Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » पौड़ी » आकर्षण
  • 01दूधाटोली

    दूधाटोली

    दूधाटोली पर्यटन के प्रमुख स्थानों में से एक है जो समुद्र सतह से 3100 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। थालीसैन अंतिम बस स्टॉप है जहाँ से पर्यटक 24 किमी. की पैदल यात्रा करके यहाँ तक पहुँच सकते हैं। मिश्रित वनों से घिरा हुआ यह स्थान महान हिमालय और आसपास के क्षेत्रों का...

    + अधिक पढ़ें
  • 02खिर्सू

    खिर्सू एक सुंदर स्थान है जो पौड़ी से 19 किमी. की दूरी पर स्थित है। खिर्सू से मध्य हिमालयीन पर्वत श्रेणियों का सांस रोकने वाला दृश्य देखा जा सकता है। समुद्र सतह से 1700 मीटर की ऊँचाई पर स्थित शहर की हलचल से दूर खिर्सू एक सुरम्य स्थान है।

    यहाँ के शांत...

    + अधिक पढ़ें
  • 03कंडोलिया मंदिर

    कंडोलिया मंदिर

    कंडोलिया मंदिर पौड़ी शहर से 2 किमी. की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर कंडोलिया देवता को समर्पित है जो स्थानीय भूमि देवता हैं।यह धार्मिक स्थान महान हिमालय की चोटियों और गंगवारस्यून घाटी का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। कंडोलिया से बुवाखल तक 4 किमी. का ट्रेकिंग का...

    + अधिक पढ़ें
  • 04कोटद्वार

    कोटद्वार

    कोटद्वार सबसे बड़ा व्यापारिक केंद्र है और साथ ही साथ पौड़ी गढवाल का एक मैदानी शहर है।यह एक अकेला ऐसा रेलवे स्टेशन है जो खोह नदी के किनारे स्थित है। कोटद्वार समुद्र सतह से 650 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। जिले के अन्य भागों की तुलना में इस स्थान में अधिक गर्म मौसम का...

    + अधिक पढ़ें
  • 05चौखंभा व्यूपॉइंट

    चौखंभा व्यूपॉइंट

    चौखंभा व्यूपॉइंट महान हिमालय की चोटियों और ग्लेशियरों के मनोरम दृश्य पर्यटकों के सम्मुख प्रस्तुत करने के लिए प्रसिद्ध है। यह एक शांत स्थान है जो घने हरे ओक के जंगलों और द्वारिखाल के रंगीन बुरुंश के वृक्षों से घिरा हुआ है। पौड़ी से 4 किमी. की दूरी पर स्थित इस स्थान...

    + अधिक पढ़ें
  • 06श्रीनगर

    श्रीनगर

    श्रीनगर एक सुंदर स्थान है जो अलकनंदा नदी के शांत किनारों पर स्थित है।पौड़ी शहर से 29 किमी. की दूरी पर स्थित यह इस जिले का सबसे बड़ा शहरी क्षेत्र है। औपनिवेशिक क्षेत्र से पहले यह स्थान गढवाल राजाओं की प्राचीन राजधानी था। शहर का नाम ‘श्रीयंत्र’ के नाम पर...

    + अधिक पढ़ें
  • 07ज्वालपा देवी मंदिर

    ज्वालपा देवी मंदिर

    ज्वालपा देवी मंदिर एक धार्मिक स्थान है जो पौड़ी से 34 किमी. की दूरी पर स्थित है। नवालिका नदी के बाएं किनारे पर स्थित यह मंदिर लगभग 350 मीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। विश्वासों के अनुसार भगवान भक्तों की हर इच्छा पूर्ण करते हैं।नवरात्रि के दौरान इस मंदिर में एक...

    + अधिक पढ़ें
  • 08अडवानी

    अडवानी

    अडवानी पिकनिक के लिए सुंदर स्थान है जो पौड़ी से 17 किमी. की दूरी पर स्थित है। यह शांत स्थान हरे भरे जंगलों से घिरा हुआ है। यहाँ एक फॉरेस्ट रेस्ट हाउस है जहाँ पर्यटक रुक सकते हैं।पौड़ी से अडवानी तक रास्ते द्वारा पहुँचा जा सकता है।

    + अधिक पढ़ें
  • 09भारत नगर

    भारत नगर

    भारत नगर एक सुंदर स्थान है जो समुद्र सतह से 1400 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। कोटद्वार से 22 किमी. की दूरी पर स्थित यह स्थान पवित्र नदी गंगा के ऊपर बने हुए बालावाली ब्रिज, कोटद्वार शहर और कलागढ़ बाँध का आकर्षक दृश्य प्रस्तुत करता है।

    + अधिक पढ़ें
  • 10एंगलिंग

    एंगलिंग

    एंगलिंग मनोरंजन की गतिविधियों में से एक है जिसका आनंद पर्यटक नायर नदी में उठा सकते हैं। आप नदी में स्वीमिंग (तैराकी) भी कर सकते हैं।नायर घाटी प्राकृतिक सुंदरता और शोभा से सुसज्जित है। सतपुली क्षेत्र फिशिंग और स्वीमिंग के लिए भी प्रसिद्ध है।इस क्षेत्र में ग्रामीण...

    + अधिक पढ़ें
  • 11साइकिलिंग

    साइकिलिंग

    गढ़वाल हिमालयीन क्षेत्र में साइकिलिंग एक नया साहसिक खेल है। साइकिलिंग का रास्ता पर्यटन विभाग, गढवाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर द्वारा निश्चित किया गया है। यह रास्ता समुद्र सतह से 1800 मीटर की ऊँचाई पर साइकिलिंग का आनंद लेने का अवसर प्रदान करता है।साईकिल चालक हिमालय की...

    + अधिक पढ़ें
  • 12तारा कुंड

    तारा कुंड

    तारा कुंड एक सुंदर स्थान है जो समुद्र सतह से 2200 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।यह स्थान चारीसरह विकास क्षेत्र में विशाल पहाड़ों के बीच स्थित है।पर्यटक मंदिर के पास एक छोटी झील देख सकते हैं। तीज का त्योहार यहाँ बड़े उत्साह और उल्लास के साथ मनाया जाता है।त्योहार के...

    + अधिक पढ़ें
  • 13सिद्धिबली मंदिर

    सिद्धिबली मंदिर

    सिद्धिबली मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित है जो कोटद्वार से 2 किमी. की दूरी पर स्थित है। पूरे वर्ष बड़ी संख्या में भक्त यहाँ आते हैं।

    + अधिक पढ़ें
  • 14क्यूंकालेश्वर महादेव मंदिर

    क्यूंकालेश्वर महादेव मंदिर

    क्यूंकालेश्वर महादेव मंदिर का निर्माण आठवीं शताब्दी में आदि शंकराचार्य ने उनकी पौड़ी की यात्रा के दौरान किया था।मुख्य शहर की सीमा पर स्थित यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और वे देवी पार्वती, गणपति और कार्तिकेय के साथ यहाँ स्थापित हैं। इसके अलावा यहाँ भगवान राम,...

    + अधिक पढ़ें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
17 Feb,Sun
Return On
18 Feb,Mon
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
17 Feb,Sun
Check Out
18 Feb,Mon
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
17 Feb,Sun
Return On
18 Feb,Mon
  • Today
    Pauri
    8 OC
    47 OF
    UV Index: 7
    Partly cloudy
  • Tomorrow
    Pauri
    7 OC
    44 OF
    UV Index: 7
    Moderate or heavy rain shower
  • Day After
    Pauri
    4 OC
    40 OF
    UV Index: 5
    Moderate or heavy rain shower