Search
  • Follow NativePlanet
Share
होम » स्थल» फलोदी

फलोदी - जो है नमक का शहर

15

राजस्थान के जोधपुर जिले में स्थित पर्यटक केन्द्र फलोदी 'सॉल्ट सिटी' के नाम से मशहूर है। यह स्थान महान थार मरुस्थल के 'गोल्डेन सिटी' जैसलमेर और 'सन सिटी' जोधपुर शहरों के बीच स्थित है। यह काफिलों का पुराना केन्द्र है जहाँ अभी भी मरुस्थल के जहाज, ऊँट पर नमक का व्यापार होता है। फलोडी की सीमायें बीकानेर, नागौर, जैसलमेर और जोधपुर जैसे शहरों से मिलती हैं। यह जिले का दूसरा सबसे बड़ा कस्बा है। फलोदी का इतिहास 15वीं सदी का है और तब इस शहर को 'फलवरिधिका' के नाम से जाना जाता था। 1547 में राव मालदेव राठौर यहाँ के शासक थे किन्तु 1578 में यह बीकानेर के राजा के अधीन आ गया। 1615 में राव सूर सिंह के सत्ता में आने पर यह जोधपुर का भाग बन गया।

संस्कृति, रंग एवं जातीयता

शानदार डिज़ाइन की प्रसिद्ध जूतियाँ, रंग-बिरंगी चूड़ियाँ, चटकीले परिधान पहने महिलायें और मोती तथा चाँदी के गहने इस जगह की विशेष पहचान हैं। क्षेत्र में हिन्दी तथा राजस्थानी भाषायें बोली जाती हैं। समृद्ध संस्कृति के अलावा फलोदी अपने किलों, शाही हवेलियों, बाज़ारों और प्राचीन हिन्दू तथा जैन मन्दिरों के कारण एक पर्यटक आकर्षण है।

फलोदी की ऐतिहासिक इमारतों में विशेष प्रकार की जालीदार और झरोखा वाली राजपुताना शैली दिखाई देती है। 300 साल पुराना फलोदी का किला प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्मारकों में से एक है।

किले की शानदार वास्तुकला शैली दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करती है। फलोदी आने वाले पर्यटक 1750 ई0 में लाल रेतीले पत्थरों से निर्मित लाल निवास को भी देख सकते हैं। पुरानी वस्तुओं और काँच के दीपों से सजाकर इस सुन्दर इमारत को अब प्रमुख ऐतिहासिक (हेरिटेज) होटल में बदल दिया गया है। इस जगह के अन्य उल्लेखनीय आकर्षण सचिया माता मन्दिर, महावीर मन्दिर, रामदेवरा मन्दिर और सूर्य मन्दिर हैं।

 

'डेमॉइसिले सारसों का गाँव' – प्रवासी पक्षियों का स्थान!

इन किलों, ऐतिहासिक इमारतों और प्राचीन मन्दिरों के अलावा फलोदी पक्षियों को देखने की लालसा रखने वाले लोगों के लिये एक स्वर्ग है। क्षेत्र के खीकन गाँव में पर्यटक भारी संख्या में प्रवासी पक्षियों को देख सकते हैं। यह फलोदी से 5 किमी की दूरी पर है और डेमॉइसिले सारसों, जिन्हें स्थानीय लोग कुर्जा कहते हैं, का अस्थाई वासस्थान है। अगस्त से मार्च के बीच का समय इस अद्वितीय पक्षी प्रजाति को देखने का आदर्श समय है जो दक्षिण-पश्चिम यूरोप, यूक्रेन, पोलैण्ड जैसे स्थानों से लम्बी दूरी तय करके खीकन गाँव में थोड़े समय के लिये रुकते हैं। इन पक्षियों के अस्थाई वासस्थान होने की अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता के कारण इस गाँव को 'डेमॉइसिले सारसों का गाँव' के रूप में जाना जाता है।

फलोदी कैसे पहुँचें

नमक का शहर, फलोदी वायु, रेल एवं सड़क मार्गों से आसानी से सुगम है। फलोदी से 135 किमी की दूरी पर स्थित जोधपुर हवाईअड्डा यहाँ के लिये निकटतम हवाई बेस है। विदेशी पर्यटक दिल्ली के इन्दिरा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से यहाँ तक पहुँच सकते हैं। यह अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा मुम्बई, कोलकाता, चेन्नई, गुवाहाटी और बंगलूरू जैसे प्रमुख भारतीय शहरों से नियमित उड़ानों के द्वारा जुड़ा हुआ है।

