Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » झांसी » आकर्षण
  • 01झाँसी का किला

    झाँसी के किले या झाँसी किले का निर्माण ओरछा के राजा बीर सिंह देव ने 1613 में पहाड़ी की चोटी पर करवाया था। यह 16 से 20 फुट मोटी दीवार से घिरा हुआ है जो इसकी चारदीवारी का एक भाग है। इस दीवार में दस दरवाज़े हैं जिनमें से प्रत्येक का नाम किसी राजा या राज्य के ऐतिहासिक...

    + अधिक पढ़ें
  • 02चिरगांव

    चिरगांव

    झाँसी से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर बेतवा नदी के किनारे स्थित चिरगांव प्रसिद्ध हिंदी कवि मैथिली शरण गुप्त का जन्म स्थान है जो देश के राष्ट्रीय कवि भी थे। इस गाँव में उनकी समाधि भी है। इस शहर से अन्य दो साहित्यकार भी जुड़े हुए हैं। जिनमें से एक सियाराम शरण गुप्त,...

    + अधिक पढ़ें
  • 03महाराजा गंगाधर राव की छतरी

    महाराजा गंगाधर राव की छतरी

    महाराजा गंगाधर राव की छतरी एक कब्र या युद्ध स्मारक है। इसका निर्माण रानी लक्ष्मीबाई द्वारा 21 नवंबर 1853 को रानी लक्ष्मीबाई द्वारा उनके पति महाराजा गंगाधर राव के निधन के पश्चात करवाया गया था। लक्ष्मी ताल या तालाब के बाजू में स्थित यह छतरी झाँसी शहर का एक प्रमुख...

    + अधिक पढ़ें
  • 04परिछा

    परिछा

    परिछा से तात्पर्य झाँसी के दो महत्वपूर्ण स्थानों से है। एक बाँध का नाम है जो बेतवा नदी के ऊपर बनाया गया है तथा जो शहर से 25 किमी. की दूरी पर स्थित है। यहाँ एक जलाशय है जिसका शांत जल झाँसी से 34 किमी. दूर स्थित नोटघाट तक पहुँचता है। यह बाँध पानी के खेलों के लिए...

    + अधिक पढ़ें
  • 05ओरछा

    ओरछा

    1501 में महाराजा रूद्र प्रताप सिंह द्वारा स्थापित ओरछा जिसे उरचा भी कहा जाता था टीकमगढ़ जिले में स्थित है। यह राजसी राज्य मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र का एक भाग है। ओरछा बेतवा नदी के किनारे झाँसी से लगभग 15 किमी. और टीकमगढ़ से 80 किमी. की दूरी पर स्थित है।

    ...
    + अधिक पढ़ें
  • 06झाँसी महोत्सव

    झाँसी महोत्सव

    उत्तरप्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा फरवरी महीने के अंत या मार्च के प्रारंभ में एक सप्ताह के लिए आयोजित किया जाने वाला झाँसी महोत्सव बड़ी संख्या में चाहने वालों को आकर्षित करता है। यह त्योहार कई रोचक गतिविधियों से परिपूर्ण होता है जो बुंदेलखंड की जातीयता,...

    + अधिक पढ़ें
  • 07सेंट जुडेस चर्च

    सेंट जुडेस चर्च

    सेंट जुडेस चर्च, झाँसी के सिविल लाइंस में स्थित है जो कैथोलिक ईसाईयों के लिए प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। ऐसा विश्वास है कि इसकी नींव में सेंट जुड़े की हड्डी दफ़नाई गई है। इस चर्च का निर्माण 1966 में किया गया। स्वर्गीय बिशप एफएक्स फ्रेंच पहले व्यक्ति थे जिन्होंने अपने...

    + अधिक पढ़ें
  • 08गणेश मंदिर

    भगवान गणेश को समर्पित गणेश मंदिर वह स्थान है जहाँ 1842 में रानी लक्ष्मीबाई का राजा गंगाधर राव के साथ विवाह हुआ था। रानी जिनका विवाहपूर्व नाम मणिकर्णिका था, उन्हें औपचारिक रूप से लक्ष्मीबाई का नाम दिया गया।  झाँसी के किले के प्रवेश द्वार पर स्थित इस सुंदर...

    + अधिक पढ़ें
  • 09रानी महल

    रानी महल

    इसे रानी महल इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह भारत की प्रसिद्ध योद्धा रानी, रानी लक्ष्मीबाई का महल था। इसका निर्माण नेवालकर परिवार के रघुनाथ – द्वितीय ने करवाया था। यह महल देशभक्ति बलों का केंद्र था जिसका नेतृत्व रानी और मराठा सरदारों तात्या टोपे और नाना साहिब...

    + अधिक पढ़ें
  • 10झाँसी संग्रहालय

    झाँसी संग्रहालय

    झाँसी संग्रहालय झाँसी के ऐतिहासिक किले में स्थित है और शहर का लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। यहाँ हथियारों, टेराकोटा, मूर्तियों, परिधानों, कांस्य, चांदी, सोने और तांबे के सिक्को और मूर्तियों का प्रदर्शन देखने मिलता है।  ये प्रदर्शन चंदेल वंश के राजाओं के जीवन और...

    + अधिक पढ़ें
  • 11बरुआ सागर

    बरुआ सागर

    बरुआ सागर झाँसी जिले का एक शहर है जिसे बरुआ सागर इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहाँ बरुआ सागर नाम की एक भव्य झील स्थित है जो झाँसी से 25 किमी. दूर बेतवा नदी के किनारे स्थित है।  राजा उदित सिंह द्वारा निर्मित इस शहर में कई सुन्दर स्थान है जो बड़ी संख्या में...

    + अधिक पढ़ें
  • 12महालक्ष्मी मंदिर

    महालक्ष्मी मंदिर

    महालक्ष्मी मंदिर देवी लक्ष्मी को समर्पित है। लक्ष्मी दरवाज़े के बाहर लक्ष्मी ताल के निकट स्थित इस भव्य मंदिर का निर्माण 18 वीं शताब्दी में रघुनाथराव (द्वितीय) नेवालकर द्वारा किया गया, जिन्हें 1769 में उनके पूर्ववर्ती विश्वासराव लक्ष्मण की मृत्यु के बाद झाँसी का...

    + अधिक पढ़ें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
19 Jun,Sat
Return On
20 Jun,Sun
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
19 Jun,Sat
Check Out
20 Jun,Sun
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
19 Jun,Sat
Return On
20 Jun,Sun