श्रृंगेरी — धार्मिक लोगों के लिए एक नगरी

होम » स्थल » श्रृंगेरी » अवलोकन

पूज्य हिंदू संत आदि शंकराचार्य ने शांत तुंगा नदी के तट पर स्थित इस श्रृंगेरी में अपना पहला मठ बनाया था। तब से श्रृंगेरी हजारों तीर्थयात्रियों के लिए एक महत्वपूर्ण गंतव्य हो गई है, जो वर्ष भर आसपास से इस खूबसूरत शहर की यात्रा के लिए आते है।

श्रृंगेरी के सन्दर्भ में मिथक और किवदंतियां - श्रृंगेरी के आसपास के पर्यटक स्थल

श्रृंगेरी, कर्नाटक की चिक्‍कमांगलुर जिले में एक सम्पदा से संपन्न हरी भूमि है। किंवदंती है कि आदि शंकराचार्य ने इस स्थान को अपने मठ का निर्माण के लिए चुना जब उन्होंने श्रृंगेरी में उनके आगमन के बाद कुछ उल्लेखनीय देखा। देश भर से लोग यहां पर अपने बच्‍चों का पाटी-पूजन (पहली बार पढ़ने लिखने के लिये की जाने वाली पूजा) कराने आते हैं। जब वे तुंगा नदी के किनारे पर भटक रहे थे, उन्होंने एक भुजंग को एक गर्भवती मेंढक को कठोर सूरज से बचाने के लिए अपने फण का प्रसार किया देखा। भुजंग को अपने प्राकृतिक दुश्मन से परोपकार करते देख, शंकराचार्य ने महसूस किया कि श्रृंगेरी सही मायने में अनूठा था। आज, हजारों श्रद्धालु हर दिन उनकी शारदा पीठ का दौरा करते है।

श्रृंगेरी में अन्य प्रसिद्ध स्थानों की यात्रा में विद्याशंकर और शर्दाम्बा के मंदिर शामिल हैं। विद्याशंकर मंदिर अपने 12 स्तंभों के लिए प्रसिद्ध हैं, जो कहा जाता है, राशि चक्र के संकेत के साथ मेल खाते है। इसके अलावा, मंदिर खगोलीय अवधारणाओं के अनुसार बनाया गया है।

श्रृंगेरी का मौसम

श्रृंगेरी में साल भर बहुत ही सुखद जलवायु होता है।

श्रृंगेरी कैसे जाएं

मंगलौर निकटतम हवाई अड्डा है। यह शहर बैंगलोर से 340 किलोमीटर पर स्थित है और अच्छी तरह से बस मार्गों से जुड़ा है। निकटतम रेलवे स्टेशन शिमोगा और कडुर होंगे।

Please Wait while comments are loading...