» »राजगीर पौराणिक, एतिहासिक व धार्मिक का संगम-राजगीर

राजगीर पौराणिक, एतिहासिक व धार्मिक का संगम-राजगीर

Written By: Goldi

अमूमन सभी बच्चो के एग्जाम हो चुके हैं...ऐसे में पूरे साल की पढाई के बाद बच्चो की छुट्टियाँ तो बनती है ना ।  तो आप अपने बच्चो को कहां घुमाने ले जा रहे हैं..अभी तक नहीं सोचा तो परेशान ना हो क्यों कि आज हम आपको अपने लेख के जरिये बताने जा रहें
बिहार के खूबसूरत होलीडे डेस्टिनेशन राजगीर के बारे में। 

राजगीर पटना से 100 किमी उत्तर में पहाड़ियों और घने जंगलों के बीच बसा हुआ प्रसिद्ध धार्मिक तीर्थस्थल के रूप में दुनियाभर में लोकप्रिय है। सुरम्य पहाड़ियों के बीच बसा यह शहर बहुत पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता रहा है।
राजगीर से बोध गया 70 किमी की दूरी पर स्थित है।

राजगीर सात पहाड़ियों से मिलकर बना है, जिनके नाम इस प्रकार है- छठगिरी, रत्नागिरी, शैलगिरी, सोनगिरी, उदयगिरी, वैभवगिरी,विपुलगिरी।हर पहाड़ी पर कोई ना कोई जैन,बौद्ध,हिन्दू मंदिर स्थापित है। इस प्रकार राजगिरी इन तीन धर्मों का तीर्थ माना जाता है।

राजगीर पर्यटन स्मारकों और ऐसी जगहों से भरा पड़ा है, जो यात्री के ज्ञान और अनुभव को समृद्ध कर सकता है और किसी को भी रोमांच कर सकता है। प्रमुख आकर्षण अजातशत्रु किला, जीवककरम उद्यान, और स्वर्ण भंडार शामिल हैं। ब्रह्मकुंड राजगीर पर्यटन का एक प्रमुख मुख्य अंश है। ब्रह्मकुंड व्यापक रूप से प्रख्यात औषधीय गुणों वाले गर्म पानी के झरने के लिए जाना जाता है और पर्यटकों की भीड़ को आकर्षित करता है।
 

राजगीर की पंच पहाड़ियां

राजगीर की पंच पहाड़ियां

राजगीर की पंच पहाड़ियों, विपुलगिरी, रत्नागिरी, उदयगिरी, सोनगिरी और वैभारगिरी न केवल प्राकृति सौन्दर्य से परिपूर्ण है,इन पहाड़ो की खूबसूरती पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है।
PC: wikimedia.org

विश्व शांति स्तूप

विश्व शांति स्तूप

शांति शिवालय यानी विश्व शांति स्तूप एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्तंभ है। यह परमात्मा के रूप में अपनी शांति के आकर्षण को लिए, 400 मीटर की ऊंचाई पर, रणगीर पहाड़ी के उच्चतम बिंदु पर स्थित है। स्तूप बुद्ध की चार स्वर्ण प्रतिमाओं को स्थापित करते हुए, विश्व शांति के प्रतीक सफेद संगमरमर पत्थर से बना है। यहां रोपवे के माध्यम से पहुँचा जा सकता है।PC: wikimedia.org

सोन भंडार गुफाएं

सोन भंडार गुफाएं

सोन भंडार गुफाएं एक गौरवशाली अतीत है और इसने कई महत्वपूर्ण घटनाओं को देखा है। यह अनिवार्य रूप से एक दो गुफा अधिवास है, जिनमें से माना जाता है कि उनमें से एक ने खजाने के कमरे के रूप में और दूसरे ने गार्ड रूम के रूप में कार्य किया था।
PC: wikimedia.org

पिप्पला गुफा

पिप्पला गुफा

वैभव पहाड़ियों के ऊपर स्थित हैं। इस गुफा की अलग बात यह है कि, यह एक प्राकृतिक गुफा है और एक गुम्मट के रूप में कार्य करती है। बाद में इसने बौद्ध भिक्षुओं के लिए एक सुरक्षित मांद के रूप में सेवा की।
PC: wikipedia.org

वेणुवन बिहार

वेणुवन बिहार

इस वन को बिम्बिसार भगवान बुद्ध के रहने के लिए बनवाया था। साथ ही वैभव पर्वत की सीढ़ियों पर गर्म जल की कई झरने यानि सप्तधाराएं हैं जहां सप्तकर्णी गुफाओं से जल आता है। इन झरनों के पानी में कई चिकित्सकीय गुण होने के प्रमाण मिले हैं।पुरुषों और महिलाओं के नहाने के लिए 22 कुन्ड बनाए गये हैं। इनमें "ब्रह्मकुन्ड" का पानी सबसे गर्म (४५ डिग्री से.) होता है।

कैसे आएं राजगीर

कैसे आएं राजगीर

वायुमार्ग: निकटतम हवाई-अड्डा पटना (107 किमी)
रेलमार्ग: पटना एवं दिल्ली से सीधी रेल सेवा।
सड़क द्वारा: पटना, गया, दिल्ली एवं कोलकाता से सीधा संपर्क।
बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम पटना स्थित अपने कार्यालय से नालंदा एवं राजगीर के लिए वातानुकूलित टूरिस्ट बस एवं टैक्सी सेवा भी उपलब्ध करवाता है।

 कब आएं राजगीर

कब आएं राजगीर

यूं तो आप कभी भी इस रमणीय स्थल का दर्शन करने आ सकते हैं, लेकिन अक्टूबर से मार्च तक यहां का मौसम सुहाना और पर्यटकों के लिए बेहतरीन होता है।

Please Wait while comments are loading...