Tap to Read ➤

भारत में इन जगहों पर है स्नैक टेम्पल

शिवांश कहे जाने वाले सांपों का भारतीय संस्कृति में बड़ा जिक्र मिलता है। ऐसे में कई जगह सांप मंदिर भी बनवाए गए हैं, जहां भक्तों की काफी भीड़ देखी जाती है।
Kishan Gupta
कश्मीर में बसा शेषनाग झील, देश के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। कहा जाता है कि इस झील को शेषनाग ने खुद ही बनाई थी और आज भी शेषनाग इस झील में निवास करते हैं।
शेषनाग झील
गुजरात के भुज में स्थित भुजंग नाग मंदिर एक समय में भुजंग का किला हुआ करता था।यहां हर साल नाग पंचमी के दिन एक बड़े मेले का आयोजन होता है।
भुजंग नाग मंदिर
कर्नाटक में बैंगलोर से करीब 60 किमी. दूर स्थित घाटी सुब्रमण्य मंदिर को सांपों का मंदिर भी कहा जाता है। इस मंदिर के मुख्य देवता भगवान सुब्रमण्य और लक्ष्मी नारायण है।
घाटी सुब्रमण्‍य मंदिर
अगसनाहल्ली नागप्पा मंदिर
कर्नाटक के अगसनाहल्ली में स्थित अगसनाहल्ली नागप्पा मंदिर, सांप मंदिर के रूप में भी जाना जाता है। इस मंदिर में अब तक कई श्रद्धालुओं को एक सुनहरा सांप दिखाई दे चुका है।
कुक्के सुब्रमण्या मंदिर
कर्नाटक में मैंगलोर के सुल्लिया तालुका के पास कुमारधारा नदी से घिरे हुए एक छोटे से गांव में स्थित कुक्के सुब्रमण्या मंदिर है। यहां अक्सर लोग सर्प दोष निवारण के लिए आते हैं।
केरल के आलाप्पुड़ा में स्थित मन्नारसला मंदिर करीब 3000 साल पुराना है। यह मंदिर सांपों के देवता नागराज को समर्पित किया गया है।
मन्नारसला मंदिर
कायारोहनस्वामी मंदिर
तमिलनाडु के नागपट्टीनम में स्थित कायारोहनस्वामी मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। कहा जाता है कि त्रेता युग में आदिशेष ने यहां भगवान विष्णु की तपस्या की थी।
तमिलनाडु के नागरकोइल में स्थित नागराज मंदिर भगवान वासुकी और भगवान कृष्ण को समर्पित है, जिसे सांपों के मंदिर के रूप में जाना जाता है।
नागराज मंदिर
तमिलनाडु के तिरुनागेश्वर गांव में स्थित नागनाथ स्वामी मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक मंदिर है, जहां भगवान शिव नागेश्वर रूप में पूजे जाते हैं।
नागनाथ स्वामी मंदिर
अगली स्टोरी - भारत के अंतिम गांव 
आखिरी गांव