Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» उडुपी

उडुपी पर्यटन - चाँद और सितारों की भूमि

72

कर्नाटक में उडुपी, कृष्ण मंदिर और अपने भोजन के लिए प्रसिद्ध है। इसका नाम माधव समुदाय के एक साधारण स्‍वादिष्‍ट व्‍यंजन से मिलता, जो भगवान को चढ़ाने के लिये पकाया जाता है और ऐसा सदियों से हो रहा है। उडुपी बैंगलोर से लगभग 400 किलोमीटर की दूरी पर है और मैंगलोर से 54 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

यह जगह भगवान कृष्ण को समर्पित मंदिरों के लिए मुख्य रूप से प्रसिद्ध है। माना जाता है कि, भगवान शिव को समर्पित, येल्लूर के निकट स्थित, 1000 से अधिक साल पुराना एक अन्य मंदिर भी है। उडुपी कृष्ण मठ 13 वीं सदी में संत माधवाचार्य द्वारा स्थापित किया गया था।

भगवान को प्रसाद प्रदान करने के लिए जिम्मेदार ब्राह्मण, सरल स्वादिष्ट और स्वास्थ्यकर भोजन पकाते थे। यह भोजन उडुपी भोजन तक ही सीमित नहीं था, बल्कि कर्नाटक और देश भर में प्रसिद्ध था. उनका डोसा विशेष रूप से प्रसिद्ध है।

स्थानीय पौराणिक कथाओं पर एक नज़र

स्थानीय कहावतों के अनुसार, हिंदू ज्योतिष के 27 सितारों ने चंद्रमा से शादी करी थी, और उसके तुरंत बाद ही चंद्रमा ने अपनी चमक खो दी थी. जैसा कि भगवान शिव सभी के लिए अंतिम उपाय के रूप में होते हैं, चंद्रमा और तारों ने एक लिंग बनाया और उसकी पूजा की।

यह लिंग आज भी यहाँ उडुपी में देखा जा सकता है, और इस तरह शहर का नाम यह है. संस्कृत में उडु 'का मतलब भगवान' और पा 'का मतलब सितारें' होता है।

उडुपी में कृष्ण मंदिर से सम्बन्धित कई कहावतें हैं. एक स्थानीय कहावत है कि, 16 वीं सदी में, निचली जातियों से संबंधित कनकदास नाम का एक भक्त, भगवान का दर्शन करना चाहता था। क्योंकि उसे मंदिर के अंदर जाने की अनुमति नहीं थी, कनकदास ने किसी न किसी तरह, छोटी सी खिड़की से भगवान की एक झलक पाने की कोशिश की, लेकिन उनकी पीठ ही देख सका।

कहा जाता है कि, भगवान अपने भक्त को दर्शन देने के लिए उसकी तरफ घूम गए थे।

उडुपी में क्या देखें - उडुपी में पर्यटन स्थल

माल्पे के खूबसूरत समुद्र तट और येल्लूर श्री विश्वेश्वर मंदिर पास के अन्य रोचक स्थान हैं। उडुपी पास के शहरों और सभी प्रमुख शहरों से रेल और सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और मैंगलोर हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है।

वैष्णव के पीछे की मूल अवधारणा में रुचि रखने वालों के लिए द्वैतम के दर्शन सिखाने वाला यहां कृष्ण मठ से जुडा एक गुरुकुल है. किसी भी बजट को सूट करते हुए उडुपी में आगंतुकों के रहने के लिए कई होटल हैं। कई हस्तनिर्मित पारंपरिक खिलौने, जैसे कृष्ण मंदिरों में बच्चों के लिए खिलौने वाले ड्रम, उडुपी में पाये जाते हैं।

उडुपी तक कैसे पहुंचे

उडुपी अच्छी तरह से रेलवे और रोडवेज से जुड़ा हुआ है, हालंकि हवाई मार्गों के लिए यह मंगलौर पर निर्भर है।

उडुपी की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय

दिसंबर-फ़रवरी उडुपी शहर घूमने के लिए आदर्श समय है. ये सर्दियों के महीने अच्छे और आरामदायक होते हैं।

उडुपी इसलिए है प्रसिद्ध

उडुपी मौसम

घूमने का सही मौसम उडुपी

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें उडुपी

  • सड़क मार्ग
    उडुपी से सटी सड़कों में राष्ट्रीय राजमार्ग 66 और राष्ट्रीय राजमार्ग 17 उडुपी की यात्रा को सुलभ बनाते हैं। ये राजमार्ग करकला, धर्मस्थल शिमोगा और श्रीनारी समेत राज्य के भीतर स्थानीय स्थलों से उडुपी को जोड़ते हैं। स्थानीय परिवहन के रूप में बसें उपलब्ध हैं।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    उडुपी स्टेशन कोंकण रेलवे में है और मुंबई, दिल्ली, राजकोट और अहमदाबाद जैसे शहरों से सीधी ट्रेनें यहां के लिये मिलती हैं। उडुपी से उत्तर की ओर जाने पर निकटतम स्टेशन कुन्दपुरा रेलवे स्टेशन है।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    मैंगलोर हवाई अड्डा उडुपी से निकटतम हवाई अड्डा है और उडुपी से 50 किलोमीटर की दूरी पर है।
    दिशा खोजें

उडुपी यात्रा डायरी

One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
18 Jun,Fri
Return On
19 Jun,Sat
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
18 Jun,Fri
Check Out
19 Jun,Sat
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
18 Jun,Fri
Return On
19 Jun,Sat