Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »एडवेंचर और नेचर के शौकीनों के लिए स्वर्ग से कम नहीं है मणिपुर की राजधानी इम्फाल

एडवेंचर और नेचर के शौकीनों के लिए स्वर्ग से कम नहीं है मणिपुर की राजधानी इम्फाल

By Syedbelal

मणिपुर की राजधानी इम्फाल, उत्तर पूर्वी भारत में पूरी तरह से सिमटा हुआ एक छोटा सा शहर है। इम्फाल द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सुर्खियों में आया था, जब जापानियों ने भारत में प्रवेश किया और क्षेत्र भर में युद्ध छेड़ा था। इम्फाल की लड़ाई और कोहिमा की लड़ाई का द्वितीय विश्व युद्ध के इतिहास में काफी उल्लेख किया गया है, क्योंकि तब ऐसा पहली बार हुआ था, कि किसी ने क्रूर जापानी फ़ौज को एशियाई मिट्टी पर हराया हो। कई लोगों ने सोचा कि इम्फाल युद्ध से बुरी तरह प्रभावित होगा, लेकिन हैरत की बात है कि शहर ने खरोंच से खुद को नए उत्साह के साथ पुनर्निर्मित किया।

यदि बात इम्फाल में और उसके आसपास स्थित पर्यटक स्थलों की हो तो आपको अवगत करा दें कि इम्फाल में यात्रा करने के लिए कई स्थान हैं। कांगला फोर्ट इम्फाल में सबसे ज्यादा घूमने वाले स्थलों में से एक है, यह 2004 तक असम राइफल्स के नियंत्रण के तहत था, जिसके बाद भारत के प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने भूमि को औपचारिक रूप से राज्य सरकार को सौंप दिया था। 'कांगला' एक मेइती शब्द है, जिसका अर्थ है 'शुष्क भूमि और इम्फाल नदी के तट पर स्थित है।

Must Read : झीलों, नदियों और धान के खेतों वाले थौबल में क्या है ख़ास आपके लिए

इम्फाल की यात्रा के दौरान, पर्यटकों को ख्वैरामबंद बाजार जरूर जाना चाहिए, खासतौर से 'इमा किथेल' अद्वितीय बाजार, जो पूरी तरह से महिलाओं द्वारा संचालित है। 'इमा किथेल' का वस्तुतः मतलब है माँ का बाजार। पोलो ग्राउंड भी इम्फाल में वो जगह है, जहां ज़रूर जाना चाहिए क्योंकि यह दुनिया में सबसे पुराना पोलो ग्राउंड है, जो आज भी सक्रिय है। आइये इस लेख के जरिये जानें कि अपनी इम्फाल यात्रा पर आपको क्या देखना चाहिए।

कांगला पैलेस

कांगला पैलेस

मणिपुर के गौरव की एक जगह, 17वीं सदी से कांगला पैलेस आज भी मजबूती से खड़ा हुआ है। कांगला मेइती शब्द से आया है, जिसका अर्थ है 'शुष्क भूमि'। कांगला के पैलेस को, आमतौर पर कांगला किले के रूप में जाना जाता है, जो इम्फाल नदी के तट पर स्थित है और जिसे उचित रूप से एक किले के शहर के रूप में वर्णित किया जा सकता है। हालांकि इसका ज्यादा भाग अब खंडहर बन गया है, यह अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि कभी इसका महत्वपूर्ण राजनीतिक और धार्मिक महत्व था। कांगला के पैलेस ने मेइती राजाओं, जिन्होंने मणिपुर पर शासन किया था के निवास स्थान के रूप में भी सेवा की है। विस्मयकारक ईंट की दीवारें 1632 ई. में एक जेल के रूप में थीं, जब चीनी कैदियों को बंदी बना लिया गया था और यहाँ रखा गया था।

पोलो ग्राउंड

पोलो ग्राउंड

पोलो ग्राउंड दुनिया में सबसे पुराना पोलो मैदान है। यद्यपि अंग्रेजों द्वारा लोकप्रिय हुआ पोलो मणिपुर में उत्पन्न हुआ था, जहां घोड़े की पीठ पर बैठकर खिलाड़ियों को गोल्स करने होते थे। यह खेल टीम में खेला जाता है। मणिपुर में 'कंजई-बाज़ी', 'सागोल कान्ग्जे', या 'पुलु' खेल था, आज अंग्रेजी शब्द, पोलो के रूप में जाना जाता है। इम्फाल में पोलो ग्राउंड के सन्दर्भ लगभग 33 ई. में शाही इतिवृत्त चेइथारोल कुमबबा में लिखित में पाये जा सकते हैं। खेल की कई महत्वपूर्ण हस्तियां और खिलाड़ी पोलो मैदान में खेलने के लिए इम्फाल आते थे।

