Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »पक्षी प्रेमियों के लिए जन्नत से कम नहीं है पंगोट

पक्षी प्रेमियों के लिए जन्नत से कम नहीं है पंगोट

By Goldi

नैनीताल से महज 15 किमी की दूरी पर स्थित पंगोट एक छोटा सा हिमालयी गांव है, जो प्रकृति प्रेमी और पक्षी प्रेमियों के किसी जन्नत से कम नहीं है। पर्यटक इस खूबसूरत जगह करीबन 250 से ज्यादा प्रवासी और देशी पक्षियों की प्रजातियों को देख सकते हैं।आमतौर पर यहाँ देखे जाने वाले पक्षियों में ग्रिफॉन, रयुफस बेली वुड-पैकर (कठफोड़वा), नीले पंख वाले मिनला, धब्बेदार और स्लेटी फोर्कटेल, लैमरगेयर्स, रयुफस बेली निलतावास और खलीज़ तीतर शामिल हैं। इस गाँव की ओर जाने वाली सड़क से गुज़रते हुए यात्री नैना पीक, स्नो-पीक और किलबरी का नज़ारा कर सकते हैं।

कब जायें पंगोट

कब जायें पंगोट

Pc: SusmitaDebnath
पंगोट का मौसम पूरे साल सुहावना रहता है, सर्दियों में जहां ठंडक बढ़ जाती है, इस दौरान पर्यटक बर्फ से ढकी बर्फीली चोटियों को देख सकते हैं। वहीं गर्मियों पर मानसून में यहां का तापमान बेहद सामान्य रहता है, इस मौसम में रंग बिरंगे पक्षियों को निहार सकते हैं।

कैसे जायें पंगोट

कैसे जायें पंगोट

Pc: Priya yadav1234

सड़क द्वारा
नैनीताल से पंगोट आसानी से सड़क द्वारा पहुंचा जा सकता है, पंगोट उत्तरी भारत के प्रमुख शहरों के साथ मोटर वाहनों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। पंगोट के लिए बसें और टैक्सी आसानी से उपलब्ध हैं।

हवाईजहाज से
पंगोट का निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर है, जोकि करीबन 58 किमी की दूरी पर स्थित है, पर्यटन पहवाई अड्डे से पंगोट के लिए टैक्सी किराये पर ले सकते हैं, जिसका किराया अमूमन 600रूपये है।

ट्रेन द्वारा
पंगोट का नजदीकी रेलवे स्टेशन काठगोदाम है, जोकि करीबन 20 किमी की दूरी पर स्थित है। काठगोदाम से पंगोट का रास्ता करीबन आधे घंटे में आसानी से पूरा किया जा सकता है। काठगोदाम देश के अन्य शहरों से काफी अच्छे से जुड़ी हुई है। पर्यटक काठगोदाम से टैक्सी के जरिये पंगोट पहुंच सकते हैं, जिसका किराया महज 300 रूपये के आसपास है।

क्या करें पंगोट में

क्या करें पंगोट में

Pc:Dibyendu Ash
जैसा की हमने पहले ही बताया कि, पंगोट पक्षी प्रेमियों के लिए एक उत्तम जगह है, पक्षी प्रेमी यहां स्लेटी बैकड फोर्कटेल, रूफस-बेलीड वुडपेकर, रूफस-बेलीड निल्टावा, खलीज फिजेंट जैसे पक्षियों को देख सकते हैं। शहरी कोलाहल से दूर पंगोट एक शांतिप्रिय हिल-स्टेशन है, जहां आप प्रकृति के बीच रंग बिरंगे पक्षियों को निहारते हुए अपने समय व्यतीत को कर सकते हैं। नैनीताल की तरह पंगोट भी हनीमून लवर्स के बीच खासा लोकप्रिय है। हनीमून कपल्स हो या फिर पर्यटक इस जगह एडवेंचर स्पोर्ट्स का जमकर मजा लिया जस कता है, जैसे माउंटेन बाइकिंग, ट्रेकिंग आदि का लुत्फ उठा सकते हैं, जोकि पंगोट से शुरू होकर नैना पर्वत पर खत्म होती है, इसके अलावा एक कॉर्बेट नेशनल पार्क की ओर जाती है।

