क्राइस्ट चर्च, शिमला

होम » स्थल » शिमला » आकर्षण » क्राइस्ट चर्च

यह उल्लेखनीय बात है कि शिमला में स्थित यह क्राइस्ट चर्च भारत के उत्तरी भाग में दूसरी सबसे पुरानी चर्च मानी जाती है। इसका निर्माण 1846 से 1857  के बीच की अवधि के दौरान किया गया था। रिज से देखने पर चर्च की खिड़कियाँ रंगीन ग्लासों और ब्रास के सुन्दर टुकड़ों से सजी हुई दिखाई पड़ती हैं।

चर्च कर्नल जे.टी बोइल्यू के द्वारा डिज़ाइन की गई थी। चर्च के स्तंभ पर जो घड़ी है वह सन् 1860 में  स्थापित की गई थी। प्रमुख लेखक रुडयार्ड किपलिंग के पिता लॉकवुड किपलिंग ने, चैपल विंडो, फ्रेस्को इन्सर्किल(भित्ति चित्रों के खांचे) को डिज़ाइन किया था। औपनिवेशिक युग के दौरान, मुख्यतः ब्रिटिश अधिकारी और इनाम के हकदार लोग इस चर्च में प्रार्थना करते थे।

‘सेंट माइकल कैथेड्रल’ इस पहाड़ी क्षेत्र की प्रथम रोमन कैथोलिक चर्च थी। यह 1886 में, वास्तुकला की फ्रेंच-गोथिक शैली में बनाई गई थी। पत्थरों पर उत्कृष्ट नक्काशी और रंगीन ग्लासों से सजी सुन्दर खिड़कियाँ इस इमारत को शानदार टच देती हैं।

Please Wait while comments are loading...