Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल » कोणार्क » आकर्षण
  • 01अस्तरंग

    अस्तरंग

    अस्तरंग कोणार्क के निकट स्थित एक मछली मारने का स्थान है। यह स्थान देवी नदी के मुहाने पर स्थित है। यह कोणार्क से 19 किमी की दूरी पर स्थित है। अस्तरंग दो शब्दों से मिलकर बना है, उड़िया भाषा में अस्त का अर्थ है सूर्यास्त और रंग का अर्थ तो रंग होता ही है। सूर्यास्त के...

    + अधिक पढ़ें
  • 02सूर्य मन्दिर

    कोणार्क का सूर्य मन्दिर देखते ही बनता है। कोणार्क के केन्द्र में स्थित यह मन्दिर ओडिशा मन्दिर शैली की वास्तुकला के चरम को प्रदर्शित करता है। यह पत्थरों से तराशा गया सबसे अचम्भित करने वाली इमारत है। अपने विशिष्ट संरचनात्मक डिजाइन के कारण सूर्य मन्दिर दुनिया भर से...

    + अधिक पढ़ें
  • 03रामचण्डी

    रामचण्डी मन्दिर ओडिशा के पुरी जिले में कोणार्क से 5 किमी की दूरी पर स्थित है। यह कोणार्क के शाही देवता रामचण्डी का मन्दिर है जिन्हें पवित्रता से पूजा जाता है। मन्दिर कुशभद्रा नदी के मनमोहक तट पर स्थित है। मन्दिर पुरी के शक्ति पीठों में एक के रूप में विख्यात है।...

    + अधिक पढ़ें
  • 04चन्द्रभागा समुद्रतट

    चन्द्रभागा समुद्रतट कोणार्क के सूर्य मन्दिर से 3 किमी की दूरी पर स्थित है। साफ पानी और ठंडी हवा की के साथ मन्त्रमुग्ध करने वाली सुन्दरता वाला समुद्रतट इस शानदार पर्यटक स्थान पर पर्यटकों का स्वागत करती है। यह सुन्दर समुद्रतट पिकनिक, तैराकी, नौकायन और टहलने के लिये...

    + अधिक पढ़ें
  • 05मायादेवी मन्दिर

    मायादेवी मन्दिर

    कोणार्क का मायादेवी मन्दिर सूर्यमन्दिर परिसर में स्थित है। इस मन्दिर को चायादेवी मन्दिर के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह चायादेवी को समर्पित है। मन्दिर में गर्भगृह और छज्जा या जगमोहना है जो एक चबूतरे पर स्थित है। चबूतरे का अग्रभाग में वास्तुकला की शानदार सजावट...

    + अधिक पढ़ें
  • 06चौरासी

    चौरासी

    चौरासी प्राची नदी के दाहिने तट पर स्थित एक छोटा सा गाँव है। यह स्थान अपने बाराही, अमरेश्वर और लक्ष्मीनारायण के मन्दिरों के लिये जाना जाता है। बाराही को वाराही भी कहा जाता है जो कि देवी माता का नाम है। इस मन्दिर को 10वीं शताब्दी के पहले चौमास में बनवाया गया था।

    ...
    + अधिक पढ़ें
  • 07वैश्णव मन्दिर

    वैश्णव मन्दिर

    कोणार्क का वैष्णव मन्दिर सूर्य मन्दिर परिसर के अन्दर स्थित एक सुन्दर मन्दिर है। ये उन छोटे-छोटे मन्दिरों में से एक है जो सूर्य मन्दिर के मुख्य मन्दिर को चारों ओर स्थित हैं। यह उन दो मन्दिरों में से एक है जो प्रकृति की विध्वंसकारी शक्तियों को पराजित कर आज भी सूर्य...

    + अधिक पढ़ें
  • 08पुरातत्व संग्रहालय

    कोणार्क का पुरातत्व संग्रहालय प्रसिद्ध सूर्य मन्दिर के पास स्थित है। लोग इस संग्रहालय में सूर्य मन्दिर के गौरवशाली अतीत के बारे में जानने और समझने के लिये तथा मन्दिर की मूर्तियों के टुकड़ों को देखने के लिये भारी संख्या में आते हैं। इन टुकड़ों को मन्दिर परिसर से...

    + अधिक पढ़ें
  • 09कुरुमा

    कुरुमा

    कुरुमा कोणार्क पर्यटन का अनोखा आकर्षण है। कुरुमा एक छोटे से गाँव का नाम है जो कोणार्क के सूर्य मन्दिर से 8 किमी की दूरी पर स्थित है। 1971 से 1975 के बीच हुई खुदाई के बाद ही इस छोटे से स्थान को प्रसिद्धि मिली। इस खुदाई में ऊँची दीवारें, हेरुका या घर्म, सूर्य देव...

    + अधिक पढ़ें
  • 10काकतापुर मन्दिर

    काकतापुर मन्दिर ओडिशा के पुरी जिले में पुरी-अस्तरंग रोड पर एक छोटे से गाँव काकतापुर में स्थित है। यह गाँव कोणार्क से 30 किमी की दूरी पर स्थित है। काकतापुर मन्दिर को प्राची नदी के तट पर बनवाया गया था। मन्दिर को देवी मंगला की आराधना के लिये बनवाया गया था।

    ...
    + अधिक पढ़ें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
18 Jan,Tue
Return On
19 Jan,Wed
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
18 Jan,Tue
Check Out
19 Jan,Wed
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
18 Jan,Tue
Return On
19 Jan,Wed