Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » जम्मू » आकर्षण
  • 01रघुनाथ मंदिर

    रघुनाथ मंदिर का निर्माण 1857 में महाराजा रणवीर सिंह और उनके पिता महाराजा गुलाब सिंह द्वारा करवाया गया था। इस मंदिर में 7 ऐतिहासिक धार्मिक स्‍थल मौजूद है। मंदिर के आन्‍तरिक हिस्‍सों में सोना लगा हुआ है जो तेज का स्‍वरूप है। मंदिर में कई देवी और...

    + अधिक पढ़ें
  • 02सूरीनसार झील

    सूरीनसार झील

    यह झील जम्‍मू में स्थित झीलों में से सबसे सुंदर झील है जो चारो तरफ पहाड़ से घिरा हुआ है। गर्मियों के दौरान पर्यटक आना काफी पंसद करते है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, सूनीसार झील महाभारत के वीर योद्धा अर्जुन से जुड़ी हुई है। कहा जाता है कि अर्जुन ने अपने तीर...

    + अधिक पढ़ें
  • 03मनसार झील

    मनसार झील

    यह झील मानसरोवर यात्रा के लिए पवित्र मानी जाती है जिसे शुद्धता और साधना का प्रतिविम्‍व भी माना जाता है। यह झील कई मील में फैली हुई है। यहां एक मंदिर भी बना हुआ है जो हिंदूओं के भगवान शेषनाग को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि यदि नवविवाहित जोड़े इस मंदिर में...

    + अधिक पढ़ें
  • 04अख्‍नुर किला

    यह ऐतिहासिक किला जम्‍मू से 32 किमी. की दूरी पर स्थित है जिसे 19 वीं सदी में बनवाया गया था। यह किला चेनाव नदी के तट पर स्थित है। पुरातत्‍वविदों के अनुसार, यह किला कई काल पहले हडप्‍पा संस्‍कृति में बना हुआ है जो बाद में नष्‍ट हो गया था।

    + अधिक पढ़ें
  • 05गंधार जी मंदिर

    गंधार जी मंदिर

    इस मंदिर को जम्‍मू के राजा गंलाब सिंह ने बनवाया था। यह मंदिर मुबारक मंडी के पास स्थित है। यह मंदिर शहर में यहां के वास्‍तुकला के कारण प्रसिद्ध है। यहां भगवान विष्‍णु और लक्ष्‍मी जी की मूर्ति स्‍थापित है।

    + अधिक पढ़ें
  • 06आप शम्भू मंदिर

    आप शम्भू मंदिर

    आप शम्भू मंदिर जम्मू स्थित रूपनगर में स्थित है । इस मंदिर की गिनती जम्मू के सबसे पुराने मंदिरों में होती है। खुद से बना लिंगम  जो भगवान शिव का प्रतीक है यहाँ का मुख्य आकर्षण है । यहाँ के लोकगीतों से पता चलता है की पहले यहां जंगल था और यहाँ चरने...

    + अधिक पढ़ें
  • 07नंदिनी वाइल्‍डलाइफ सेंचुरी

    नंदिनी वाइल्‍डलाइफ सेंचुरी

    यह सेंचुरी जम्‍मू से 28 किमी. की दूरी पर स्थित है। यह नाम यहां स्थित एक गांव के नाम नंदिनी पर रखा है। यह सेंचुरी कुल 34 वर्ग किमी. के क्षेत्र में फैली हुई है। यहा कई प्रकार के जानवर और पशुपक्षी है। साथ ही साथ यहां कई पेड़-पौधे है जो यहां आने वाले पर्यटकों को...

    + अधिक पढ़ें
  • 08मुबारक मंडी पैलेस

    मुबारक मंडी पैलेस, पूर्ववर्ती डोगरा राजाओं के शाही निवास के रूप में पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है। महल का गुलाबी हॉल पर्यटकों के बीच खासा प्रसिद्ध है। महल में मुगल और भारतीय राजस्‍थानी स्‍थापत्‍य कला का अद्वितीय संयोजन देखने को मिलता है। यह महल तवी नदी...

    + अधिक पढ़ें
  • 09अमर महल

    अमर महल को 1890 में डोगरा शासक राजा अमर द्वारा बनवाया गया था। किले की डिजायन को फ्रांसीसी वास्तुकार ने तराशा था। राजा अमर का पूरा परिवार इसी महल में निवास करता था, वर्तमान समय में पुराने काल की कई अनोखी और बहुमूल्‍य वस्‍तुएं यहां देखने को मिलती है। इस महल...

    + अधिक पढ़ें
  • 10महामाया मंदिर

    यह मंदिर डोगरा समुदाय का है। मंदिर का नाम एक महिला स्‍वतंत्रासेनानी महामाया के नाम पर रखा गया है। यह मंदिर 14 वीं सदी में बनाया गया है। महामाया ने आजादी के लिए संघर्ष किया था। मंदिर के पास में बहु किला स्थित है।

    + अधिक पढ़ें
  • 11रनवीरेश्‍वर मंदिर

    रनवीरेश्‍वर मंदिर

    यह मंदिर हिंदू धर्म के भगवान शिव को समर्पित है जिसे 1833 में महाराजा रनवीर ने बनवाया था। इस मं‍दिर में दो हॉल है जिसमें भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय और गणेश जी की मूर्ति स्‍थापित है। मंदिर में 7.5 ऊंची शिवलिंग है जो 12 क्रिस्‍टल में है और हर...

    + अधिक पढ़ें
  • 12रघुनाथ बाजार

    रघुनाथ बाजार

    रघुनाथ बाजार, जम्‍मू का सबसे व्‍यस्‍त मार्केट है। यहां मेवा सबसे ज्‍यादा बिकती है। राज्‍य के हस्‍तशिल्‍प वस्‍तुओं को भी खरीदा जा सकता है। यहां की बर्फी भारत की सबसे स्‍वादिष्‍ट बर्फी है।

    + अधिक पढ़ें
  • 13डोगरा आर्ट म्‍यूजियम

    डोगरा आर्ट म्‍यूजियम

    मुबारक मंडी काम्‍पलेक्‍स में यह संग्रहालय स्थित है। इस संग्रहालय में 800 रेयर आर्टिकल्‍स और पेंटिग्‍स है जो कई स्‍कुलों की है। यहां का मुख्‍य आकर्षण तीर और कमान, सोने की पेंटग्सि जो मुगल काल की है। यहां पर कई हस्‍तलिखित शिलालेख भी रखे...

    + अधिक पढ़ें
  • 14शिव खोरी

    शिव खोरी को देवताओं के घर के रूप में भी जाना जाता है । इस जगह का शुमार जम्मू के अन्य प्रमुख गुफा तीर्थों में होता है क्यूंकि यहाँ पर अपने आप ही एक शिवलिंग की उत्पत्ति हुई थी ।  यहाँ स्थित शिवलिंग 150 मीटर ऊंचा है। ये जगह विनाश के देव शिव के भक्तों...

    + अधिक पढ़ें
  • 15रानी चरक महल

    रानी चरक महल

    तवी नदी के तट पर स्थित रानी चरक महल को 150 साल पहले मुबारक मंडी परिसर में लाल ईटों और मोर्टार के साथ बनाया गया था।

    + अधिक पढ़ें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
05 Dec,Mon
Return On
06 Dec,Tue
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
05 Dec,Mon
Check Out
06 Dec,Tue
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
05 Dec,Mon
Return On
06 Dec,Tue