पश्चिमी घाट, मैंगलोर

होम » स्थल » मैंगलोर » आकर्षण » पश्चिमी घाट

पश्चिमी घाट सहयाद्रि रेंज के रूप में भी जाना जाता है। यह भारत के पश्चिमी भाग में फैली हुई एक पर्वत श्रृंखला है। यह करीब 5 राज्यों से चल रही सबसे लंबी श्रेणियों में से एक है। यह, गुजरात और महाराष्ट्र से शुरू होता है, गोवा, कर्नाटक, केरल से गुजरता हुआ 1600 किलोमीटर की लंबाई के साथ तमिलनाडु में कन्याकुमारी में समाप्त होता है। घाट की पहाड़ियां नदियों की जल निकासी के लिए जलग्रहण क्षेत्र बनाती हैं और करीब 40% जल निकास बनाती हैं।

यह विश्व स्तर पर खतरे वाली 325 प्रजातियों के साथ वनस्पतियों और जीव की विभिन्न प्रजातियों का एक हाटस्पाट है। पश्चिमी घाट के चारों ओर 1200 मीटर की ऊंचाई है। भौगोलिक दृष्टि से, पश्चिमी घाट पहाड़ नहीं हैं, बल्कि डेक्कन पठार के किनारे हैं। पश्चिमी घाट मानव निर्मित झीलों और जलाशयों का एक बड़ा संग्रह है।

इनमें से नीलगिरी पहाड़ियों में ऊटी झील और पलानी पहाड़ियों में कोडैकनाल झील प्रसिद्ध झीले हैं। पश्चिमी घाट पूर्व में बंगाल की खाड़ी में बहने वाली गोदावरी, कृष्णा और कावेरी जैसी तीन बारहमासी नदियों के उद्गम के रूप में कार्य करता है। मानसून के दौरान, घाट के नीचे बहती हुई कई धाराएं और नदियां, शानदार झरने बनाती हैं,जिनमें से कर्नाटक राज्य में पड़ने वाला जाग फॉल्स देश में सबसे बड़े झरनों में से एक है।

पश्चिमी घाट पश्चिम की ओर बहने वाली नमीवाली हवाओं को पश्चिम की ओर के लिए रोकने का काम करता है। पश्चिमी घाट कई उष्णकटिबंधीय पर्यावरण क्षेत्रों का घर है। पश्चिमी घाट लगभग हिमालय के बराबर का हमारे देश में एक महत्वपूर्ण पारिस्थितिक प्रणाली है, क्योंकि यह पूरे देश के पर्यावरण और जलवायु के लिए संतुलन का एक केन्द्र है।

Please Wait while comments are loading...