बेसीलिका ऑफ बोम जीसस, प्राचीन गोवा

होम » स्थल » प्राचीन गोवा » आकर्षण » बेसीलिका ऑफ बोम जीसस

यह चर्च इस क्षेत्र में ईसाई धर्म लाने के लिये ज़िम्मेदार पुजारी सेंट फ्रांसिस जेवियर का घर है और यह चर्च संपूर्ण विश्व से हजारों ईसाई या गैर ईसाई पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करता है, जहाँ इस बात का अनुभव लिया जा सकता है कि दिव्य शक्तियों का क्या महत्व है।  ऐसा कहा जाता है कि महान संत फ्रांसिस जेवियर के पास उपचार की अपार शक्ति थी जो आज भी उनके नश्वर अवशेषों में प्रतिबिंबित होता है।  इस बात का साक्ष्य तब मिलता है जब दस साल में एक बार संत का शरीर लोगों के दर्शनार्थ रखा जाता है।  यह अंतिम बार सन 2004 में रखा गया था।

बोम जीसस से तात्पर्य है अच्छा जीसस(यीशु) या शिशु जीसस(यीशु), जिसे वे अनिवार्य रूप से समर्पित थे।

इतिहास

बेसीलिका ऑफ बोम जीसस का उद्घाटन 1605 में फ़ादर एलेक्सियो दे मेनेज़ेस ने किया तथा यह लगभग 400 साल पुराना है और यह पर्यटकों और तीर्थयात्रियों के लिये प्रतिदिन खुला रहता है।  चर्च के अंदर तीर्थयात्री पूजा कर सकते हैं और जटिल कलाकृतियों का भ्रमण कर सकते हैं जो सेंट फ्रांसिस जेवियर के जीवनकाल का वर्णन करती हैं।  संत फ्रांसिस के अवशेष अच्छी तरह से सने हुए कास्केट में रखे हैं।  मकबरे का अधिकांश भाग 17 वीं शताब्दी के एक मूर्तिकार गिओवंनी बततिस्ता फोग्गिनी द्वारा बनाया गया है।  पूरा चर्च जेसुइट वास्तुकला के सिद्धांतों पर बनाया गया है।

ऐसा कहा जा रहा है कि चर्च के निवासियों, तीर्थयात्रियों और पर्यटकों के लिये चर्च की छत को जस्ते के द्वारा हरा बनाया जा रहा है।  वर्तमान में एस्बेस्टोस की छत है जिसका स्थान जस्ते की छत लेगी।  यूनेस्को की 400 साल पुरानी विश्व विरासत को संरक्षित करने का यह अभियान भारत का इस क्षेत्र में पहला अभियान है।

व्यापक रूप से विरोध किया गया प्रोफेस्ड हाउस

प्रोफेस्ड हाउस चर्च के परिसर में एक अलग संरचना है और इसका निर्माण चर्च के निर्माण के बीस वर्ष पहले 1585 में हुआ था।  तब से जेसुइट मिशनरियों ने इस जगह को सुदूर पूर्व से संबंधित गतिविधियों के लिए वापस अपना आधार बनाया।  जेसुईट को सीनेट के सख्त विरोध का सामना करना पड़ा जिसके लिये उन्हें चर्च का निर्माण करने की अनुमति नही मिली।  विरोध के बावजूद जेसुईट्स ने एक रात को एक छोटा सा चर्च खोल लिया जिसके दरवाजे पर यीशु द्वारा किये गए कार्यों का उल्लेख था और सामान्य लोगों को सामूहिक रूप से जश्न मनाने के लिये आमंत्रित किया।  तब से सीनेट असहाय था परंतु उन्हें उनकी गतिविधियों के बारे में जाने दिया गया।  यह प्रोफेस्ड हाउस आज भी चर्च के परिसर में एक अलग इमारत है और पर्यटकों की पसंदीदा जगह है।

वहाँ कैसे पहुँचे?

बेसीलिका ऑफ बोम जीसस गोवा की राजधानी पणजी के बहुत निकट है।  आपको पणजी, वास्को दा गामा शहर या मडगांव से टैक्सी आसानी से मिल सकती है।  वे तीर्थयात्री जो उत्तर गोवा जैसे बागा, कलंगुट और केनडोलिम में रुके हैं उनके लिये भी टैक्सियां उपलब्ध हैं हालांकि यदि आप एक पूरे दिन पणजी और दक्षिण के चर्च का भ्रमण करना चाहते हैं तो बेहतर यह होगा कि आप अपना स्वयं का किराये पर लिया हुआ वाहन अपने पास रखें।

Please Wait while comments are loading...