India
Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »Amarnath Yatra 2022: 30 जून से शुरू हो रही बाबा बर्फानी की यात्रा, जानें रूट मैप

Amarnath Yatra 2022: 30 जून से शुरू हो रही बाबा बर्फानी की यात्रा, जानें रूट मैप

जून-जुलाई का महीना हो और बाबा भोलेनाथ के दर्शन की बात हो तो हमारे मन में सबसे पहले बाबा बर्फानी के मनोरम और अद्भुत स्वनिर्मित शिवलिंग का चित्रण होने लगता है। दो साल के लंबे अंतराल के बाद इस बार 30 जून को बाबा के कपाट खुलने वाले है। भगवान शिव में आस्था रखने सभी भक्तों के लिए एक अच्छा अवसर है, जब वो इतने समय बाद बाबा के दर्शन प्राप्त कर सकेंगे।

अगले 43 दिनों तक चलने वाली इस यात्रा के लिए बीते 11 अप्रैल से ही आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। इस बीच लाखों श्रद्धालुओं ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। यहां आने वाले सभी भक्तों को बीमा करवाया जाता है। पहले यह राशि 3 लाख रुपये थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया गया है।

amarnath yatra, amarnath cave

अमरनाथ यात्रा के लिए रूट मैप

हमेशा की तरह ही इस बार भी बालटाल और पहलगाम दोनों रास्तों से श्रद्धालुओं को भेजा जाएगा। इन दोनों रास्तों पर सेना की टुकड़ियों भक्तों के हिफाजत के लिए लगाई गई है। बालटाल का रास्ता पहलगाम वाले रास्ते से कम है, लेकिन इस रास्ते पर ज्यादा खतरा रहता है। विगत वर्ष, इसी रास्ते पर अमरनाथ यात्रा से लौटने वाले बस को आतंकियों ने निशाना बनाया था।

पहलगाम से अमरनाथ यात्रा

पहलगाम रूट, अमरनाथ यात्रा का सबसे पुराना और ऐतिहासिक रूट है। इस रूट से गुफा तक पहुंचने में करीब 3 दिन लगते हैं। पहलगाम से पहला पड़ाव चंदनवाड़ी का आता है, जो पहलगाम बेस कैंप से करीब 16 किमी. दूर स्थित है। इसके बाद भक्तों को चढ़ाई वाले रास्ते मिलने लगते हैं। इसके बाद अगला पड़ाव 3 किमी. दूर पिस्सू टॉप है। फिर तीसरा पड़ाव शेषनाग है, जो पिस्सू टॉप से करीब 9 किमी. दूर है। शेषनाग के बाद अगला पड़ाव पंचतरणी का आता है, जो शेषनाग से 14 किमी. दूर है। पंचतरणी से पवित्र गुफा की दूरी मात्र 6 किमी. रह जाती है।

amarnath yatra, amarnath cave

बालटाल से अमरनाथ यात्रा

बालटाल से पवित्र गुफा तक कम समय में पहुंचा जा सकता है, यह पहलगाम वाले रास्ते से छोटा है। बालटाल से अमरनाथ गुफा की दूरी करीब 14 किलोमीटर है, लेकिन यह रास्ता काफी कठिन और सीधी चढ़ाई वाला है। इसलिए इस रूट से ज्यादा बुजुर्ग और बीमार नहीं जाते हैं और इस पर रास्ते पर खतरा भी बना रहता है।

कैसे पहुंचें अमरनाथ धाम

बाबा बर्फानी के धाम पहुंचने के लिए सबसे पहले भक्तों को श्रीनगर पहुंचना होगा। यहां बाबा अमरनाथ का पवित्र गुफा करीब 140 किमी. दूर है। श्रद्धालु यहां से बालटाल या पहलगाम के लिए बस पकड़कर या प्राइवेट टैक्सी लेकर जा सकते हैं।

Read more about: कश्मीर kashmir
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X