» »#6Days: सैर करें मंदिरों के देश तमिलनाडू की

#6Days: सैर करें मंदिरों के देश तमिलनाडू की

Written By: Goldi

भारत के दक्षिणी हिस्से में स्थित तमिलनाडू को मंदिरों की भूमि कहा जाता है..इसमें कोई शक नहीं है कि, यहां आप कई भव्य मंदिरों को देख सकते हैं..जिनमे से खास है रामेश्वरम,कन्याकुमारी और मदुरै..ये तीनों ही जगह तमिलनाडू की खूबसूरती को भी दर्शाती हैं।ये तीनों ही शहर आसपास स्थित, जिससे आसानी से इन्हें घूमा जा सकता है।

दक्षिण का कश्मीर-लांबासिंगी

मेरी यात्रा बंगलौर से ईसीआर के माध्यम से रामेश्वरम फिर कन्याकुमारी से होते हुए मदुरै एनएच 44 के माध्यम से बैंगलोर में समाप्त हुई। रोड ट्रिप करने का आनन्द तब और दुगना हो जाता है, जब सड़के बेहद अच्छी हो..और जब आप मेरा आर्टिकल पढ़ने के बाद अगर यह रोड ट्रिप करने का फैसला करते हैं..तो आप भी पाएंगे कि, वाकई अगर रोड अच्छी हो एक रोड ट्रिप कितनी शानदार और यादगार हो सकती है। हमारी यह यात्रा 6 दिन में पूरी हुई..

पम्बन ब्रिज

पम्बन ब्रिज

रामेश्वरम, तमिलनाडु राज्य में स्थित एक बेहद ही लोकप्रिय और खूबसूरत शहर है जोकि,भारतीय प्रायद्वीप की नोक पर मन्नार की खाड़ी में स्थित पन्बम द्वीप पर स्थित है और पम्बन ब्रिज द्वारा मुख्य भूमि भारत से जुड़ा हुआ है। पम्बन ब्रिज एक रेलवे पुल है, जिसे वर्ष 1914 में खोला गया था, यह भारत का पहला समुद्र पुल था। रेलवे पुल के अलावा एक सड़क पुल का निर्माण पम्बन ब्रिज के समानांतर बनाया गया था जिसे इंदिरा गांधी रोड ब्रिज के नाम से जाना जाता है।PC:S N Barid

रामेश्वरम

रामेश्वरम

रामेश्वरम हिंदुयों के पवित्र धार्मिक स्थलों में से एक है..यहां जगह रामायण काल से जुड़ी हुई है। यहां भगवान शिव को समर्पित रामनाथस्वामी मंदिर, शहर के केंद्र में स्थित है। इस मंदिर में 22 थिथेम (पवित्र जल निकायों) के भीतर कुएं के रूप में इसका परिसर है। इसे अग्नि थीर्थम भी कहा जाता है, बंगाल की खाड़ी में स्थित समुंद्र में नहाने बेहद शुभ माना जाता है। बद्रीनाथ,पुरी और द्वारका के साथ रामेश्वरम भी हिंदुयों के पवित्र चार धामों में से एक है..PC: Mathanagopal

धनुषकोड़ी

धनुषकोड़ी

रामेश्वरम की यात्रा बिना धनुषकोड़ी जाए कभी पूरी नहीं हो सकती,धनुषकोड़ी रामेश्वरम से करीबन 20 किमी की दूरी पर स्थित है..धनुषकोड़ी के एक तरफ बंगाल की खाड़ी है तो दूसरे छोर पर भारतीय महासागर। यह खंड अंततः एक संगम (संगम) में समाप्त होता है, जहां बंगाल की खाड़ी में भारतीय महासागर के साथ विलय हो जाता है यह दृश्य व्यवहार और अविश्वसनीय रूप से बेहद सुंदर है, सूर्यास्त के समय यहां रंग बदलते हुए भी देखे जा सकते हैं।

साल 1 9 64 दिसंबर में एक तूफान ने धनुशकोड़ी के पूरे गांव का सफाया कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप अब यह गांव भूतिया हो गया है, यहां कोई भी रहना नहीं चाहता, यह शहर कभी बेहद समृद्ध शहर था, लेकिन आज धनुषकोड़ी में सिर्फ खंडहरों को ही देखा जा सकता है। हालांकि,अब यहां मछुआरों पर कब्जा कर लिया गया है, जो यहां मछलियाँ पकड़न आते हैं।PC: Shubham Gupta