श्री गोविंदाजी मंदिर

श्री गोविंदाजी मंदिर

श्री गोविंदाजी मंदिर उन शुभ फिर भी निरहंकारी मंदिर में से एक है, जहां पवित्रता और धर्मनिष्ठता किसी भी मार्गदर्शन के बिना आती है। यह वैष्णवों का एक केंद्र है और मणिपुर के मुख्य मंदिरों में से एक है। महाराजा के रॉयल पैलेस के पास स्थित, यह मंदिर दो भागों में विभाजित है, आंतरिक पवित्र स्थान और बाहरी कवच। भगवान गोविंद अंदर की एकांत जगह पर रखे जाते हैं जबकि जगन्नाथ, सुभद्रा, बलराम और कृष्ण की मूर्तियां मंदिर के चारों ओर सलस के रूप में जाने जाने वाले कक्षों या धार्मिक स्थलों पर रखी जाती हैं। सभी मूर्तियों को बनाने के लिए प्लास्टर और लकड़ी का इस्तेमाल किया गया है। मंदिर 1846 के आसपास मणिपुर पर राज करने वाले राजा के द्वारा बनावाया गया था। यह शहर के मध्य से सिर्फ एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इमा किथेल

इमा किथेल

दुनिया में सबसे अनूठी जगहों में से एक, ख्वैरामबंद बाजार में इमा किथेल महिलाओं का अकेला बाजार है। पूरी तरह से महिलाओं द्वारा चलाए जाने वाले इमा किथेल में आप हर चीज और सब कुछ पा सकते हैं। यदि एक कोने में, एक औरत एक किलो मछली तौलने में व्यस्त है, तो दूसरे कोने में कोलाहल के बीच एक औरत बुनाई करती हुई और ग्राहकों को खुश करने के लिए तुरंत के बने हुए ऊनी कपड़ों को बेचती हुई पाई जा सकती है। एक परंपरा, जो 100 से अधिक साल पुरानी है, इमा किथेल महिलाओं की समानता और स्वतंत्रता का एक शुद्ध प्रतीक है। एक आदमी भी यहाँ कुछ भी बेंचता हुआ नहीं पाया जाता है और 3000 से अधिक महिलाओं ने यहाँ अपने कारोबार को स्थापित किया है।

मणिपुर जन्तु उद्यान

मणिपुर जन्तु उद्यान

मणिपुर जन्तु उद्यान विशेष रूप से दुर्लभ प्रजाति के संरक्षण के लिए निर्मित किया गया है। इम्फाल कंग्चप रोड पर स्थित इंफाल से लगभग आठ किलोमीटर की दूरी पर स्थित, मणिपुर जन्तु उद्यान आठ हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह मणिपुर के गहने के डिब्बे के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह वास्तव में कुछ लुप्तप्राय प्रजातियों का घर है। मणिपुर जन्तु उद्यान में संरक्षित प्रजातियों के बीच, लचीले और भौंह- सींग की एक शाखा थायमिन हिरण (संगाई) लोकप्रिय हैं। यहाँ पक्षियों की 55 से अधिक प्रजातियां और जानवरों के 420 प्रकार पाए जाते हैं। यह करीब 14 लुप्तप्राय जानवरों का घर है।

इम्फाल घाटी

इम्फाल घाटी

वहाँ मणिपुर में पहाड़ियों के नीचे बहने वाली कई छोटी नदियां हैं। इनमें से कई इंफाल घाटी को एक अंडाकार आकार देते हुए इसके ऊपर से बहती हैं। इंफाल घाटी 1843 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है और मणिपुर के क्षेत्र के दसवें भाग तक शामिल है। पूरे राज्‍य की 70 फीसदी जनसंख्‍या इसी घाटी में रहती है। कुछ नदियां, जो घाटी के नीचे बहती हैं वो हैं इम्फाल नदी, खुगा, इरिल, थोबल और सेकमई। वहाँ घाटी में कई झीलें, दलदल से भरे हुए दलदली क्षेत्र हैं। क्षेत्र में झीलों में सबसे प्रसिद्ध लोकतक झील है, जो उत्तर - पूर्वी भारत में सबसे बड़े ताजे पानी की झीलों के लिए जानी जाती है।

कैसे जाएं इम्फाल

कैसे जाएं इम्फाल

फ्लाइट द्वारा : इम्फाल हवाई अड्डा शहर से 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और शटल गाड़ियों और सार्वजनिक परिवहन के अन्य साधनों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। नई दिल्ली, कोलकाता, गुवाहाटी, आइजोल, बंगलौर और सिलचर से सीधी उड़ानें हैं। एयर इंडिया क्षेत्रीय, जेटकनेक्ट और इंडिगो जैसे विमान इस हवाई अड्डे से चलते हैं।

रेल द्वारा : इम्फाल में कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। वहाँ इम्फाल में और उसके आसपास और कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। दीमापुर प्रमुख निकटतम रेलवे स्टेशन है और शहर से 208 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ से नई दिल्ली, गुवाहाटी, कोलकाता और देश के कई अन्य स्थानों तक और वाहाँ से सीधी गाड़ियां हैं। दीमापुर रेलवे स्टेशन पर इम्फाल के लिए गाड़ियां आसानी से उपलब्ध हैं।

सड़क मार्ग द्वारा : आप उत्तर पूर्व में सभी प्रमुख कस्बों और शहरों से सड़क मार्ग से इम्फाल तक पहुँच सकते हैं। यह गुवाहाटी से 479 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और राष्ट्रीय राजमार्ग-39 और राष्ट्रीय राजमार्ग-150 से जुड़ा हुआ है। आप 208 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दीमापुर से होते हुए भी इस शहर तक पहुँच सकते हैं। इस सड़क मार्ग से आने पर आपको बेहतरीन रोमांच का अनुभव होगा।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Nativeplanet sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Nativeplanet website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more