Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» आदिलाबाद

आदिलाबाद पर्यटन – विभिन्न संस्कृतियों के मिलन को प्रदर्शित करता एक शहर

20

आदिलाबाद एक नगरपालिक शहर है जो आदिलाबाद जिले में स्थित है। इस शहर में जिले का मुख्यालय भी है। आदिलाबाद जिला, दक्षिण भारत के आंध्र प्रदेश राज्य का एक भाग है। स्थानीय मिथकों के अनुसार इस शहर को इसका नाम मुहम्मद आदिल शाह से मिला है जो किसी समय बीजापुर के शासक थे।

आदिलाबाद का इतिहास बहुत रोचक है क्योंकि किसी समय यह शहर विभिन्न संस्कृतियों और धर्मों के संगम का उत्कृष्ट उदाहरण था। इस स्थान पर कई उत्तर भारतीय राजवंशों ने शासन किया जैसे कि मौर्य, नागपुर के भोंसले राजा और मुग़ल। आदिलाबाद दक्षिण भारतीय राजवंशों का भी हिस्सा रहा है जिनमें सातवाहन, वकाताका, राष्ट्रकूट, काकतीय, चालुक्य और बरार के इमाद शाही सम्मिलित हैं।

इसका मुख्य कारण इस क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति है। यह शहर मध्य भारत और दक्षिण भारत की सीमा पर स्थित है और यही कारण था कि इस पर दोनों ओर से आक्रमण होते थे। इसका परिणाम यह हुआ कि आदिलाबाद का आधुनिक इतिहास मराठी और तेलगु संस्कृतियों का रोचक मिश्रण बन गया।

आदिलाबाद के स्थानीय लोग ऐसी परंपराओं का पालन करते हैं जो इन दोनों संस्कृतियों का मिश्रण हैं और अब ये परंपराएं उनके दैनिक जीवन का एक हिस्सा बन गई हैं। इस क्षेत्र में गुजराती, बंगाली और राजस्थानी संस्कृतियाँ भी व्यापक रूप से देखने को मिलती हैं।

आदिलाबाद और इसके आसपास के पर्यटन स्थल

आदिलाबाद, आंध्र प्रदेश का एक महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल है। आदिलाबाद में जो देखने योग्य स्थल हैं उनमें कुंतला जलप्रपात (वाटर फाल्स), सेंट जोसेफ़ गिरिजाघर (कैथेड्रल), कदम डैम, सदर मट्ठ एनीकट, महात्मा गाँधी पार्क और बसरा सरस्वती मंदिर सम्मिलित हैं।

आदिलाबाद का स्वर्ण युग

आदिलाबाद को मुग़ल शासन काल के दौरान बहुत प्रसिद्धी मिली। औरंगजेब ने अपने राज्य के दक्षिण भाग की देखभाल करने के लिए एक अधिकारी को नियुक्त किया था जिसे डेक्कन का वाइसरॉय कहा जाता था। औरंगज़ेब के शासनकाल में यह क्षेत्र एक प्रमुख व्यापारीय और वित्तीय केंद्र के रूप में विकसित हुआ।

इस शहर में पड़ोसी नगरों के अलावा दूर के शहरों जैसे कि दिल्ली से मसालों, कपड़ों और अन्य उत्पादों का आयात एवं निर्यात होता था। औरंगजेब ने यह सुनिश्चित किया था कि इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्था का अच्छी तरह ध्यान रखा जा सके। उसने ऐसा इसलिए किया क्योंकि वह जानता था कि भारत के बादशाह के रूप में अपनी पहचान बनाने के लिए, दक्षिण के इस क्षेत्र आदिलाबाद को अपने नियंत्रण में रखना ही होगा।

आदिलाबाद की आर्थिक परिस्थिति तब तक बहुत अच्छी थी जब तक ईस्ट इंडिया कंपनी दक्षिण तक नहीं पहुँची थी। निज़ाम ने आदिलाबाद और इसके आसपास के क्षेत्र को पैसे के लिए बेच दिया। वर्ष 1860 में आदिलाबाद के लोगों ने रामजी गोंड के नेतृत्व में इस खरीद फ़रोख्त के खिलाफ बगावत कर दी। 1940 में भारत के पूर्ण स्वतंत्रता के संघर्ष में आदिलाबाद ने फिर से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

