Tap to Read ➤

केदारनाथ-बद्रीनाथ यात्रा के दौरान मत भूलिये इन 10 मंदिरों में जाना

केदारनाथ-बद्रीनाथ यात्रा के दौरान मुख्‍य मंदिर के पास स्थित इन 10 मंदिरों में जरूर जायें....
अगर आप केदारनाथ धाम की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो एक से दो दिन धाम के पास स्थित कुछ ऐसे मंदिर हैं, जहां आपको जरूर जाना चाहिए। एक नज़र इन मंदिरों पर...
तुंगनाथ मंदिर रुद्रप्रयाग के चंद्रनाथ पर्वत पर स्थित शिव मंदिर है। यह समुद्र जलस्तर से 3680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।
तुंगनाथ मंदिर
यह मंदिर अलकनंदा नदी के सामने बना है। यह मंदिर भगवान बद्रीनाथ की मॉं केा समर्पित है। वामन द्वादशी के दिन यहां पर भव्‍य पूजा का आयोजन होता है।
माता मूर्ति मंदिर
ब्रह्माकपाल मंदिर अलकनंदा नदी के तट पर स्थित है। यहां पर विशेष रूप से लोग अपने पूर्वजों की आत्‍मा की शांति के लिए पूजा करते हैं।
ब्रह्माकपाल मंदिर
भविष्‍य बद्री मंदिर
यह मंदिर 2744 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह तपोवन के पास सुभैन नामक स्‍थान पर है, जोकि जोशीमठ से 17 किमी की दूरी पर है। इस मंदिर में नरसिंह भगवान की प्रतिमा है।
तपकुंड बद्रीनाथ मंदिर और अलकनंदा नदी के बीच स्‍थ‍ित है। चमोली जिले में स्‍थ‍ित इस मंदिर में गर्म पानी का एक कुंड है। बद्रीनाथ बस स्‍टैंड से यह एक किमी की दूरी पर स्थित है।
तपकुंड मंदिर
यह मंदिर भगवान वासुदेव का मंदिर है। यहां पर भगवान वासुदेव की विशाल प्रतिमा है, जिनकी पूजा पूरे साल की जाती है।
नरसिंह मंदिर
मदमहेश्‍वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और यह पंच केदार के भाग के रूप में जाना जाता है। यह पंच केदार का चौथा मंदिर है।
मदमहेश्‍वर मंदिर
ज्‍योतेश्‍वर में स्थित महादेव मंदिर अक्षयवट वृक्ष के नीचे स्थित है। यहां पर हर साल हजारों की संख्‍या में लोग मन्नत मांगने आते हैं।
महादेव मंदिर
पांडुकेश्‍वर में स्थित यह मंदिर पांच बद्री में से एक है। यह बद्रीनाथ मंदिर से करीब 24 किमी दूर पर स्थित है। इस मंदिर का नाम पांडवों के नाम पर रखा गया है, क्‍योंकि उनके पिता पांडु ने यहां पर कुंती से विवाह किया था।
योगबद्री मंदिर
अगली स्‍टोरी - किन-किन देशों में टूर कर चुका है BTS बैंड
Add Button Text