अम्बाला पर्यटन - जुड़वा शहर

होम » स्थल » अम्बाला » अवलोकन

हरियाणा के अंबाला जिले में स्थित अंबाला एक छोटा शहर तथा एक नगर निगम है। शहर को और राजनीतिक और भौगोलिक रूप से अंबाला शहर तथा अंबाला छावनी जो यहां से केवल 3 किमी दूर है,के रूप विभाजित किया जा सकता है।  अंबाला शहर दो नदी नेटवर्कों गंगा और सिंधु को अलग करती है। उत्तर में, यह नदी घग्गर से सटा हुआ है और इसके दक्षिण में टांगड़ी नदी है।

अंबाला तथा आसपास के पर्यटक स्थल

यद्धपि, अंबाला एक छोटा शहर है, लेकिन यहां कुछेक थोड़े स्थान ऐसे हैं जो घूमने योग्य हैं। चूंकि यह हरियाणा और पंजाब की सीमा पर स्थित है, अतः यह स्थानीय पर्यटन के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भवानी अंबा मंदिर इस स्थान के लोकप्रिय आकर्षणों में से है तथा जिसके नाम पर ही इस शहर का नाम पड़ा है।

शहर में कुछ अन्य आकर्षण बादशाह बाग गुरुद्वारा, शीश गंज गुरुद्वारा, लखी शाह और टकवाल शाह, सेंट पॉल चर्च और काली माता मंदिर हैं।

अंबाला में बाजार

अंबाला में घूमने लायक एक अन्य स्थान यहां का कपड़ा बाजार है। इस सड़क पर सभी प्रकार के कपड़े थोक दामों पर बिकते हैं। बाजार में लगभग 1000 थोक दुकानें हैं, जहां हथकरघा वस्त्र तथा रेशम के सूट और अन्य पोशाक सामग्रियां बिकती हैं।

अंबाला में एक साइंस मार्केट भी है, जहां सभी प्रकार के वैज्ञानिक और सर्जिकल उपकरण उपलब्ध हैं। शहर को 'वैज्ञानिक उपकरणों का नगर' के रूप में भी जाना जाता है।  अंबाला शहर अपने लिनन तथा सोने के आभूषण निर्माताओं के लिए भी लोकप्रिय है।

शहर के बारे में कुछ और

अंबाला उत्तर रेलवे जोन का संभागीय मुख्यालय भी है और इस प्रकार यह राज्य में एक प्रमुख जंक्शन है। अंबाला कैंट रेल खंड भारत की सबसे पुरानी छावनियों में से एक है। अपनी भौगोलिक स्थिति के कारण, यह पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मूकश्मीर के राज्यों से एवं संघ शासित क्षेत्र चंडीगढ़ से आसानी से सुलभ है।

अंबाला यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय

मानसून समाप्त होने के पश्चात अक्टूबर और नवंबर के महीने के दौरान अम्बाला शहर का भ्रमण किया जा सकता है।

अंबाला तक कैसे पहुंचे

अंबाला भारत के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शहर का नजदीकी हवाई अड्डा चंडीगढ़ में है। रेल और सड़क मार्ग से यात्रा करने के लिए अम्बाला कैंट एक प्रमुख सम्पर्क बिंदु के रूप में कार्य करता है।

 

Please Wait while comments are loading...