जरूर देखें महाराष्‍ट्र के ये खूबसूरत पक्षी अभ्‍यारण्‍य

मुक्तेश्वर

मुक्तेश्वर

Pc: Sanjoyg

पंगोट से करीबन 66 किमी की दूरी पर स्थित मुक्तेश्वर नैनीताल जिले में कुमाऊँ की पहाडियों में 2285 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। मुक्तेश्वर के जंगल दुर्लभ हिमालयी पर्वतीय से भरपूर है,यह जगह उन लोगो के लिए एकदम परफेक्ट है जो एकांत में और भीड़भाड़ से दूर अपनी छुट्टियों को बिताना चाहते हैं।

पर्यटक इस खूबसूरत हिलस्टेशन में मुक्तेश्वर मंदिर देख सकते हैं, जोकि मुक्तेश्वर धाम के नाम से जाना जाता है, 350 वर्ष पुराना यह मंदिर हिंदू भगवान शिव को समर्पित है और हिंदुओं के लिए इसका धार्मिक महत्व बहुत अधिक है। पर्यटक पत्थर की बनी हुई घुमावदार, खड़ी सीढ़ियों द्वारा इस मंदिर तक पहुँच सकते हैं।

नैनीताल

नैनीताल

Pc:Rohtash.sharma.iimk
पंगोट से महज 15 किमी की दूरी पर स्थित नैनीताल उत्तराखंड का एक प्रसिद्ध हिलस्टेशन है, जो अपनी झीलों के लिए और प्राचीन प्रसिद्ध नैना देवी मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। अपने खूबसूरत नेचर और फेवरेबल मौसम के कारण पूरे साल यहां पर्यटकों का तांता लगा रहता है। फोटोग्राफी करने के शौकिन लोगों के लिए बहुत खूबसूरत जगह है। इसके अलावा नैनीताल एडवेंचर लवर्स के लिए भी ख़ास है, क्यों की पर्यटक यहां रिवर राफ्टिंग,बंजी जम्पिंग,पैराग्लाइडिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

अल्मोड़ा

अल्मोड़ा

Pc:Rajarshi MITRA
पंगोट से अल्मोड़ा करीबन 80 किमी की दूरी पर बसा हुआ एक बेहद ही खूबसूरत हिलस्टेशन है, जहां की ताज़ी हवा, चीड़ के वृक्षों का साया, घने जंगल और उन जंगलों से गुज़ारना मानो सारी थकान चुटकी भर में दूर कर देती हो। पर्यटक यहां ब्राइट इंड कॉर्नर से पर्यटक सूर्यास्त और सूर्योदय के खूबसूरत नजारे का लुत्फ उठा सकते हैं। वहीं सिमतोला और मरतोला पिकनिक मनाने के लिए एक आदर्श जगह है। इसके अलावा पर्यटक यहां कई प्राचीन मन्दिरों के भी दर्शन कर सकते हैं-जिनमे कुमाऊं की वास्तुशिल्प शैली में बना नंदा देवी मंदिर एक प्राचीन तीर्थ स्थान शामिल है, जो चंद वंश की ईष्ट देवी को समिर्पत है। यहां का कसार देवी मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है, जो कि अल्मोड़ा से 5 किमी दूर है। ऐसा माना जाता है कि दूसरी शताब्दी में बने इस मंदिर में स्वामी विवेकानंद ने तपस्या की थी।

रामगढ़

रामगढ़

नैनीताल से कुछ ही दूरी पर बसा हुआ रामगढ़ एक बेहद ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है, यहां से अप दूर खड़े हिमालय को निहार सकते हैं । यह जगह उन लोगो को बेजद पसंद आएगी जो अपने साथ कुछ पल सुकून के बिताने की चाह रखते हैं। पर्यटक यहां नथुआखान, भीमताल, नौकुचियाताल देख सकते हैं साथ यहां पक्षियों की विभिन्न जातियों को भी निहार सकते हैं।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

Pc: Amir Jacobi
कॉर्बेट नेशनल पार्क उन वन्य जीव प्रेमियों के लिए स्वर्ग है, जो प्रकृति की शांत गोद में आराम करना चाहते हैं। यह राष्ट्रीय उद्यान हिमालय की तलहटी में स्थित है और अपने हरे-भरे वातावरण के लिए जाना जाता है। भारत जंगली बाघों की सबसे अधिक आबादी के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्द है और जिम कॉर्बेट पार्क लगभग 160 बाघों का आवास है। यह रामगंगा नदी के किनारे स्थित है और यहाँ के आकर्षक पर्यटन स्थलों का भ्रमण करने तथा साहसिक सफ़ारी के लिए पर्यटक यहाँ आते हैं।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X