जीवन में जरूरी एक यात्रा रामेश्वरम की

जीवन में जरूरी एक यात्रा रामेश्वरम की

रामेश्वरम का मतलब संस्कृत में "भगवान का राम" है।हिंदू महाकाव्य रामायण के मुताबिक,विष्णु के सातवें अवतार राम ने भगवान शिव से प्रथाना की अगर श्रीलंका के राक्षस-राजा रावण के खिलाफ युद्ध के दौरान अगर उनसे कोई गलती हो जाये तो उसे माफ़ कर दिया जाये। रामसेतु ब्रिज श्रीलंका के उत्तर-पश्चिमी तट से रामेश्वरम और मन्नार द्वीप के बीच चूना पत्थर शॉल की एक श्रृंखला है। भारत और श्रीलंका को अलग समुद्र को सेतुसमुद्रम कहा जाता है जिसका अर्थ है "पुल का सागर"। रामायण काल के दौरान इस पुल का निर्माण कर भगवान राम ने रावण पर चड़ाई कर माता सीता को रावण के चंगुल से छुड़ाया था।जीवन में एक बार रामेश्वरम की यात्रा जरूरी है,क्योंकि यह भारत के चरम बिंदुओं में से एक है और यह शानदार विचारों के साथ एक समृद्ध संस्कृति और विरासत को दिखाता है।PC: Vishnukiran L.S

कन्याकुमारी

कन्याकुमारी

रामेश्वरम के दक्षिण में प्रायद्वीपीय भारत के दक्षिणी बिंदु में स्थित कन्याकुमारी को केप कोमोरिन के रूप में जाना जाता था, कन्याकुमारी तीन ओर से समुद्र से घिरा है, अर्थात बंगाल की खाड़ी, अरब समुद्र और हिंद महासागर।PC:Skmishraindia

कन्याकुमारी

कन्याकुमारी

कन्याकुमारी अपने सूर्योदय और सूर्यास्त के लिए जाना जाता है। सूर्योदय को देखने के लिए सबसे अच्छी जगह विवेकानंद रॉक मेमोरियल है, जिसपर सूर्य की किरण सीधी पड़ती हैं।सूर्य विवेकानंद रॉक मेमोरियल और तिरुवल्लुवर प्रतिमा के बगल में क्षितिज से उगता है और इस तरह शानदार समुद्र पर सुंदर आकाश को उजागर होता है, ये नजारा वाकई काफी अतुलनीय है। इस खूबसूरत नजारे को देखने के लिए पूरा शहर भारतीय उपमहाद्वीप के दक्षिणी सिरे पर इकट्ठा होता है।
सूर्यास्त का आनंद शहर के दक्षिण पश्चिमी हिस्से में स्थित सूर्यास्त समुद्र तट पर लिया जा सकता है जहां इस लुभावनी दृष्टि को देखने के लिए बहुत से लोग तट पर इकट्ठा होते हैं।PC: Nikhil B

तिरुवल्लुवर स्टेच्यू

तिरुवल्लुवर स्टेच्यू

कन्याकुमारी में तिरुवल्लुवर प्रतिमा को भी देखा जा सकता है,यह प्रतिमा कन्याकुमारी का प्रमुख चिन्ह स्थान है। यह पत्थर की बनी एक विशाल खड़ी प्रतिमा है और प्रसिद्ध सन्त और तमिल कवि थिरूवल्लूवर को समर्पित है। थिरूवल्लूवर प्रतिमा की ऊँचाई लगभग 133 फीट है। यह प्रतिमा विवेकानन्द रॉक मेमोरियल के बगल में है। प्रतिमा के आधार की ऊँचाई लगभग 38 फीट है और यह थिरूवल्लूवर द्वारा रचित थिरूकुलाल पुस्तक के अरम के 38 अध्यायों को दर्शाता है। इसके अलावा इसी आधार पर 95 फीट ऊँची प्रतिमा को रखा गया है जो थिरूकुलाल पुस्तक के इनबाम के 25 अध्यायों और पोरूल के 70 अध्यायों को दर्शाता है।इसे देखने के लिए पर्यटक कन्याकुमारी शहर में एक डॉकिंग बिंदु से नौका ले कर पहुंच सकते हैं। हालांकि, किसी न किसी समुद्र और रखरखाव के काम के दौरान प्रवेश प्रतिबंधित है।