पर्यटक बीकानेर, जैसलमेर, लालगढ़, पुरानी दिल्ली और जोधपुर से गाड़ियों द्वारा भी यहाँ तक पहुँच सकते हैं। फलोदी के लिये हवाईअड्डे और रेलवेस्टेशन दोनों जगहों से टैक्सियाँ आसानी से उपलब्ध रहती हैं। आरामदायक और सुविधाजनक बस सेवाओं के द्वारा भी यहाँ तक पहुँचा जा सकता है। जोधपुर, अजमेर, जयपुर, बेवर, आगरा, इलाहाबाद और कानपुर जैसे प्रमुख पर्यटक गन्तव्यों से यात्री निजी अथवा सरकारी बस सेवाओं का लाभ ले सकते हैं।

फलोदी क्षेत्र में साल भर ऊष्णकटिबन्धीय जलवायु का अनुभव होता है। गर्मियाँ 45 डिग्री सेल्सियस के अधिकतम तापमान के साथ बेहद गर्म होती हैं और सर्दियाँ 5 डिग्री सेल्सियस के न्यूनतम तापमान के साथ कँप-कपा देने वाली होती हैं। फलोदी में छुट्टियाँ बिताने का सर्वश्रेष्ठ समय सर्दियों का मौसम होता है।

 

फलोदी इसलिए है प्रसिद्ध

फलोदी मौसम

घूमने का सही मौसम फलोदी

  • Jan
  • Feb
  • Mar
  • Apr
  • May
  • Jun
  • July
  • Aug
  • Sep
  • Oct
  • Nov
  • Dec

कैसे पहुंचें फलोदी

  • सड़क मार्ग
    पर्यटक यहाँ तक बसों के द्वारा भी पहुँच सकते हैं। जोधपुर, अजमेर, जयपुर, बेवर, आगरा, इलाहाबाद और कानपुर से निजी अथवा सरकारी बसें उपलब्ध रहती हैं।
    दिशा खोजें
  • ट्रेन द्वारा
    फलोदी का खुद का रेलवे स्टेशन है जो कि बीकानेर, जैसलमेर, लालगढ़, पुरानी दिल्ली और जोधपुर जैसे प्रमुख गन्तव्यों से अच्छी तरह से जुड़ा है। फलोदी तक पहुँचने के लिये पर्यटक वातानुकूलित डिब्बों अथवा साधारण स्लीपर में आरक्षण करा कर पहुँच सकते हैं। रेलवे स्टेशन से फलोदी के लिये किफायती दरों पर टैक्सियाँ उपलब्ध रहती हैं।
    दिशा खोजें
  • एयर द्वारा
    फलोदी के लिये निकटतम हवाईअड्डा जोधपुर में स्थित है जोकि यहाँ से 135 किमी की दूरी पर है। पर्यटक फलोदी तक पहुँचने के लिये टैक्सियाँ ले सकते हैं। विदेशी पर्यटक दिल्ली के इन्दिरा गाँधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से फलोदी तक पहुँच सकते हैं। यह अन्तर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा मुम्बई, कोलकाता, चेन्नई, गुवाहाटी और बंगलूरू जैसे प्रमुख भारतीय शहरों से दैनिक उड़ानों के द्वारा जुड़ा हुआ है।
    दिशा खोजें
One Way
Return
From (Departure City)
To (Destination City)
Depart On
27 Oct,Wed
Return On
28 Oct,Thu
Travellers
1 Traveller(s)

Add Passenger

  • Adults(12+ YEARS)
    1
  • Childrens(2-12 YEARS)
    0
  • Infants(0-2 YEARS)
    0
Cabin Class
Economy

Choose a class

  • Economy
  • Business Class
  • Premium Economy
Check In
27 Oct,Wed
Check Out
28 Oct,Thu
Guests and Rooms
1 Person, 1 Room
Room 1
  • Guests
    2
Pickup Location
Drop Location
Depart On
27 Oct,Wed
Return On
28 Oct,Thu