» »ये हैं भारत की विशाल मूर्तियाँ..

ये हैं भारत की विशाल मूर्तियाँ..

Written By: Goldi

भारत एक ऐसा देश है, जो हर प्रारूप में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। हमने अपने आर्टिकल के जरिये आपको भारत के खूबसूरत किले, हिल स्टेशन, खूबसूरत वादियों आदि के बारे में बताया।
         
                   भारत में मानव दिमाग की अद्भुत उपज हैं ये 4 अनोखे हवाई अड्डे!

इसी क्रम में आज हम आपको बताने जा रहें, भारत की कुछ ऊँची मूर्तियों के बारे में। यकीनन आपने भारत में कई ऊँची-ऊंची मूर्तियां देखी होगीं..लेकिन आज हम आपको अपने लेख के जरिये भारत की विशाल मूर्तियों के बारे में अवगत कराने जा रहें हैं..जो देश में रिकॉर्ड है।

                                     भारत के 5 ऐसे शानदार हवाई अड्डे

यहां बरसों से मूर्तियों के माध्यम से भगवान को पूजा जा रहा है। यहां रहने वाले लोगों में इन मूर्तियों पर अटूट विश्वास और श्रद्धा है। तो अब अगर हम विश्व मानचित्र पर भारत की बात करें तो मिलता है कि अपनी इन्हीं बेशकीमती मूर्तियों और बेमिसाल मंदिरों के चलते आज भारत को मंदिरों के देश के नाम से जाना जाता है। तो आइये स्लाइड्स पर डालते हैं नजर....

वीर अभया अंजनेया स्वामी

वीर अभया अंजनेया स्वामी

वीर अभया अंजनेया स्वामी 135 फीट लंबी और वर्ष 2003 में आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में स्थापित की गयी भगवान हनुमान की ये मूर्त्ति वर्त्तमान में भारत की सबसे लंबी मूर्ति हैं।

थिरूवल्लूवर प्रतिमा

थिरूवल्लूवर प्रतिमा

यह प्रतिमा कन्याकुमारी का प्रमुख चिन्ह स्थान है। यह पत्थर की बनी एक विशाल खड़ी प्रतिमा है और प्रसिद्ध सन्त और तमिल कवि थिरूवल्लूवर को समर्पित है। थिरूवल्लूवर प्रतिमा की ऊँचाई लगभग 133 फीट है। प्रतिमा के आधार की ऊँचाई लगभग 38 फीट है और यह थिरूवल्लूवर द्वारा रचित थिरूकुलाल पुस्तक के अरम के 38 अध्यायों को दर्शाता है।

पद्मसंभव

पद्मसंभव

पद्मसंभव का शाब्दिक अर्थ होता है "कमल से पैदा हुआ" 'गुरु रिंपोचे जिनको दूसरे बुद्ध के नाम से भी जाना जाता है की हिमाचल में स्थापित मूर्ति भारत की अन्य विशालतम मूर्तियों में है। इस मूर्ति की लम्बाई 123 फीट है।

मुरुदेश्वर

मुरुदेश्वर

मुरुदेश्वर स्थित भगवान शिव की मूर्ति कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले में स्थित मुरुदेश्वर में भगवान शिव की इस मूर्ति का भी शुमार भारत की विशालतम मूर्तियों में है। ये हिन्दू धर्म का एक महत्त्वपूर्ण स्थान है जहां हर साल लाखों की संख्या में भक्त आते हैं। यहां भगवान शिव की मूर्ति की लम्बाई 122 फीट है और इसके पीछे विशाल अरब सागर है।

आदियोगी

आदियोगी

कोयंबटूर स्थित आदियोगी शिव की प्रतिमा को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया। इस मूर्ति की कुल ऊंचाई 112 फिट है। इस मूर्ति का अनावरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया था।
PC: wikimedia.org

पद्मसंभव,नामची

पद्मसंभव,नामची

नामची स्थित गुरु पद्मसंभव की ये मूर्ति 118 फीट की है। ये स्थान बौद्ध धर्म का महत्त्वपूर्ण केंद्र है।PC: wikimedia.org

बसावा की मूर्ति

बसावा की मूर्ति

कर्नाटक के बिदार जिले में स्थापित बसावा की ये मूर्ति 108 फीट लम्बी है। बसावाकल्याणा में स्थित ये मूर्ति अब तक बनी बसावा की सभी मूर्तियों में सबसे विशाल है, और विश्व की सबसे लम्बी मूर्ति है।

माइंडरोलिंग मठ स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति

माइंडरोलिंग मठ स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति

उत्तराखंड के देहरादून में स्थापितभगवान बुद्ध की ये मूर्ति 107 फीट ऊंची मूर्ति है।

जय हनुमान

जय हनुमान

महाराष्ट्र का नांदुरा में भगवान हनुमान की ये मूर्ति हमेशा ही आने वाले पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करती है। इस मूर्ति की ऊँचाई 105 फीट है.. PC: Surabhi Dhake

 हर की पौड़ी में शिव की प्रतिमा

हर की पौड़ी में शिव की प्रतिमा

उत्तराखंड स्थित हरिद्वार के हर की पौड़ी में स्थापित भगवान शिव की ये प्रतिमा भी भारत की सबसे लम्बी प्रतिमा है। इस प्रतिमा की लम्बाई 100 फीट है। ये मूर्ति भगवान शिव की तीसरी सबसे लम्बी मूर्ति है।
PC:Daniel Echeverri

चिन्मय गणाधीश

चिन्मय गणाधीश

चिन्मय मिशन द्वारा स्थापित भगवान गणेश की ये मूर्ति 85 फीट लंबी मूर्ति है। ये मूर्ति महाराष्ट्र के कोल्हापुर में है जो भगवान गणेश की अब तक कि सबसे लम्बी मूर्ति है।

Please Wait while comments are loading...