संकटमोचन मंदिर, शिमला

होम » स्थल » शिमला » आकर्षण » संकटमोचन मंदिर

प्रसिद्ध संकट मोचन मंदिर कालका - शिमला राजमार्ग पर समुद्र तल से ऊपर 1975 मीटर की ऊंचाई पर है। यह मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित है, और यह शिमला टाउन और शक्तिशाली हिमालय पर्वतमाला के सम्मोहित कर देने वाले मनोरम दृश्यों को प्रदर्शित करता है।

‘बाबा नीब करोरी जी महाराज’ ने सन् 1950 में इस जगह का दौरा किया और यहाँ की शांति से मंत्रमुग्ध हो गए, सन् 1966 में उन्होंने इस मंदिर की आधारशिला रखी, बाद में प्रशासन द्वारा इसका विस्तार किया गया। मंदिर के परिसर को विभाजित किया गया है और भगवान शिव, भगवान राम और भगवान गणेश की मूर्तियाँ अलग-अलग परिसरों में प्रतिस्थापित हैं।

गणेश मंदिर की डिजाइन दक्षिण भारतीय वास्तुकला शैली को प्रदर्शित करती है। यहाँ का प्रसाद ‘लंगर’ भी कहलाता है जो पूरे साल हर रविवार को भक्तों में बांटा जाता है। यह मंदिर विवाह सहित विभिन्न अनुष्ठानों के आयोजन की भी सुविधा प्रदान करता है।

 

Please Wait while comments are loading...