चोरवाड़ – मछली पकड़ना, आराम करना और जवान बनना

होम » स्थल » चोरवाड़ » अवलोकन

चोरवाड़ एक छोटा सा गांव था जो मछली पकड़ने के लिए जाना जाता था। जिसका वैभव तब बढ़ा, जब जूनागढ़ के नवाब, मुहम्मद महाब्त खानजी तृतीय रसूल खानजी, जूनागढ़ के क्षेत्रीय गवर्नर ने, 1930 में इस स्थान पर अपना ग्रीष्मकालीन महल बनवाया। यह स्थान स्वतंत्रता तक उनके शासन के अधीन रहा। यह महल दारिया महल के नाम से भी जाना जाता है, और इसकी वास्तु शैली इतालवी और मुस्लिम शैलियों का एक मिश्रण है। बाद में 1974 में सरकार ने इसे अपने अधीन कर लिया और इसे एक रिसॉर्ट में तबदील कर दिया।

चोरवाड़ और उसके आस पास के पर्यटक स्थल

यहां के समुद्र तट चट्टानी समुद्री तटों के कारण तैराकी के लिए असुरक्षित हैं लेकिन आप निश्चित रुप से नौका विहार का आनंद उठा सकते हैं या पास ही के मछली पकड़ने के लिए जाना जाता गांव की यात्रा भी कर सकते हैं। यह सप्ताहांत के दौरान आराम और आनंद लेने के लोकप्रिय स्थलों में से एक है। आसपास के गांवों के मछुवारे मछली पकड़ने के लिए जाने वालों को अपनी पाल नौकाओं को भी देते हैं। कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर कीर्ति मंदिर स्थित है, जो महात्मा गांधी का जन्मस्थान है, तथा यात्रा का एक हिस्सा बन सकता है।

चोरवाड़ की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय

सर्दियों का मौसम चोरवाड़ की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय है।

कैसे पहुंचें चोरवाड़

यात्री रेल और सड़क मार्ग द्वारा चोरवाड़ पहुंच सकते हैं।

 

Please Wait while comments are loading...