आदिलाबाद कैसे पहुंचे

रोड और ट्रेन के द्वारा आदिलाबाद आसाने से पहुंचा जा सकता है। राष्ट्रीय राजमार्ग 7 इस शहर से होकर गुजरता है। यह शहर बसों द्वारा भी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और आसपास के शहरों से आदिलाबाद आने के लिए टैक्सियां भी उपलब्ध हैं। बसें वातानिकूलित नहीं है, केवल हैदराबाद और मुंबई से आने वाली बसें ही वातानुकूलित हैं।

हालांकि बस से यात्रा करना काफ़ी सुविधाजनक है क्योंकि सड़कें बहुत अच्छी हैं। आदिलाबाद के नज़दीक का सबसे बड़ा शहर नागपुर है परन्तु अधिकतर लोग हैदराबाद से यहाँ आना पसंद करते हैं। आदिलाबाद का रेलवे स्टेशन भी कई बड़े शहरों जैसे कि नागपुर, तिरुपति, हैदराबाद और नासिक आदि से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

महाराष्ट्र के कई शहर नासिक, मुंबई, नागपुर, शोलापुर आदि भी रेलगाड़ियों द्वारा आदिलाबाद से जुड़े हुए हैं। इस शहर के सबसे नज़दीक के हवाईअड्डे नागपुर और हैदराबाद में हैं। नागपुर का हवाईअड्डा घरेलू हवाईअड्डा है पर यह भारत के सभी भागों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हैदराबाद का हवाईअड्डा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा है और यहाँ भारत और विश्व के सभी मुख्य शहरों से उड़ानें आती हैं।

आदिलाबाद का मौसम

आदिलाबाद की जलवायु उष्णकटिबंधीय प्रकार है इसलिए गर्मियों में यहाँ अत्यधिक गर्मी होती है और ठंड काफ़ी हल्की होती है। गर्मियों में मौसम बहुत गर्म, आद्रता से भरा हुआ होता है इसलिए इस समय के दौरान आदिलाबाद आने की सलाह नहीं दी जाती। इस क्षेत्र में भरी बारिश नहीं होती इसलिए शहर की पानी की मांग को पूरा करने के लिए डैम और जलाशय बनाये गए हैं।

ठंड का मौसम बहुत सुहावना होता है और इस समय लोग पर्यटक स्थलों को देखने के लिए आदिलाबाद आना पसंद करते हैं। हालांकि पर्यटकों को शाल और हलके जैकेट रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि शाम और रात को मौसम ठंडा हो जाता है।

 

आदिलाबाद इसलिए है प्रसिद्ध

आदिलाबाद मौसम

घूमने का सही मौसम आदिलाबाद

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें आदिलाबाद

  • सड़क मार्ग
    आदिलाबाद बस द्वारा भी पहुंचा जा सकता है। यहाँ आने के लिए बस ही सबसे उपयुक्त साधन है क्योंकि ये आपको बिल्कुल शहर के मध्य तक ले जाती हैं। आसपास के शहरों और अन्य राज्यों के कई शहरों से आदिलाबाद के लिए बसें चलती हैं। हालांकि आदिलाबाद के लिए डीलक्स और वातानुकूलित बसें केवल हैदराबाद से चलती हैं।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    आदिलाबाद में रेलवे स्टेशन है और यहाँ आसपास के शहरों जैसे कि नांदेड़, नेल्लोर, विजयवाड़ा, हैदराबाद, पटना, नागपुर और मुंबई से रेलगाड़ियाँ आती हैं। ट्रेन का किराया दूरी पर और इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस श्रेणी में यात्रा करते हैं। रेलवे स्टेशन से आगे यात्रा के लिए आप बस या टैक्सी ले सकते हैं।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    आदिलाबाद में कोई हवाईअड्डा नहीं है। सबसे नज़दीक का हवाई अड्डा हैदराबाद में है जो आदिलाबाद से 280 किमी दूर है। आप हवाईअड्डे से शहर तक पहुँचने के लिए कैब ले सकते हैं। इसके लिए आपको 2000-4000 रूपये देने पड़ सकते हैं। सेंट्रल बस स्टेशन से आदिलाबाद जाने के लिए वातानुकूलित बसें उपलब्ध हैं।
    दिशा खोजें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
27 Feb,Sat
Return On
28 Feb,Sun
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
27 Feb,Sat
Check Out
28 Feb,Sun
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
27 Feb,Sat
Return On
28 Feb,Sun

Near by City