PC: Darisi sumanth

विवेकानंद रॉक मेमोरियल

विवेकानंद रॉक मेमोरियल

विवेकानंद रॉक मेमोरियल वावटथुरई की मुख्य भूमि के लगभग 500 मीटर पूर्व में स्थित दो चट्टानों में से एक है, जो भारत के दक्षिणी दक्षिणी टिप है। यह 1 9 70 में स्वामी विवेकानंद के सम्मान में बनाया गया था कहा जाता है कि वह चट्टान पर ज्ञान प्राप्त करता है। कन्याकुमारी के डॉकिंग प्वाइंट से यहां नौका ले कर पहुंचा जा सकता है।

PC: wikimedia.org

मदुरै

मदुरै

इस यात्रा का मुख्य आकर्षण मदुरै था, जोकि तमिलनाडू के प्राचीन शहरों में से एक है। अक्सर इस शहर को मंदिरों का शहर या फिर पूर्वी एथेंस के रूप में जाना जाता है। वैगई नदी के किनारे स्थित मंदिरों का यह शहर सबसे पुराने बसे हुए शहरों में से एक है। शहर के उत्तर में सिरुमलाई पहाड़ियां स्थित हैं तथा दक्षिण में नागामलाई पहाड़ियां स्थित हैं। मदुरई का नाम "मधुरा" शब्द से पड़ा जिसका अर्थ है मिठास। कहा जाता है कि यह मिठास दिव्य अमृत से उत्पन्न हुई थी तथा भगवान शिव ने इस अमृत की इस शहर पर वर्षा की थी।देशी हो या विदेशी यहा सभी मीनाक्षी मंदिर की भव्यता को देखने आते हैं।PC: Jorge Royan

मदुरै मीनाक्षी अम्मान मंदिर

मदुरै मीनाक्षी अम्मान मंदिर

मीनाक्षी मंदिर पार्वती को समर्पित एक ऐतिहासिक हिंदू मंदिर है, जिसे मीनाक्षी के रूप में जाना जाता है, भगवान शिव को यहां सुंदरेश्वर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर 2,500 वर्षीय मदुरै शहर के है। मंदिर में अनुमानित 33,000 मूर्तियां हैं यह "विश्व के नए सात आश्चर्यों" के लिए शीर्ष 30 नामों की सूची में था 45 एकड़ के क्षेत्र में फैले हुए मंदिर मंदिर में बारह उत्कृष्ट गुरूपम (टॉवर) भी है, जो बड़े पैमाने पर मूर्तिकला को दिखाते है। सबसे बड़ा टॉवर 170 फीट की ऊंचाई तक का है।PC:எஸ்ஸார்

मदुरै

मदुरै

इस विशाल मंदिर को देखने में तीन से चार घंटे का समय लगा, इस मंदिर को देखने और जानने समझने के लिए हमने गाइड की सहायता ली.जिससे हम इस मंदिर का इतिहास आदि समझ सके। यह मंदिर फोटोग्राफरों के लिए एक स्वर्ग है, साथ ही यहां देवताओं की फोटो खींचने की अनुमति है।

मदुरै

मदुरै

मेरे लिए इस मंदिर का मुख्य आकर्षण मीनाक्षी नायक मंडपम है, जिसे हजारों स्तंभों का हॉल भी कहा जाता है। इसमें खंभे की दो पंक्तियां हैं, जिनमें यली की प्रतिमाएं (पौराणिक जानवर शेर के शरीर और हाथी के सिर के साथ) हैं। हजार पिलर हॉल में 985 (1000 के बजाय) खंभे खपरैल होते हैं। हॉल का निर्माण 1567 में एरियानाथा मुदलियार द्वारा किया गया था और इंजीनियरिंग कौशल और कलात्मक दृष्टि का मिश्रण करता है। हॉल में प्रत्येक स्तंभ द्रविड़ की मूर्तिकला का एक नक्काशीदार स्मारक है।

इस सड़क यात्रा से आपको तमिलनाडु के सबसे खूबसूरत, खूबसूरत, रंगीन और शानदार आकर्षण मिलेंगे। यह प्रकृति और वास्तुकला, और इतिहास और संस्कृति का सबसे अच्छा है।PC:Vinayaraj

Please Wait while comments are loading...