ध

ईटानगर मौसम

घूमने का सही मौसम ईटानगर

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें ईटानगर

  • सड़क मार्ग
    ईटानगर असम तथा बाकी देश से राष्ट्रीय राजमार्ग 51ए द्वारा भली-भाँति जुड़ा है। गुवाहाटी से नहरलगून के लिये उपलब्ध बस सेवा इस राजधानी शहर को सुलभ बनाती है। असम के बन्देरदेवा, उत्तरी लखीमपुर और तेजपुर जैसे स्थानों से भी ईटानगर के लिये बस सेवायें उपलब्ध हैं।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    पूरे राज्य में रेल लाइनों का अभाव होने के कारण यहाँ तक रेल से पहुँचना मुश्किल है। असम में हरमूति निकटतम रेलवे स्टेशन है। यह ईटानगर से 32 किमी की दूरी पर है।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    असम के गुवाहाटी से नियमित रूप से हेलीकॉप्टर की सेवायें उपलब्ध हैं। इन सेवाओं का प्रबन्धन पवन हंस करता है और हेलीकॉप्टर गुवाहाटी से ईटानगर से 10 किमी की दूरी पर स्थित नहरलगून के लिये उड़ते हैं। पापुमपरे जिले के होलोंगी नामक स्थान पर एक हवाईअड्डा बनाने की परियोजना है जिससे ईटानगर आने वाले पर्यटकों को सहूलियत हो जायेगी। असम के तेजपुर तथा लीलाबरी यहाँ के लिये निकटतम् हवाई अड्डे हैं। लीलाबरी ईटानगर से 71 किमी की दूरी पर स्थित है।
    दिशा खोजें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
20 Jun,Sun
Return On
21 Jun,Mon
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
20 Jun,Sun
Check Out
21 Jun,Mon
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
20 Jun,Sun
Return On
21 Jun,Mon